Foundational Literacy and Numeracy: निष्‍ठा में 70% अंक प्राप्‍त करें शिक्षक, अन्‍यथा नहीं मिलेगा प्रमाणपत्र, आपको हो सकती है परेशानी

Foundational Literacy and Numeracy (FLN) शिक्षकों को निष्‍ठा प्रशिक्षण लेना अनिवार्य है। सभी कोर्सों में 70 प्रतिशत अंक प्राप्‍त करने होंगे। इसके लिए तीन बार मौका मिलेगा। दीक्षा पोर्टल/ऐप पर निष्‍ठा का प्रशिक्षण हो रहा है। शिक्षकों का मार्गदर्शन टेक्‍नी‍कल टीम के सदस्‍य कर रहे हैं।

Dilip Kumar ShuklaWed, 20 Oct 2021 11:58 PM (IST)
दीक्षा ऐप पर होगा निष्‍ठा का प्रशिक्षण।

आनलाइन डेस्‍क, भागलपुर। Foundational Literacy and Numeracy (FLN): निष्ठा (Nishtha) (National Initiative for School Heads' and Teachers' Holistic Advancement) 3.0 में 12 कोर्स हैं। यह कोर्स वर्ग एक से वर्ग पांच तक के छात्र-छात्राओं को पढ़ाने वाले शिक्षकों को करना अनिवार्य है। दीक्षा ऐप के माध्‍यम से शिक्षक इस कोर्स को एक अक्टूबर 2021 से कर रहे हैं। यह कोर्स 31 मार्च 2022 तक चलेगा। एक माह में दो कोर्स ही करना है। प्रत्‍येक कोर्स का अलग-अलग मूल्‍याकंन होगा। शिक्षक को हर कोर्स में कम से कम 70 प्रतिशत अंक लाना अनिवार्य है। अगर किन्‍हीं शिक्षक को 70 प्रतिशत से कम अंक आते हैं तो उन्‍हें दो बार और मौका दिया जाएगा। अगर तीनों बार के मूल्‍यांकन में शिक्षक 70 प्रतिशत अंक प्राप्‍त करने में असफल रहे तो ऐसे शिक्षकों को अप्रैल 2022 में फिर से एक मौका मिलेगा। अप्रैल 2022 में ऐसे शिक्षक कोर्स करेंगे, जिन्‍होंने 70 प्रतिशत अंक प्राप्‍त नहीं किया है या जिनका कोई कोर्स अधूरा है। लेकिन इस बार एक बार ही उनका मूल्‍याकंन होगा। प्रत्‍येक कोर्स में 70 प्रतिशत अंक लाने वाले शिक्षकों को ही प्रमाणपत्र मिलेंगे। 70 प्रतिशत से कम अंक लाने शिक्षकों को प्रमाणपत्र नहीं मिलेगा और उनका कोर्स अपूर्ण माना जाएगा।

क्‍या है निष्ठा 3.0 कोर्स

निष्‍ठा टेक्‍नीकल टीम (Technical Team) की भागलपुर जिला की सदस्य खुशबू कुमारी (शिक्ष‍िका, मध्‍य विद्यालय बलुआचक, जगदीशपुर, भागलपुर) ने बताया कि शिक्षा मंत्रालय भारत सरकार एवं NCERT नई दिल्ली ने संपूर्ण देश में निपुण (National Initiative for Proficiency in Reading with Understanding and Numeracy- NIPUN) भारत मिशन (NIPUN Bharat Mission) के अंतर्गत निष्‍ठा 3.0 (NISHTHA 3.0) Foundational Literacy and Numeracy (FLN) कोर्स दीक्षा पोर्टल/ऐप के माध्यम से ऑनलाइन मोड में कक्षा एक से पांच में कार्यरत सभी शिक्षकों को प्रशिक्षण प्राप्त करना अनिवार्य है। मोबाइल पर दीक्षा ऐप में अपना-अपना प्रोफाइल अपडेट जरुर कर लें। उन्‍होंने कहा कि शिक्षा मंत्रालय ने ‘बेहतर समझ और संख्यात्मक ज्ञान के साथ पढ़ाई में प्रवीणता के लिये यह राष्ट्रीय पहल की है। इसका उद्देश्य तीन से नौ वर्ष के आयु वर्ग के छात्र-छात्राओं को गुणवत्‍तापूर्ण सीख देना है। यह पहल राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NEP) 2020 के अंतर्गत की जा रही है। स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणालियों में परिवर्तनकारी सुधारों का मार्ग प्रशस्त करना है।

भागलपुर जिले से 3775 शिक्षकों को निष्ठा 3.0 करना है। यह कोर्स दीक्षा ऐप पर होगा। शिक्षकों को मार्गदर्शन के लिए निष्‍ठा टेक्‍नीकल टीम के सदस्‍य सक्रिय है। इसके लिए भागलपुर जिले में निष्ठा कोषांग का गठन किया गया है। भागलपुर जिले में अध्‍यक्ष के अलावा पांच सदस्‍य इसमें शामिल हैं। जिले के प्रत्‍येक प्रखंड में तीन से पांच सदस्‍यीय टेक्‍नीकल टीम का गठन किया गया है।

भागलपुर जिला: निष्‍ठा टेक्‍नीकल टीम के अध्‍यक्ष व इसमें शामिल पांचों सदस्‍य

अध्यक्ष - देव नारायण पंडित, भागलपुर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, समग्र शिक्षा अभियान। 1. शिव कुमार, APO, BEP, भागलपुर। 2. डा. रंजीत कुमार, शिक्षक, +2 इंटर स्कूल सजौर, शाहकुंड, भागलपुर। 3. रंजीत रंजन, प्रभारी प्रधानाध्यापक, प्राथमिक विद्यालय मंदरोजा, भागलपुर। 4. खुशबू कुमारी, शिक्षिका, मध्य विद्यालय बलुआचक, जगदीशपुर, भागलपुर। 5. प्रीतम कुमार, शिक्षक, मध्य विद्यालय बाबूपुर, सबौर, भागलपुर।

भागलपुर जिला कार्यक्रम पदाधिकारी देव नारायण पंडित ने कहा कि वर्ग प्रथम से पंचम तक पढ़ाने वाले सभी शिक्षकों को निष्‍ठा 3.0 कोर्स करना अनिवार्य है। साथ ही निष्‍ठा 2.0 का कोर्स भी अभी चल रहा है। 2.0 कोर्स वर्ग नवम से 12वीं तक के छात्रों को पढ़ाने वाले शिक्षकों को करना है। यह कोर्स शिक्षा को गुणवत्‍तापूर्ण बनाने के लिए शिक्षकों को करना अनिवार्य हैं। उन्‍होंने कहा कि पूरे मनोयोग से शिक्षक इसका प्रशिक्षण लें। शिक्षकों को यह कोर्स करने में अगर कोई परेशानी हो रही हो या कोई समस्‍या आ रही हो तो जिला या प्रखंड टेक्‍नीकल टीम के संपर्क करें। सभी का मोबाइल नंबर जारी कर दिया है। साथ ही इसके लिए ग्रुप भी बना दिए हैं। कभी भी टेक्‍नीकल टीम से संपर्क कर शिक्षक अपनी समस्‍याओं का सामधान कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें - Khushboo Kumari: भागलपुर की ये टीचर बन गई शिक्षकों की गुरु, सभी को लेना चाहिए इनसे ज्ञान, शिक्षा जगत के लिए मिसाल

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.