पांच नौनिहालों की एक साथ सजी अर्थी देख फफक पड़ा गांव

पांच नौनिहालों की एक साथ सजी अर्थी देख फफक पड़ा गांव

बेगूसराय मंगलवार की सुबह थाना क्षेत्र के घाघड़ा गांव में हर तरफ मातमी सन्नाटा पसरा हुअ

JagranTue, 04 May 2021 08:48 PM (IST)

बेगूसराय : मंगलवार की सुबह थाना क्षेत्र के घाघड़ा गांव में हर तरफ मातमी सन्नाटा पसरा हुआ था। गांव के पांच नौनिहालों के डूबने से हुई मौत के बाद उनकी एक साथ सजी अर्थी को देख लोग फफक रहे थे। असमय काल के गाल में समा गए उन मासूमों के मां-बाप, भाई-बहन और दूसरे रिश्तेदारों की चीत्कार से सभी का कलेजा फट रहा था।

सोमवार की शाम हुई इस हृदयविदारक घटना के बाद गांव में चूल्हे नहीं जले। देर रात पोस्टमार्टम के बाद शव गांव आते ही एक बार फिर स्वजनों के करुण क्रंदन ने गांव वालों को भी रोने के लिए मजबूर कर दिया। पूरा गांव रातभर नहीं सो सका। सुबह जब एक साथ पांच अर्थी गांव से निकली तो चारों ओर हाहाकार मच गया। बार-बार बेहोश होने के कारण कुछ महिलाओं को मेडिकल उपचार देना पड़ रहा था। अपने कंधों पर अपने ही लाल की अर्थी को उठाए दादा और पिता के कदम बार-बार डगमगा रहे थे। सभी बच्चों का अंतिम संस्कार बूढ़ी गंडक नदी के सोहागी घाट पर किया गया। किसी के दादा, पिता तो किसी के भाई ने अपने चहेते को मुखाग्नि दी। अभिषेक और चैंपियन कुमार को पिता की गैर मौजूदगी में उनके दादा क्रमश: खबरो महतो तथा विशुनदेव महतो ने अग्नि दी। वहीं अनुज कुमार और रजनीश कुमार को पिता अनुकुल पासवान तथा लुटन साह ने मुखाग्नि दी। जबकि संतोष कुमार की मुखाग्नि रस्म छोटे भाई रोहन ने निभाई। यह देख वहां का माहौल काफी गमगीन हो गया और लोग अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहे थे। मालूम हो कि सोमवार की शाम स्थानीय इटवा चौर में नहाने के दौरान पांच बच्चों की डूबने से मौत हो गई थी। सभी बच्चे थाना क्षेत्र के घाघड़ा गांव के अलग-अलग गरीब परिवारों के थे।

विधायक ने मृतकों के स्वजन से मिलकर दी सांत्वना

संवाद सहयोगी, बखरी (बेगूसराय) : एक साथ पांच बच्चों की डूबने से हुई मौत के बाद विधायक सूर्यकांत पासवान ने पीड़ित परिवारों से मुलाकात कर उन्हें सांत्वना दी। विधायक ने कहा कि दुख की इस घड़ी में वे सब उनके साथ हैं। कहा, मासूमों की मौत परिवार और गांव के साथ-साथ इलाके के लिए बड़ी क्षति है। भगवान यह दिन किसी को न दिखाए। विधायक ने बीडीओ अमित कुमार पांडे से बात कर तात्कालिक तौर पर दाह संस्कार के लिए सभी परिवारों को कबीर अंत्येष्टि मद की राशि देने की बात कही। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुरूप सभी परिवार को अविलंब आपदा राहत कोष से चार-चार लाख रुपये की राशि देने के लिए वे अपनी ओर से हरसंभव प्रयास करेंगे। उल्लेखनीय है कि सोमवार को बखरी थाना क्षेत्र के इटवा चौर में स्नान के दौरान पानी भरे गड्ढे में डूबने से घाघड़ा निवासी इंद्रदेव महतो के पुत्र अभिषेक कुमार, बिदेश्वरी ठाकुर के पुत्र चैंपियन कुमार, शिवजी ठाकुर के पुत्र संतोष कुमार, लूटन साह के पुत्र रजनीश कुमार तथा अनुकुल पासवान के पुत्र अनुज कुमार की मौत हो गई थी। सभी बच्चों की उम्र 10 से 14 वर्ष के बीच थी।

विद्यालय में आयोजित हुई शोक सभा, बच्चों ने अपने सहपाठियों को दी श्रद्धांजलि

नहाने के दौरान डूबने से पांच बच्चों की मौत से गमगीन उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय, घाघड़ा में मंगलवार को शोक सभा का आयोजन किया गया। प्रधानाध्यापक दिलीप कुमार की अध्यक्षता में आयोजित शोक सभा में विद्यालय परिवार ने असमय काल कवलित हुए अपने छात्रों को श्रद्धांजलि दी। खासकर विद्यालय के बच्चों ने अपने सहपाठी को याद कर उन्हें श्रद्धा सुमन अर्पित किया। प्रधानाध्यापक दिलीप ने कहा कि घटना की जानकारी मिलने के बाद से वे अत्यंत दुखी हैं। सोमवार का दिन विद्यालय परिवार के लिए मनहूस दिन था, जब विद्यालय ने एक साथ अपने चार होनहार छात्रों को खोया।

मालूम हो कि पांच मृतक बच्चों में से चार घाघड़ा विद्यालय के छात्र थे। विद्यालय प्रबंधक ने बताया कि इसमें एक स्कूल में रसोइया के रूप में काम करने वाली महिला का पुत्र भी था। मौके पर शिक्षक बसंत कुमार,

ग्रामीण कृष्ण मोहन कुमार, मनोहर कुमार, मुरारी पासवान, रामकिशोर तांती, सुभाष पासवान, ललितेश्वर तांती, अभिमन्यु गुप्ता, मोहन गुप्ता, नरेश पासवान आदि मौजूद थे। अंत में दो मिनट का मौन रखकर बच्चों की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.