भारी बारिश के बाद अब कोसी के केले के किसान पनामा रोग से परेशान

पनामा बीमारी के कारण 50 से 60 प्रतिशत फसल को हो चुका है नुकसान
Publish Date:Thu, 01 Oct 2020 07:32 PM (IST) Author: Dilip Shukla

पूर्णिया, जेएनएन। धमदाहा अनुमंडल केले की खेती के लिए प्रदेश में मशहूर है। यहां के 70 प्रतिशत किसान केले की खेती पर निर्भर है। विदित हो कि केले की खेती किसानों के लिए नकदी फसल है और इसमें किसानों के अन्य फसलों की अपेक्षा अधिक आर्थिक लाभ होता है। यही कारण है कि इस क्षेत्र के केले की खेती करने वाले किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है। लेकिन विगत चार-पांच वर्षों से केले की फसल में बड़े पैमाने पर पनामा बीमारी का प्रकोप हो गया है।

पनामा बीमारी के प्रकोप के कारण केले के पौधे सड़ कर बर्बाद हो जाता है। पनामा बीमारी के कारण 50 से 60प्रशित फसल नुकसान हो रही है। किसानों का कहना है कि पनामा बीमारी से सुरक्षा हेतु महंगी दवाई का प्रयोग करने के बाद भी मुक्ति व छुटकारा नहीं मिल रही है। इसलिए धमदाहा अनुमंडल ने केले की खेती कम हो गई है। यही कारण है कि किसान केले की खेती से विमुख हो रहे। क्योंकि बीमारी के कारण लागत मूल्य किसानों को प्राप्त नहीं हो रहा है। किसानों का कहना कि यदि पनामा बीमारी का प्रकोप इसी तरह रहा तो अगले एक-दो वर्ष में धमदाहा अनुमंडल में केले की फसल देखने को नहीं मिलेगी। वहीं दूसरी ओर किसानों की शिकायत है कि सरकार भी पनामा बीमारी के उन्मूलन हेतु कुछ नहीं कर रही है। किसानों का कहना है कि 1 एकड़ केले की खेती में एक लाख से अधिक की लागत आती है। पनामा बीमारी एवं लगातार महीनों से हो रही भारी बारिश के कारण केले की फसल बड़े पैमाने पर बर्बाद हो गई है। इस कारण किसानों को लागत मूल्य ऊपर नहीं हो रहा है। जबकि किसानों ने कर्ज लेकर खेती की है। किसान महाजन को कर्ज कैसे वापस करेगा या यक्ष प्रश्न है। किसानों का कहना है कि केले की जो फसल बची है उसकी वाजिब कीमत किसानों को नहीं मिल रही है। केले की जिस खादी की कीमत 300 सौ रूपये होनी चाहिए थे वही आज 80 से 100 रूपये प्रति दर बिक रही है। वहीं दूसरी ओर केले का व्यापारी नहीं होने के कारण केला खेत में पक् कर बर्बाद हो रहा है। किसानों ने सरकार से किसान एवं केले की हित में जल्द से जल्द पनामा बीमारी के उन्मूलन हेतु दवा निकालने की मांग की है ताकि किसान केले की खेती प्रत्यय है और उनकी आर्थिक स्थिति बेहतर होती रहे।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.