भागलपुर में बालू का खेल : पुलिस-बालू माफिया गठजोड़ की होगी जांच, सुखड़ा, समतल समेत मारे जा चुके हैं कई शातिर

बांका और भागलपुर में बालू का अवैध कारोबार जारी है।

भागलपुर में बालू का खेल सन्हौला जगदीशपुर शाहकुंड सजौर कजरैली मधुसूदनपुर गोराडीह लोदीपुर में पुलिस-माफिया गठजोड़ से होती है बालू चोरी। एसएसपी ने कहा करा रहे हैं जांच जांच में किसी किस्म की लापरवाही सामने आते ही होगी फौरी कार्रवाई।

Dilip Kumar ShuklaTue, 20 Apr 2021 02:51 PM (IST)

जागरण संवाददाता, भागलपुर। भागलपुर में बालू का खेल : बालू के अवैध उत्खनन, डंपिंग के खेल में स्थानीय पुलिस और बालू माफियाओं की भूमिका संदेह के घेरे में आ गई है। शाहकुंड में रूपेश और अजय की हत्या बाद लोग अनहोनी की आशंका से भयभीत हैं। स्थानीय लोगों का आरोप है कि पुलिस और बालू माफियाओं के गठजोड़ से ही बालू का अवैध उत्खनन और बालू डंपिंग का खेल बड़े पैमाने पर हो रहा है। विरोध करने वालों को शांत कराने के इनके अपने पैतरे हैं। हाल तक बालू माफियाओं की सक्रियता को लेकर कई तरह की बातें चर्चा में रही। हालांकि वर्तमान एसएसपी निताशा गुड़िया ने स्पष्ट किया है कि बालू के अवैध उत्खनन में लगे बालू माफियाओं से पुलिस पदाधिकारियों के रिश्ते की जांच कराई जा रही है। जांच में किसी भी स्तर पर उनकी भूमिका, लापरवाही सामने आते ही फौरी कार्रवाई की बात एसएसपी ने कही है। मालूम हो कि सन्हौला थाना क्षेत्र के गेरुआ नदी से सटे इलाके ताड़र, दोगच्छी, मकरपुर, साधुपुर, जगदीशपुर थाना क्षेत्र के सैदपुर बालू घाट, टहसूर बालू घाट, हड़वा बालू घाट के अलावा तगेपुर, फतेहपुर, मोदीपुर, चांदपुर, आजमपुर कनेरी, कोला, सजौर के दरियापुर, कठौन, चंद्रामा, करहरिया,  मधुसूदनपुर के मनियारपुर, भीमकिता, कजरैली के गोड्डी, बहादुरपुर, दराधी, विशनरामपुर, कंचन, खिरखिरिया, सैतपुरा, परमानंदपुर के अलावा गोराडीह, लोदीपुर इलाके के भड़ोखर, दोस्तनी आदि जगहों पर नदी और नदी से सटे इलाके की जमीन से बालू का अवैध उत्खनन खुलेआम कराया जा रहा है। फतेहपुर, चांदपुर, तगेपुर, हड़वा, मोदीपुर, कोला जैसे इलाके में ट्रैक्टर से बालू डंप कराकर उसे ट्रकों में भरकर सीमांचल भेजा जा रहा है। यह सब पुलिस की मिलीभगत से हो रहा है। बांका जिले के अमरपुर, रजौन, धोरैया, धनकुंड से आने वाले बालू लदे वाहनों से पुलिस की मिलीभगत से स्थानीय अपराधी ट्रकों से पैसे वसूल पुलिस के कतिपय पदाधिकारियों तक पहुंचाते हैं। टहसुर और वादे हसनपुर गांव में वर्षों से फरार रणवीर उर्फ रणवीरा राय समेत आधा दर्जन अपराधियों के संरक्षण में पुलिस के लिए उगाही कराए जाने की बात कही जा रही है। अब एसएसपी निताशा गुड़िया ने पुलिस और बालू माफिया गठजोड़ की जांच कराए जाने की बात कह उन गलत पुलिस पदाधिकारियों पर कार्रवाई की तलवार लटक गई है जो इस काले धंधे में शामिल हैं।

बालू घाटों पर गिरोहों की प्रतिद्वद्विता और झड़प में मारे जा चुके हैं कई

बालू घाटों पर गिरोहों की आपसी प्रतिद्वंद्विता को लेकर अबतक दो दर्जन से अधिक लोग मारे जा चुके हैं। इनमें कुछ शातिर अपराधी भी शामिल हैं। मारे गए लोगों में कुख्यात सुखड़ा मिया, रहमान मियां के अलावा समतल यादव, शंकर मंडल, पवन मंडल, बुच्ची सिंह, सुबोध सिंह, भूसी सिंह, सुबाल सिंह, बबलू, जितेंद्र, विवेका सिंह, पप्पू मंडल, राजू यादव, बुटाली मंडल, बबलू मंडल समेत कई नाम शामिल हैं।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.