पूर्णिया में फाइलेरिया के 4 हजार 749 रोगी, हाथी पांव की रोकथाम और इलाज के लिए बांटी जा रही मेडिकल किट

बिहार के पूर्णिया जिले में फाइलेरिया के 4 हजार 749 मरीज हैं। अभी 24 नए रोगियों की पुष्टी हुई है। फाइलेरिया से बचाव रोकथाम और इसके इलाज के लिए कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। मेडिकल किट बांटी जा रही है। साथ ही लोगों को घरेलु प्रबंधन के बारे में

Shivam BajpaiTue, 30 Nov 2021 08:34 AM (IST)
बिहार के पूर्णिया का मामला, मिले 24 नए मरीज।

जागरण संवाददाता, पूर्णिया: जिले में अब भी फाइलेरिया के नए रोगी की पहचान हो रही है। पिछले सप्ताह चले अभियान में 24 नए रोगी की पहचान हुई। अब रोगियों की संख्या 4749 हो गई है। जिला वाहक जनित रोग नियंत्रण पदाधिकारी डा आरपी मंडल ने बताया कि वाहक जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत जिले में चिह्नित रोगियों के बीच फाइलेरिया किट का वितरण किया जा रहा है। अब तक एक सौ से अधिक रोगियों के बीच इसका वितरण हो चुका है। फाइलेरिया को लेकर सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों को फाइलेरिया के लक्षण, कारण और बचाव की जानकारी देने का निर्देश दिया गया है।

इस संबंध में जिले में 150 मरीजों के बीच रोग नियंत्रण और घरेलू प्रबंधन के लिए उपचार किट प्रदान किया गया है। इसमें टब, साबुन, पाउडर आदि जैसे होता है। दवा भी साथ में दी जाती है। बताया कि फाइलेरिया के रोगियों को अपने पांव का अधिक ख्याल रखना चाहिए। किट का वितरण प्रारंभ हो गया है अब सभी प्रखंड स्तर पर रोगियों के बीच वितरित किया जाएगा। फाइलेरिया के कारण व बचाव के प्रति लोगों को सचेत किया जा रहा है। जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। फाइलेरिया एक परजीवी रोग है। रोग का फैलाव मच्छर के काटने से फैलता है। इससे शरीर के किसी भी हिस्से में सूजन, हाइड्रोसिल और हाथीपांव के रूप में प्रकट होता है।

इसका प्रभाव सभी आयु वर्ग में होता है। इसका फैलाव कम करने के लिए दो वर्ष के अधिक आयुवर्ग के बीच डीइसी की एक खुराक दी जाती है। जो पिछले माह आयोजित कर जिले में किया गया था। इसमें एलवेंडाजोल की एक गोली खिलानी होती है।

रोकथाम के लिए घरेलू प्रबंधन आवश्यक 

डा. आरपी मंडल ने बताया कि पुराने फाइलेरिया के मरीजों को घरेलू रोग प्रबंधन के लिए उपचार किट के रूप में टब, मग, टावेल, साबुन, बिटाडीन और मलहम आदि प्रदान किया जाता है। सभी रोगियों और उनके स्वजन को इसके इस्तेमाल के लिए कार्यशाला आयोजन कर जानकारी दी गई है। जिले में वर्तमान में चार हजार 749 रोगी है। इसमें तीन हजार रोगी केवल हाथी पांव के हैं। 147 रोगी हाइड्रोसील के चिह्नित किए गए जिनका आपरेशन किया जाना है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.