राजधानी एक्सप्रेस से 14 रोहिंग्या पकड़ाए, बंगलादेश के शरणार्थी शिविर से भागे हैं सभी

कटिहार में 14 रोहंग्यिा के पकड़े जाने की खबर से सनसनी फैल गई है।

कटिहार मेें राजधानी एक्‍सप्रेस में 14 रोहंग्यिा के पकड़े जाने से सनसनी फैल गई है। ये सभी बंग्‍लादेश के एक शिविर से भाग कर भारत में प्रवेश कर गए थे। इन लोगों के पास कोई वैध कागजात नहीं है।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 06:25 PM (IST) Author: Abhishek Kumar

कटिहार, जेएनएन।बांग्लादेश के कॉक्स बाजार शरणार्थी शिविर से भागकर अवैध रूप से भारत में प्रवेश करने वाले 14 रोहिंग्या को रेल सुरक्षा बल ने न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन पर अगरतला-नई दिल्ली स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस से हिरासत में ले लिया। रोहिंग्‍या के पकड़े जाने की खबर के बाद जांच और बढ़ा दी गई है। 

पकड़े गए रोहिंग्या में महिला और बच्चे भी  

पकड़े गए रोहिंग्या में महिला व एक बच्चा भी शामिल है। पूर्वोत्तर सीमांत रेलवे के मुख्य जनसंपर्क पदाधिकारी शुभानन चंद्रा ने बताया कि 24 नवंबर को अलीपुरद्वार रेल सुरक्षा बल के हेल्प लाइन नंबर पर स्पेशल राजधानी एक्सप्रेस में कुछ यात्रियों के संदेहास्पद तथा अप्रत्याशित व्यवहार की सूचना मिली। सूचना मिलते ही रेल सुरक्षा बल अलीपुरद्वार ने इसकी जानकारी कटिहार रेलमंडल के एनजेपी रेल सुरक्षा बल को दी।इसके बाद जांच शुरू कर दी गई। 

किसी के पास नहीं था कोई वैध दस्‍तावेज 

ट्रेन के एनजेपी पहुंचते ही रेल सुरक्षा बल व जीआरपी ने तहकीकात शुरू की। जांच के दौरान ट्रेन सुपरिटेंडेंट द्वारा उक्त 14 लोगों के पास किसी तरह का वैध दस्तावेज नहीं पाया गया। जांच में यह भी पता चला कि वे सभी दूसरे के नाम से जारी टिकट पर यात्रा कर रहे थे। पूछताछ में पकड़े गए रोंहिग्या ने बताया कि वे सभी बांग्लादेश के काक्स बाजार शराणार्थी शिविर से भागकर अवैध रूप से भारतीय सीमा में प्रवेश किया।

सभी रोहिंग्या बदरपुर स्‍टेशन पर हुए थे सवार 

पकड़े गए रोहिंग्या बदरपुर स्टेशन पर सवार हुए थे। राजधानी एक्सप्रेस में घुसपैठी रोहिंग्या के पकड़े जाने से हड़कंप मच गया है। स्पेशपल ट्रेनों में तलाशी अभियान तेज कर दिया गया है। साथ ही स्‍टेशनों पर भी तलाशी ली जा रही है। वहीं, उच्‍चे अधिकारी भी इस पूरे घटनाक्रम पर नजर रख रहे हैं। हालांकि पुलिस अभी कुछ विशेष जानकारी नहीं दे रही है। दूसरे के नाम पर जारी टिकट पर सफर करने के मामले की भी पुलिस जांच कर रही है। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.