बिहार विधानसभा चुनाव 2020 : दिल मिले न मिले मगर हाथ मिला रहे नेताजी, जानें.. कटिहार की राजनीति

कटिहार में प्रत्‍याशियों की घोषणा के बाद से रार कायम है।
Publish Date:Sat, 31 Oct 2020 08:11 AM (IST) Author: Dilip Kumar Shukla

कटिहार [नंदन कुमार झा]। Bihar Assembly Elections 2020  : विधानसभा चुनाव का रंग अब परवान चढऩे लगा है। यद्यपि गठबंधन दलों में प्रत्याशी की घोषणा के बाद शुरू हुई रार अब भी अंदरुनी तौर चल रही है। हालांकि अब दिल मिले न मिले हाथ मिलाते रहिए की स्थिति जरूर आ गई है। दोनों गठबंधनों के नेताजी पूरे जोश के साथ आपस में मिल भी रहे हैं, लेकिन हटते ही उनकी टीस भी सुनाई दे देती है।

आमने सामने होने पर प्यार और अपनत्व दिखाने की हर संभव कोशिश के बीच नेताजी के मुस्कुराने का अंदाज भी निराला होता है। पार्टी आलाकमान के निर्देश पर गठबंधन के घटक दलों के नेता अपने-अपने प्रत्याशियों के लिए मेहनत करते दिख रहे हैं। प्रचार के दौरान अलग-अलग रहते एक साथ होने का स्वांग भी दिलचस्प होता है। चंद दूरी में ही उत्साह से चल रहा समूह तितर-बितर हो जाता है। नेताजी गांव की गलियों से लेकर शहरी मोहल्लों तक की खाक छान रहे हैं। जनता का मन पढऩे निकले नेताजी का अंदाज और आपसी मनमुटाव को अब जनता भी भाप रही है। प्रचार के दौरान दबी जुबान कुछ अलग कहने वाले बंधुओं की मीठी जुबान देख जनता भी मंद मंद मुस्कुराने को मजबूर हो जाती है। यह स्थिति दोनों ओर से साफ दिख रहा है।

यद्यपि पार्टी और नेताजी यह मानने को तैयार नहीं है और पूरे समर्पण का भाव तो दिखा रहे है, लेकिन अंदर ही अंदर सुलग रही आग को मौसम भी नहीं बुझा पा रही है। सभा से लेकर दौरा एवं जनसंपर्क अभियान के दौरान भी कार्यकर्ताओं को इकटठा करने को लेकर पसीना बहाना पड़ रहा है। जनता के बीच घर की बात न पहुंचे इसके लिए नेताजी भी समय और मौका भांप बाहर निकल रहे हैं। चुनाव को लेकर आपसी रार और जनता के मिजाज के कारण इस बार विस चुनाव का मुकाबला काफी दिलचस्प होगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.