अपराधियों पर लेडी सिंघम की बड़ी कार्रवाई, सहरसा में लूट के सात लाख रुपये के साथ पांच अपराधी गिरफ्तार

सहरसा में लेडी सिंघम लीपी सिंह के नेतृत्‍व में अपराधियों पर बड़ी कार्रवाई की गई है। लूट के सात लाख रुपये के साथ पांच बदमाशों को पुलिस ने गिरफतार किया है। अपराधियों ने दरभंगा सहरसा सीमा के पास इसे...!

Abhishek KumarThu, 16 Sep 2021 05:46 PM (IST)
सहरसा की पुलिस अधीक्षक लिपी सिंह। जागरण।

जासं,सहरसा। दरभंगा-सहरसा सीमा पर बारह सितंबर को निजी फाइनेंस कंपनी फिनो पेमेंट््स के डिस्ट्रीब्यूटर अली नगर निवासी मसीहउज्जमा से बदमाशों ने लूट की घटना का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने लूटी गयी राशि में से सात लाख तीस हजार रुपये बरामद कर लिये हैं। जबकि इस मामले में शामिल पूरे गैंग को गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस ने निजी बैंक के डिस्ट्रीब्यूटर को फिलहाल शहर छोडऩे से मना दिया है।

इस बाबत जानकारी देते हुए एसपी लिपि सिंह ने बताया कि इस घटना को लेकर मुख्यालय डीएसपी एजाज हाफिज माननी के नेतृत्व में अंचल इंसपेक्टर राकेश कुमार सिंह, सदर थानाध्यक्ष जयशंकर प्रसाद, महिषी थानाध्यक्ष राजेश कुमार व अन्य पुलिस पदाधिकारियों की टीम का गठन किया गया। इसी दौरान सदर थानाध्यक्ष को सूचना मिली कि सरबा ढ़ाला के समीप कुख्यात बदमाश रंजन यादव अपने दो साथियों के साथ आया है और किसी घटना को अंजाम देने की योजना बना रहा है।

तत्काल कार्रवाई करते हुए रंजन यादव को गोलू गोस्वामी व केशव मिश्रा के साथ दबोच लिया गया। पूछताछ के दौरान उन लोगों ने लूट की घटना में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली तथा लूटी गयी रकम झाड़ा में होने की जानकारी दी। इसके बाद पुलिस ने झाड़ा में उसके घर पर छापामारी की यहां पुलिस ने रंजन के भाई अनिल यादव व उसके दामाद रोहित यादव को सात लाख तीस हजार रुपये के साथ गिरफ्तार कर लिया। एसपी के अनुसार जेल में बंद एक शातिर के इशारे पर इस घटना को अंजाम दिया गया। पुलिस ने बदमाशों के पास से एक पिस्टल, दो गोली, दो देसी कट्टा व उसकी चार गोली भी बरामद की।

- जलई ओपी के झाड़ा से सात लाख तीस हजार रुपये बरामद

- महज दस लाख रुपये की हुई थी लूट : एसपी

- बैंक डिस्ट्रीब्यूटर ने दर्ज कराया था बीस लाख का मामला

- सीमा के विवाद में विलंब से जलई ओपी में दर्ज हुआ था मामला

दस लाख की हुई थी लूट

एसपी ने दावा किया कि मात्र दस लाख रुपये की लूट हुई थी। पकड़े गये बदमाशों व बरामद रुपये लूट की पूरी कहानी बता रहे हैं। एसपी ने बताया कि बदमाशों ने लूट के बाद लगभग तीन लाख रुपये खर्च कर दिये। जबकि निजी फाइनेंस के डिस्ट्रीब्यूटर ने बीस लाख रुपये की लूट का दावा किया था। एपी ने कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि अधिक रकम के लूट का मामला दर्ज करवा कर बांकी रकम हजम करने का इरादा डिस्ट्रीब्यूटर का था। पुलिस इसकी तहकीकात कर रही है। डिस्ट्रीब्यूटर को फिलहाल शहर नहीं छोडऩे की हिदायत दी गयी है।

दामाद था लाइनर

एसपी ने बताया कि रंजन यादव के भाई का दामाद बघवा निवासी रोहित यादव इस घटना का लाइनर था। उसकी सूचना पर ही लूट की योजना बनायी गयी और इसे अंजाम दिया गया।

रंजन यादव द्वारा लूट के मामले थी अंतिम सुनवाई

एसपी ने बताया कि रंजन यादव आदतन बदमाश है। इससे पहले सदर थाना क्षेत्र के कहरा रोड स्थित एक गोदाम में लूटपाट के दौरान मजदूरों ने दो बदमाशों को पकड़ लिया था। मजदूरों ने रंजन यादव व उसके एक साथी को पुलिस को सौंपा था। इस मामले में न्यायालय में गुरूवार को अंतिम सुनवाई थी। बताया कि इस पूरे गिरोह का संचालन जेल से कौशल यादव नामक बदमाश कर रहा है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.