अररिया में भाजपा नेता विजय सोन्कर शास्त्री ने नेपाल के पत्रकारों को किया संबोधित, बोले - नेपाल हिन्दू राष्ट्र था है और रहेगा

अररिया में भाजपा नेता विजय सोन्कर शास्त्री ने कहा कि संविधान से प्रशासनिक व्यवस्था चलती हैं। धर्म सामाजिक व्यवस्थापन के अनुरूप जरूरी है। दलित समुदाय को हिन्दू धर्म के रक्षा के लिए आना होगा आगे। कुछ लोग भ्रम पैदा कर हिन्दू धर्म मे फुट डालने का प्रयास कर रहे है।

Dilip Kumar ShuklaWed, 24 Nov 2021 08:45 PM (IST)
जानकी मंदिर में पूजा करते भाजपा नेता विजय सोन्कर शास्त्री।

संवाद सूत्र, जोगबनी (अररिया)। धार्मिक भ्रमण में निकले भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद सह प्रवक्ता विजय सोन्कर शास्त्री ने नेपाल में पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि नेपाल हिन्दू राष्ट्र था, है और रहेगा। नेपाल के संविधान में धर्मनिरपेक्ष राज्य का उल्लेख किया गया है, लेकिन यहां का सामाजिक प्रणाली अभी भी हिंदू राष्ट्र के तरफ ही है। संविधान अपने जगह है। संविधान से प्रशासनिक व्यवस्था चलती हैं, धर्म सामाजिक व्‍वस्थापन के अनुरूप।

भाजपा के प्रवक्ता ने कहा कि संविधान से प्रशासनिक व्यवस्था चलता है, लेकिन धर्म सामाजिक व्यवस्था, सामाजिक प्रणाली से ही चलता है। नेपाल की सामाजिक प्रणाली को देखने से कोई यह नहीं कह सकता कि यह हिन्दू राष्ट्र नहीं है। पिछले चार दिनों से वे हिंंदू धर्म से जुड़े कार्यक्रम में सहभागी हो रहे हैं।

चार दिन पूर्व औपचारिक भ्रमण में नेपाल आए प्रवक्ता डा. शास्त्री हिन्दू धर्म से जुड़े विभिन्न कार्यक्रम में शा‍मिल हुए। उन्‍होंने दलित समुदाय के साथ बैठक की। धर्म ही जातीय विभेद की अवधारणा पर मंथन किया। दलित समुदाय को हिंंदू धर्म के रक्षा में लगाने के मिशन के तहत वे नेपाल आये है। राष्ट्रीय दलित मुक्ति जागरण अभियान के बैनर तले नेपाल के 200 दलित नेता को सहभागी करा कार्यक्रम कराया गया। जिसमें प्रवक्ता डा. शास्त्री ने भाषण दिया।

उक्त कार्यक्रम में शास्त्री ने कहा कि वह खुद दलित समाज से है। हिंंदू विश्वविद्यालय से उन्‍हें शास्त्री की उपाधि मिली है। वे संस्कृत विद्वान हैं। कार्यक्रम में शास्त्री ने कहा कि दलित समुदाय को हिन्दू धर्म में समानता का व्यवहार किया जाता रहा है। जिसके उदाहरण वह खुद है। नेपाल भ्रमण व इसके योजना के संबंध में उन्होंने कहा कि दलित समाज को हिंदू धर्म के सुरक्षा के लिए आगे आने के लिए वह यह अभियान चला रहे है। दलित नेता के साथ ही जानकी मं‍दिर में पूजा किया। जिसमें मुसहर, सुनार समुदाय के लोग शामिल थे। उन्‍होंने कहा कि इनका यह कार्यक्रम पूर्णत: गैरराजनीतिक है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग हिन्दू धर्म के छवि को खराब करना चाहते हैं। जो अखंड हिंदुस्‍तान अफगानिस्तान से वर्मा तक उस वक्त भारत में छूआछूत नहीं था। कुछ लोग भ्रम पैदा कर हिन्दू धर्म मे फुट डालने का प्रयास कर रहे है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.