Sawan 2021 : सावन में भोले बाबा पूरी करेंगे मुराद! सोमवार को शिव भक्ति में लीन नजर आए श्रद्धालु

Sawan 2021 के सोमवार को भोले बाबा के अनन्य भक्त भक्ति में सराबोर दिखाई देते हैं। पावन महीने के शुरूआत हो चुकी है। दूसरे सोमवार को शिवालय में अच्छी संख्या में श्रद्धालु बाबा शिव को जल चढ़ाने और पूजा करने पहुंचे।

Shivam BajpaiMon, 02 Aug 2021 10:21 PM (IST)
Sawan 2021 बाबा शिव की आराधना करती युवती।

आनलाइन डेस्क, भागलपुर। Sawan 2021 : सावन की दूसरी सोमवारी को भी शिवालयों का चौखट शिवलिंग बना और बाबा भोलेनाथ की भक्ति में शहर डूब गया। श्रद्धालुओं के लिए मंदिर का दरवाजा बंद है। लेकिन आस्था के सामने इस बंदी का असर कम पड़ गया। बाबा बूढा नाथ मंदिर, शिव शक्ति मंदिर, भूतनाथ मंदिर सहित शहर के शिव मंदिरों के मुख्य गेट के चौखट पर सुबह से ही जलाभिषेक होता रहा। श्रद्धालु अपने परिवार के साथ मिल पूजा पाठ, आरती करते रहे। देवाधिदेव महादेव के चरणों की आराधना करने में तल्लीन रहे। पूरा शहर हर हर महादेव की गूंज से गुंजायमान होता रहा।

हालांकि, पूजा पाठ के दौरान कोरोना गाइडलाइन का असर दिखा। भीड़ भाड़ मंदिरों के आसपास नहीं हुआ। श्रद्धालु आते रहे शीश नवाते रहे और जाते रहे। बाबा बूढा नाथ के प्रबंधक बाल्मीकि सिंह ने श्रद्धालुओं से घर में शिव पूजन करने का आह्वान करते रहे। शहर के बाहर ग्रामीण क्षेत्रों के शिवालय कहीं-कहीं खुले थे जिसमें बारी बारी से शिव भक्त जलाभिषेक कर रहे थे। उधर गंगा घाट पर ही सुबह से गंगा स्नान और गंगाजल लेकर श्रद्धालु को आते देखा गया। सुबह से ही गंगा के घाटों पर भी हर हर महादेव के नारे लगते रहे।

शहर के मंदिरों में शाम होते ही बिजली के झालर जगमगाने लगी, अघौढ़दानी भोलेनाथ का मंदिर प्रबंधन और द्वारा भव्य श्रृंगार पूजा और महा आरती की गई। कई मंदिरों में शृंगारिक पूजा में शिव भक्तों ने सहयोग किया हालांकि सदेह शिव भक्त मंदिर के अंदर उपस्थित नहीं हो सके। सावन की दूसरी सोमवारी पर लोगो ने की भगवान शिव की पूजा। हर साल की तरह मन्दिरो में नहीं रही भीड़।

 

संवाद सूत्र,पीरपैंती: पवित्र श्रावण मास के दूसरी सोमवारी पर लोगो ने भगवान शिव की पूजा अर्चना की। कोरोना महामारी को लेकर दूसरी सोमवारी पर प्रखंड के विभिन्न शिवालयों में भगवान की शिव की पूजा अर्चना को लेकर हर साल की तरह भीड़ भाड़ नही लगा। लोगो ने घरों में ही भगवान शिव का जलाभिषेक किया। उधर कई शिवभक्तों ने बटेश्वर स्थान स्थित उत्तरवाहिनी गंगा में स्नान कर से जल भरकर झामर स्थित मनोकामना मंदिर सहित विभिन्न शिवालयों तथा घरों में ही भगवान शिव को जलाभिषेक किया।शिवालयों में हर हर महादेव एवं घंटा की आवाज से गुंजायमान हो रहा था।

