राजस्थान से आ रहा है ट्रकभर सोना, मिली सूचना के बाद भागलपुर में कस्टम ने पकड़ लिया RJ-14 GF 4003, चेक किया पुर्जा-पुर्जा

सूचना मिली कि RJ-14 GF 4003 गाड़ी नंबर के ट्रक से भारी मात्रा में सोने की सप्लाई की जा रही है। सूचना देने वाले ने बताया कि ट्रकभर सोना आ रहा है। इसके बाद कस्टम ने उक्त सूचना के आधार पर ट्रक को पकड़ लिया।

Shivam BajpaiPublish:Sun, 28 Nov 2021 01:36 PM (IST) Updated:Sun, 28 Nov 2021 01:36 PM (IST)
राजस्थान से आ रहा है ट्रकभर सोना, मिली सूचना के बाद भागलपुर में कस्टम ने पकड़ लिया RJ-14 GF 4003, चेक किया पुर्जा-पुर्जा
राजस्थान से आ रहा है ट्रकभर सोना, मिली सूचना के बाद भागलपुर में कस्टम ने पकड़ लिया RJ-14 GF 4003, चेक किया पुर्जा-पुर्जा

कौशल मिश्रा, भागलपुर : सोना तस्करी कर भागलपुर लाए जाने की सूचना पर पटना से कस्टम विभाग की टीम ने शनिवार को राजस्थान नंबर के एक ट्रक को रोक कर अपने कब्जे में ले लिया। इसके बाद घंटों तलाशी ली। इस दौरान मैकेनिक की मदद से ट्रक के पहिये ओर ईंधन टंकी तक की तलाशी ली गई। केबिन समेत मालवाहक ट्रक के आंतरिक हिस्सों को भी तलाशा लेकिन सोना बरामद नहीं हो सका।

इस बीच एक बात जंगल में आग की तरह फैली कि राजस्थान से मार्बल पत्थर लोड कर भागलपुर लाने वाले ट्रक से काफी मात्रा में सोना लाया जा रहा है। कस्टम विभाग की टीम ट्रक को कब्जे में लेकर जोगसर थाना क्षेत्र के रेडक्रास रोड लाई, जहां विभागीय टीम के पदाधिकारियों ने सघन तलाशी ली। बोलेरो से पहुंची टीम ने ट्रक को नवगछिया-जीरोमाइल मार्ग में ही कब्जे में ले लिया था।

सूचना मिली थी कि राजस्थान से RJ-14 GF 4003 नंबर की गाड़ी से ट्रकभर सोना आ रहा है। ट्रक में भारी मात्रा में सोना है। इसके बाद पटना से टीम भागलपुर पहुंची। जिस रूट से ट्रक जा रहा था। उस रूट पर टीम ने दलबल के साथ चेकिंग घेरा लगाया और ट्रक को पकड़ लिया। ट्रक पकड़े जाने के बाद, इसकी सघन तलाशी ली गई।

पहले ट्रक को ऊपर से पूरी तरह तलाश लिया गया। ड्राइवर से ठोस पूछताछ की। संतुष्टी ना मिलने के बाद, टीम ने डीजल टैंक को खाली करवाया। उसकी तलाशी ली गई। सर्चिंग यहीं नहीं रुकी, ट्रक के टायर, स्टेपनी, ट्रक के इंजन तक को खंगाला गया। लेकिन सोना हाथ नहीं लग सका।

रांग इन्फोर्मेशन

इस बीच ऐसी चर्चा भी तेज हो गई कि हो ना हो किसी ने गलत सूचना देकर कस्टम की टीम को गुमराह किया हो। हो सकता है कि सोने की तस्करी किसी छोटे वाहन से कर दी गई हो। गलत सूचना देकर टीम का ध्यान भटकाया गया हो। बहरहाल, ट्रक की चेकिंग देर शाम तक जारी रही। इसके बाद जब टीम को संतुष्टी मिली, तब वो पुनः पटना के लिए रवाना हुई।