बांका का आर्मी जवान श्रीनगर में हुआ शहीद, लोगों ने किया शहादत को नमन, नम हुई आंखें

बांका के शंभूगंज वंशीपुर के आर्मी जवान अनुज कुमार सिंह श्रीनगर में शहीद हो गया। आज देर रात उनके शव के याहं आने की संभावना। शहीद अनुज 2015 में आर्मी में ज्वाईन किया था। लोगों ने उनके शहादत को नमन किया। बांका में शोक की लहर हर ओर है।

Dilip Kumar ShuklaSat, 04 Dec 2021 12:48 AM (IST)
श्रीनगर मेंं आर्मी जवान अनुज शहीद हो गया। फाइल फोटो।

संवाद सूत्र, शंभूगंज (बांका)। बांका के शंभूगंज प्रखंड के वंशीपुर गांव निवासी आर्मी जवान अनुज कुमार स‍िंह (25 वर्ष) श्रीनगर में ड्यूटी के दौरान शुक्रवार को शहीद हो गए। अनुज पिछले ढाई वर्षों से श्रीनगर में 15 कोर बदामीबाग में पदस्थापित थे। शुक्रवार को अनुज की मौत होने होने की सूचना उनके बड़े भाई आर्मी जवान संतोष कुमार के मोबाइल पर आई।

संतोष कुमार ने बताया कि सुबह श्रीनगर हेड क्वाटर से एक अधिकारी शांतनू खारे ने भाई की मौत होने की सूचना दी। सूचना मिलते ही स्वजनों में कोहराम मच गया। गांव में भी मातमी सन्नाटा पसर गया। गांव के अलावा चटमाडीह, रायपुरा, बाजार चटमा, कुर्मा, रामचुआ, गुलनी सहित अन्य गांवों से लोग पीडि़त स्वजनों के घर सांत्वना देने पहुंचने लगे। साथ ही शहीद जवान अमर रहे के नारे लगने लगे। स्वजनों ने बताया कि जवान का शव शनिवार की देर रात तक गांव आने की संभावना है।

पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे थे अनुज

प्रेमचंद स‍िंह के पांच संतानों में अनुज सबसे छोटे थे। एक बेटी साधना कुमारी के अलावा तीन पुत्र संतोष कुमार, हेमंत कुमार व यशवंत कुमार सभी आर्मी में हैं। तीनों भाइयों की शादी हो चुकी है। अनुज अविवाहित थे।

पांच माह पहले अनुज आया था गांव

पिता प्रेमचंद सिंह सहित अन्य स्वजनों ने बताया कि पांच माह पहले अनुज घर आया था और नववर्ष में आने की बात कहकर गया था। प्रेमचंद स‍िंह के प्रथम पुत्र संतोष के आर्मी में नौकरी लगने के बाद शेष सभी भाइयों को आर्मी के लिए प्रेरित करना शुरू किया। जिस पर एक के बाद एक लगातार सभी भाई आर्मी में चले गए। अनुज ने 2015 में नौकरी ज्वाईन की। जबलपुर में ट्रेनिंग के बाद पहली पोस्टिंग अहमदाबाद में हुई थी। बेहद शांत स्वभाव और हंसमुख अनुज पूरे गांव के चहेते थे।

इधर, घटना की खबर सुनकर बेलहर के जदयू विधायक मनोज यादव, बीडीओ प्रभात रंजन सहित अन्य ने दुख प्रकट किया है। बीडीओ ने पीडि़त स्वजनों के घर पहुंच शोक संवेदना व्यक्त की। साथ ही दुख की घड़ी में स्वजनों को धैर्य और हिम्मत दी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.