जागरण संवाददाता, खगडिया: जिले भर में सावन की दूसरी सोमवारी पर श्रद्धा की सरिता उमड़ पड़ी। हर हर महादेव से वातावरण गुंजायमान रहा। सुबह आरती के साथ ही मंदिरों में श्रद्धालु आने लगे। दिन भर शिवालयों में श्रद्धालुओं का आना-जाना लगा रहा। जिले में बलुआही स्थित शिव मंदिर, सन्हौली ठाकुरबाड़ी शिव मंदिर, सन्हौली दुर्गास्थान शिव मंदिर, आरपीएफ बैरेक स्थित शिव मंदिर के कपाट सुबह से ही खुले रहे। कोरोना के नियमों का पालन अधिकांश जगहों पर नहीं हुआ। शहर के अजगैबीनाथ शिव मंदिर, बूढ़ानाथ शिव मंदिर, आयकर परिसर स्थित शिव मंदिर, रेलवे कालोनी और एसडीओ रोड स्थित शिव मंदिर में भी पूजा-अर्चना की गई। हालांकि

कोरोना की वजह से बड़ी संख्या में श्रद्धालु शिवालयों में नहीं पहुंचे। अधिकतर शिवभक्तों ने घरों में ही पूजा-अर्चना की।

जागरण संवाददाता, पूर्णिया। सावन की दूसरी सोमवारी को भी श्रद्धालुओं ने भक्तिभाव से बाबा भोलेनाथ की पूजा अर्चना की। अधिकांश शिव मंदिरों के पट कोरोना संक्रमण को लेकर बंद हैं बावजूद भक्तों का उत्साह कम नहीं हुआ तथा कहीं मंदिर के बाहर तो कहीं शिवलिंग पर जलाभिषेक कर हर हर महादेव का जयकारा लगाया। विदित हो कि कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार ने लाकडाउन लागू किया है। धीरे धीरे अनलाक की प्रक्रिया चल रही है लेकिन अभी धार्मिक स्थलों पर पाबंदी जारी है। इस कारण कई पर्व त्योहार लोगों को घरों में ही मनाना पड़ा। श्रावणी मेला भी इसी वजह से गत साल की तरह इस वर्ष भी फीका ही रहा। बाबाधाम भी बंद है तथा क्षेत्र के अधिकांश शिवालय में भी जलाभिषेक की अनुमति नहीं है जिस कारण अधिकांश लोग घरों में ही बाबा भोलेनाथ की उपासना कर रहे हैं।

हालांकि, ग्रामीण क्षेत्रों और नगर के छोटे मोहल्लों में स्थित शिवालयों में श्रद्धालु जल चढ़ाने पहुंचे। शहर के रामबाग, लाइनबाजार, मधुबनी, महबूब खां टोला, सुभाषनगर, शक्ति नगर आदि मोहल्ले में श्रद्धालुओं ने जलाभिषेक किया। पूजा अर्चना करने वालों में महिलाओं की संख्या अधिक थी। अधिकांश महिलाओं ने व्रत रखकर एवं बेल पत्र, अक्षत, चंदन, रौली, दूध, मधु आदि के साथ शिवलिंग की पूजा अर्चना की। शहर की अपेक्षा ग्रामीण क्षेत्रों में दूसरी सोमवारी को अधिक चहल-पहल रही।

संवाद सूत्र, बनमनखी। दो अगस्त को सावन की दूसरी सोमवारी के दिन भी अनुमंडल मुख्यालय से सटे ग्राम धीमा स्थित बाबा धीमेश्वर नाथ महादेव मंदिर का पट आमलोगों के लिए बंद रहा। बावजूद शिवभक्तों की अप्रत्याशित भीड़ मंदिर परिसर में पूजा अर्चना के लिए लगी रही। सैकड़ों की संख्या में भक्त जन उत्तर वाहिनी गंगा मनिहारी से पवित्र गंगाजल लेकर बाबा धीमेश्वर नाथ महादेव मंदिर पर जलार्पण के लिए आए परन्तु मंदिर के मुख्य द्वार बंद रहने के कारण उन्हें मंदिर के गेट पर ही जलाभिषेक करना पड़ा। सनद रहे कि वैश्विक महामारी कोरोना के कारण वर्तमान समय में आमलोगों के लिए सरकारी आदेशानुसार मंदिर बंद रखे गए हैं। परन्तु प्रथम सोमवारी की तरह ही द्वितीय सोमवारी के दिन भी सुबह से ही बाबा धीमेश्वर नाथ महादेव के आपरूपी सुन्दर शिवलिंग पर जलाभिषेक करने एवं बाबा का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए लोग मंदिर परिसर पहुंचते रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.