पूर्व सांसद पप्‍पू यादव बोले- मुझे DMCH भेजा रहा है, जहां मौत ही मौत..., कोरोना संक्रमित करना चाहती है सरकार

दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में जाप सुप्रीमो पप्पू यादव को एंबुलेंस से उतारते पुलिसकर्मी।

पूर्व सांसद सह जाप सुप्रीमो राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को बेहतर इलाज के लिए भारी सुरक्षा-व्यवस्था बीच दरभंगा ले जाया गया। डीएमसीएच में उनका इलाज होगा। इस बीच पप्‍पू यादव ने सरकार की मंशा पर कई सवाल उठाए हैं।

Dilip Kumar ShuklaThu, 13 May 2021 07:21 PM (IST)

जागरण संवाददाता, सुपौल। जन अधिकार पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पूर्व सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को बेहतर इलाज के लिए भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच गुरुवार को सुपौल वीरपुर जेल से डीएमसीएच दरभंगा के लिए ले जाया गया। जानकारी अनुसार जिलाधिकारी के आदेश से सिविल सर्जन द्वारा गठित तीन सदस्यीय डॉक्टरों की जांच टीम ने उनके स्वास्थ्य की जांच की। डॉक्टरों की टीम ने उन्हें हायर सेंटर रेफर करने की अनुशंसा की। टीम में वीरपुर अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी डॉ बीरेंद्र प्रसाद, डॉ मनोज कुमार झा एवं डॉ पंकज कुमार शामिल थे। स्वास्थ्य रिपोर्ट के आधार पर कोर्ट के आदेश पर उन्हें डीएमसीएच भेजने की प्रक्रिया शुरू की गई।

इस बीच पप्‍पू यादव ने ट्वीट पर राज्‍य सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्‍होंने लिखा है कि सरकार की मंशा है कि वे कोरोना संक्रमित हो जाएं। इसलिए सरकार यहां से वहां कर रही है। उन्‍होंने कहा कि पटना के गांधी मैदान थाना में उन्‍हें नौ घंटा रखा गया। फिर मधेपुरा ले जाने में चार घंटा लगाया। वीरपुर लाने में  दो घंटे लगे, वीरपुर जेल के बाहर दो घंटा रहना पड़ा। जेल में दो दिन रहे। उन्‍होंने प्रश्‍न उठाया कि क्‍या कोरोना वायरस के संक्रमण के बीच इस तरह यहां से वहां करना उचित है। ऐसे प्रश्‍न

गौरतलब हो कि एक 32 साल पुराने मामले में हुई गिरफ्तारी एवं न्यायालय द्वारा 14 दिनों के न्यायिक हिरासत में भेजने के आदेश के उपरांत पूर्व सांसद को मंगलवार की देर रात वीरपुर जेल लाया गया था। अपनी गिरफ्तारी के बाद से ही पूर्व सांसद अपनी बीमारी एवं हाल में हुए पैर की सर्जरी का हवाला देते हुए चिकित्सीय सुविधा उपलब्ध कराने की मांग कर रहे थे। जेल जाने के बाद ही पूर्व सांसद ने जेल में उपलब्ध सुविधाओं के अभाव को लेकर बुधवार की सुबह से ही भूख हड़ताल शुरू कर दी थी। स्वास्थ्य जांच के बाद डाक्टरों की अनुशंसा पर कोर्ट के आदेश से उनको डीएमसीएच भेजा जा रहा है। डीएसपी मुख्यालय अजय कुमार, एसडीओ वीरपुर कुमार सत्येंद्र यादव, एसडीपीओ वीरपुर रामानंद कुमार कौशल, वीरपुर थानाध्यक्ष दीनानाथ मंडल, भीमनगर ओपी प्रभारी प्रशांत कुमार भी वीरपुर जेल पहुंचे थे।

वाहनों को किया सैनिटाइज

भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच संध्या चार बजे के आसपास पूर्व सांसद को लेकर अधिकारी एवं सुरक्षा बल की टीम जेल से डीएमसीएच दरभंगा के लिए रवाना हुई। उनके साथ डीएसपी मुख्यालय अजय कुमार एवं डीएसपी वीरपुर रामानंद कुमार कौशल भी शामिल थे। पूर्व सांसद को लेकर दरभंगा जाने वाले सभी वाहनों को कोविड संक्रमण को देखते एहतियातन पहले सैनिटाइज किया गया।

वीरपुर में जाप के वरिष्ठ नेता डॉ रमेश प्रसाद यादव ने कहा कि पूर्व सांसद राजेश रजन उर्फ पप्पू यादव का दोष यह था कि उन्होंने कोरोना जैसी महामारी के समय भी गरीबों की सेवा करना नहीं छोड़ा। उनको दवा, भोजन एवं एंबुलेंस उपलब्ध कराने के लिए दिन-रात एक कर दिया। उनका दोष था कि उन्होंने एंबुलेंस माफिया एवं रेमिडिसिविर की कालाबाजारी करने वालों को बेनकाब किया। एक साजिश के तहत 32 साल पुराने मामले में उनकी न सिर्फ गिरफ्तारी हुई, बल्कि उनको रातोंरात जेल में पहुंचा दिया गया। जबकि सुप्रीम कोर्ट का भी आदेश है कि कोरोना काल में जिन पर कोई संगीन मामला नहीं है उनको जेल नहीं भेजा जाए। खुद सरकार में शामिल पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी, मंत्री मुकेश सहनी भी पप्पू यादव की गिरफ्तारी को लेकर सरकार की मंशा पर सवाल उठा रहे हैं। मौके पर प्रमुख विजय यादव, मुकेश पप्पू, सुरेंद्र खरगा, शमशेर आलम, बसंतपुर जाप प्रखंड अध्यक्ष शैलेन्द्र यादव, चंदन सिंह, धीरज कुमार सहित अन्य समर्थक उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.