Bihar Police SI Result: भागलपुर की बेटी ने CTET, STET के बाद दारोगा परीक्षा में भी मारी बाजी, जानिए... मधु व प्रीति ने कैसे की पढ़ाई

Bihar Police SI Result भागलपुर के करहरिया गांव निवासी शिक्षक की पुत्री मधु भारती ने सीटीईटी एसटीईटी व दारोगा की रिजल्ट निकालने में कामयाब हुई। साथ ही कहलगांव के वंशीपुर गांववासी एनटीपीसी के ठेका मजदूर की पुत्री प्रीति कुमारी ने दारोगा बहाली सफलता पायी है।

Dilip Kumar ShuklaTue, 22 Jun 2021 08:57 AM (IST)
मधु भारती और प्रीति कुमारी, दारोगा बन महिला को न्याय दिलाने की करेगी शुरुआत।

संवाद सूत्र, बाथ/कहलगांव (भागलपुर)। भागलपुर के सुल्‍तानगंज प्रखंड के बाथ थाना क्षेत्र स्थित करहरिया गांव निवासी सहायक शिक्षक देवदत्त प्रसाद सिंह व कविता सिन्हा की 26 वर्षीय बड़ी पुत्री मधु भारती ने सीटीईटी, एसटीईटी व दारोगा की रिजल्ट निकालने में कामयाब हुई है। लेकिन मधु की लक्ष्य एसडीएम बनने की है। जिसके लिए बीपीएससी की तैयारी में जुटी हुई है। फिलहाल केन्द्रीय विद्यालय व उच्च विद्यालय की शिक्षिका पद को छोड़ दारोगा पद चयन की है।

मधु के पिता ने बताया कि पहली से लेकर दसवीं कक्षा तक की पढ़ाई डीपीएम उच्च विद्यालय करहरिया से की है। वर्ष 2009 में मैट्रिक फस्र्ट डिवीजन, एसपीएस महाविद्यालय शंभूगंज से 2011 में इंटर सेकंड डिवीजन, आर ए कांलेज शंभूगंज से वर्ष 2015 में स्नातक फस्र्ट और सुंदरवती महिला कांलेज भागलपुर से बीएड फस्र्ट व पीजी की तीन परीक्षा में फस्र्ट क्लास है। पीजी की अंतिम परीक्षा बांकी है। वर्ष 2020 में सीडीईटी की परीक्षा पास की है। अंतिम प्रकिया की फार्म भरना बांकी हैं। वर्ष 2021 में सीटीईटी की परीक्षा पास की है। इसमें अंतिम सफलता भी प्राप्त की है।

मधु के पिता बोले महिला उत्पीडऩ को देख, पीडि़त महिला को न्याय दिलाने के लिए ठान मधु एसडीएम बनना चाहती है। इसके लिए बीपीएससी की तैयारी भी कर रही है। दूसरी ओर पुत्री ने सीटीईटी, एसटीईटी व दारोगा की रिजल्ट निकाली है। जिसमें फिलहाल दारोगा की नौकरी करने की निर्णय ली है। इधर मधु की बेहतर प्रयास को देख पूरा करहरिया सहित आस-पास के गांवों के लोगों के बीच भी खुशी की लहर देखने को मिल रही है।

एनटीपीसी ठेका मजदूर की बेटी प्रीति बनी दारोगा

कहलगांव के वंशीपुर गांववासी एनटीपीसी के ठेका मजदूर गाविंद मंडल की पुत्री प्रीति कुमारी ने दारोगा बहाली की परीक्षा में सफलता हासिल कर माता सुनीता देवी, पिता सहित गांव का नाम रौशन की है। प्रीति साल 2017 में जेल सिपाही पद पर चयनित हुई थी और बांका में पदस्थापित है। ड्यूटी करते हुए ही तैयारी कर परीक्षा दी और सफल हुई। दो भाई में एकलौती बहन है। प्राथमिक शिक्षा वंशीपुर स्कूल में मैट्रिक शोमनाथपुर स्कूल से इंटर और स्नातक एसएसवी कालेज कहलगांव से की है। प्रीति ने सफलता का श्रेय माता-पिता एवं शिक्षक को दे रही है। प्रीति ने कही की परिवार ने गरीबी और दुख झेलते हुए पढ़ाई कमी महशुश नहीं होने दी।जेल सिपाही बनने के बाद भी परिवार के द्वारा कभी भी शादी के लिए दबाव नहीं दिया है।भाई पढ़ाई कर रहा है।

मधु और प्रीति को दी बधाई

लगातार सफलता का परचम लहराने वाली मधु से मिलने लोग रहे हैं। उन्‍हें बधाई दे रहे हैं। उनसे प्रेरणा ले रहे हैं। उनकी पढ़ाई के बारे में पूछताछ करते हैं। किसे तैयारी की, इसकी जानकरी लेते हैं। मधु और प्रीति की इस उपलब्धि से स्‍वजन ही नहीं, बल्कि आसपास के सभी लोग खुश हैं। जिस शिक्षण संस्‍थानों ने मधु व प्रीति ने पढाई की, वहां जश्‍न का माहौल है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.