BNMU: कोरोना काल में ऑनलाइन के नाम पर सिर्फ औपचारिकता, नहीं हुई पढ़ाई और अब परीक्षा

कोरोना काल में इस विवि में पढ़ाई पर बहुत हुआ है असर।

BNMU कई महीनों से ऑनलाइन कक्षाएं भी नहीं हो रही संचालित। छात्रहित काे ध्यान में रखते हुए राजभवन ने सभी विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश दिया था। लेकिन बीएनएमयू में यह निर्देश सिर्फ फाइलों में ही सिमट कर रह गया है।

Dilip Kumar ShuklaTue, 11 May 2021 09:54 AM (IST)

मधेपुरा [रवि कुमार संत]। बीएन मंडल विवि में बिन पढ़े ही परीक्षा में बैठने की तैयारी चल रही है। कोरोना काल में ऑफलाइन पढ़ाई तो पूर्णतः बंद है और कई महीनों से ऑनलाइन कक्षाएं भी संचालित नहीं हो रही है। जबकि बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बीएनएमयू प्रशासन ने सभी कॉलेजों और पीजी विभागों को ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश दिया है। लेकिन ऑनलाइन कक्षा के नाम पर विवि से लेकर कॉलेज तक हर जगह खानापूर्ति हो रही है। विवि में ऑफलाइन के बाद अब ऑनलाइन पठन-पाठन बंद होने से छात्र-छात्राओं का भविष्य अंधकारमय में है। बता दें कि बीएन मंडल विश्वविद्यालय में शिक्षकों की काफी कमी है। यद्यपि शिक्षकों की कमी को देखते हुए राजभवन और शिक्षा विभाग ने विश्वविद्यालय में सुचारू रूप से कक्षा संचालित करने के लिए अतिथि शिक्षकों की भर्ती तो कराई, लेकिन अब उनको मई माह में क्लास लेने से रोक दिया गया है। अतिथि शिक्षकों के ऑनलाइन क्लास लेने पर रोक लगाने के बाद विश्वविद्यालय अंतर्गत कई कॉलेजों में समस्या यह आने लगी है कि क्लास लेने वाला कोई दूसरा शिक्षक है ही नहीं। कई कॉलेजों में विषय को पढ़ाने वाले एक ही शिक्षक हैं और वे अतिथि शिक्षक हैं। ऐसे में छात्र-छात्राओं की पढ़ाई बाधित हो रही है। पढ़ाई बाधित होगी तो विवि में आगामी डिग्री, पीजी, बीएड, एमएड और वोकेशनल कोर्स की परीक्षा में बिन पढ़े ही छात्र बैठेंगे।

बीएनएमयू में फाइलों में सिमट कर रह गया ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश

छात्रहित काे ध्यान में रखते हुए राजभवन ने सभी विश्वविद्यालयों में ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश दिया था। लेकिन बीएनएमयू में यह निर्देश सिर्फ फाइलों में ही सिमट कर रह गया है। यद्यपि विवि के कुलसचिव द्वारा समय-समय पर अधिसूचना जारी कर ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश दिया जाता रहा। लेकिन इसका पालन हो रहा है या नहीं इसकी मॉनिटरिंग नहीं हो रही है। बीते वर्ष भी बीएनएमयू के कई कॉलेजों में ऑनलाइन पढ़ाई व पीपीटी अपलोड करने के नाम पर खानापूर्ति हुई थी। सत्र 2019-20 के छात्रों ने स्वयं से अध्ययन कर परीक्षा दी थी।

महीनों से बेवसाइट पर अपलोड नहीं हो रहा कोई नया ई-कंटेंट

विवि की बेवसाइट पर छह माह से एक भी नया ई-कंटेंट अपलोड नहीं किया गया है। यही हाल यूट्यूब चैनल का भी है। पिछले चार माह में विवि के यूट्यूब चैनल पर नाम मात्र वीडियो अपलोड है। जबकि विवि अंतर्गत विभिन्न कॉलेजों और पीजी विभागों में इसके शिक्षक कार्यरत है। यद्यपि बिहार में 15 मई तक लॉकडाउन लगा दिया है और विवि और कॉलेजों में भी पठन-पाठन पूर्णत: बंद कर दिया गया है। इस दौरान शिक्षकों को निर्देश दिया गया है कि घर से ऑनलाइन कक्षा का संचालन करेंगे। साथ ही ई-कंटेंट और वीडियाे बनाकर विवि व संबंधित महाविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड करेंगे। लेकिन ऐसा कहीं नहीं हो रहा है। ऑनलाइन कक्षा संचालन को लेकर कोई भी विभाग गंभीर नहीं है। कुछ शिक्षकों द्वारा कहा जा रहा है कि व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर पढ़ाई हो रही है। विवि के लचर कार्यशैली पर छात्र ने भी सवाल उठाना शुरू कर दिया है। इधर, विवि के छात्र-छात्राओं ने आपत्ति जताते हुए कहा है कि विवि के अधिकारियों की उदासीनता के कारण कोई भी काम समय पर नहीं हो पाता है।

विवि में डिग्री, पीजी, वोकेशनल व बीएड के छात्रों की पढ़ाई पूर्णत: है बाधित

बीएन मंडल विश्वविद्यालय में ऑफलाइन व ऑनलाइन कक्षा बंद होने से डिग्री, पीजी, वोकेशनल व बीएड सहित अन्य पाठ्यक्रम के छात्र-छात्राओं की पढ़ाई बाधित हो रही है। किसी-किसी विभाग द्वारा व्हाट्सएप और टेलिग्राम पर चैनल बनाकर ऑनलाइन कक्षा संचालन का प्रयास किया जा रहा है। लेकिन यह सुविधा सभी छात्रों तक नहीं पहुंच पा रही है। पिछले साल भी लाॅकडाउन के कारण क्लास बाधित रही।

कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बीएनएमयू प्रशासन ने सभी कॉलेजों और पीजी विभागों को ऑनलाइन कक्षा संचालन का निर्देश दिया है। इसको लेकर विवि ने कई पत्र जारी किया है। -  डॉ. कपिलदेव प्रसाद, कुलसचिव, बीएनएमयू, मधेपुरा

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.