आद्रा नक्षत्र: किसान कर लें तैयारी, भागलपुर में 52000 हेक्टेयर में होनी है धान की रोपाई, लेकिन बीज नहीं मिला

Adra nakshatra आद्रा नक्षत्र शुरू हो गया है। भागलपुर में 5200 हेक्टेयर में डाला जाएगा धान का बिचड़ा। यहां 52000 हेक्टेयर में धान की रोपाई होनी है। नहीं मिल पाया किसानों को बीज। किसानों ने धान की रोपाई के लिए तैयारी शुरू कर दी है।

Dilip Kumar ShuklaFri, 25 Jun 2021 08:42 AM (IST)
भागलपुर की धान की खेती कार्य शुरू हो गया है।

जागरण संवाददाता, भागलपुर। आद्रा नक्षत्र शुरू होने के बाद भी किसानों को धान का बीज उपलब्ध नहीं हो पाया है। अधिकांश किसान आद्रा नक्षत्र में ही धान का बीज खेत में गिराते हैं। मौसम अनुकूल रहने के कारण किसान बिचड़ा तैयार करने के लिए खेत की जोताई शुरू कर दी है। लेकिन उन्हें विभाग की ओर से बीज उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। कृषि विभाग धान का बीज उपलब्ध कराने में अभी काफी पीछे है। अभी तक मात्र 8924 किसानों को ही धान का बीज उपलब्ध हो पाया है। विभाग को 41612 किसानों को बीज उपलब्ध करना है।

किसानों के बीच 4224.30 क्विंटल बीज का वितरण होना है। कृषि विभाग के लक्ष्य के अनुसार जिले में 5201 हेक्टेयर में बिछड़ा रोपाई का लक्ष्य रखा गया है। जिले में 52000 हेक्टेयर भूमि में धान की रोपाई का लक्ष्य है। विभाग ने जिले को 1057.63 क्विंटल बीज उपलब्ध कराया है। बीज के लिए आवेदन करने वाले सभी किसानों को विभाग की ओर से बीज उपलब्ध नहीं कराया गया है। जबकि धान के बिचड़ा को रोपने का समय आ गया है। मानसून के समय पर आने के कारण खेत लबालब है। ऐसे में अगर बिचड़ा नहीं मिला तो किसान को खरीदकर रोपना पड़ेगा।

हालांकि विभाग की ओर से जल्द से जल्द किसानों को बीज उपलब्ध कराने के लिए प्रखंड कृषि पदाधिकारी को कहा गया है। कृषि पदाधिकारी को समय पर किसानों को बिछड़ा उपलब्ध नहीं कराने की स्थिति में कार्रवाई करने की धमकी दी गई है। इधर मौसम विभाग के वैज्ञानिक वीरेंद्र कुमार का कहना है कि बिचड़ा गिराने के लिए मौसम अनुकूल है। कम समय में होने वाले धान के लिए बिचड़ा गिराने का यही सही समय है। किसान नवल सिंह का कहना है कि अभी तक विभाग की ओर से बिचड़ा उपलब्ध नहीं कराया गया। जबकि बिचड़ा डालने के लिए खेत तैयार है। यही बात मनोज चौधरी व बमबम सिंह का भी कहना है।

जिले में ढाई लाख से अधिक किसान

जिले के दो लाख 56 हजार 890 किसान हैं, जिन्हें प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का लाभ मिला है। इनमें 179556 पुरुष और 77302 महिला किसान हैं। अत्यंत पिछड़ा 46646, अनुसूचित जनजाति के 9948, अनुसूचित जाति वर्ग के 26350, अल्पसंख्यक 14121, पिछड़ा वर्ग के 51565 व अन्य वर्ग के 10 किसान हैं। सामान्य वर्ग के एक लाख आठ हजार दो सौ पचास किसान हैं।

जागरूक किसानों ने शुरू की रोपाई

जिले के जागरूक किसानों ने धान की रोपाई शुरू कर दी है। ऐसे किसानों ने बारिश का इंतजार किए बिना बिचड़ा खेतों में डाल दिया था। मानसून के आते ही बिचड़ा तैयार हो गया। बारिश के शुरू होते ही किसानों ने धान की रोपाई शुरू कर दी है। मौसम वैज्ञानिक वीरेंद्र कुमार के अनुसार लंबी अवधि वाले धान की रोपाई किसानों ने शुरू कर दी है। ऐसे किसानों का धान अक्टूबर के अंत तक काटने लगेगा जो किसान जुलाई में धान की रोपाई कर लेंगे उनका धान नवंबर में कट जाएगा।

बीज वितरण विभाग की प्राथमिकता में है। समय पर बीज वितरण नहीं करने वाले पदाधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी। सभी पदाधिकारियों को जल्द से जल्द बीज का वितरण करने के लिए कहा गया है। बीज वितरण में तेजी आई है। - कृष्ण कांत झा, जिला कृषि पदाधिकारी

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.