कोरोना के भय व लॉकडाउन की बंदिशों से फीकी रही ईद

कोरोना के भय व लॉकडाउन की बंदिशों से फीकी रही ईद

बेगूसराय मुस्लिम आस्था का महान पर्व ईद खुशियों का त्योहार है। तीस दिनों के कठिन उपवास (र

JagranFri, 14 May 2021 09:29 PM (IST)

बेगूसराय : मुस्लिम आस्था का महान पर्व ईद खुशियों का त्योहार है। तीस दिनों के कठिन उपवास (रोजा), तरावीह और अन्य इबादतों के बाद अगले दिन मनाई जाने वाली ईद का दिन काफी हर्षोल्लास का होता है। परंतु, पिछली ईद की तरह इस बार भी ईद फीकी रही। कोरोना का भय तथा लॉकडाउन की बंदिशों के कारण ईद की पारंपरिक खुशियां तथा हर्षोल्लास कहीं नजर नहीं आई। अकीदतमंदों ने मस्जिदों तथा ईदगाहों की जगह अपने-अपने घरों में ईद की नमाज अदा की। नगर की जामा मस्जिद पठानटोली टोली के इमाम मौलाना फारुक, कारी मौलाना कमरे आलम, हाफिज मोहम्मद सूफियान, हाफिज नेहाल आदि ने सामूहिक नमाज की जगह टुकड़ों में पढ़ी गई नमाज की इमामत की। नमाज के बाद मुल्क की सलामती तथा कोरोना से मुक्ति के लिए खुसुसी दुआ का एहतमाम किया गया। इस दौरान कोरोना के गाइडलाइन तथा लॉकडाउन की बंदिशों का सख्ती से पालन किया गया। घरों में पढ़ी गई नमाज में भी लोगों द्वारा मास्क और सामाजिक दूरी का खास ख्याल रखा। पर्व की परंपरा के मुताबिक एक दूसरे से गले मिलकर उन्हें बधाई देने से भी गुरेज किया गया। मौके पर न कहीं मजलिस सजी और न ही घर घर जाकर सेवइयां खाने का दौर चला। फिजा में फैले कोरोना संक्रमण के भय तथा विभिन्न मुस्लिम तंजीमों, उलेमाओं, प्रशासनिक महकमों की अपीलों का लोगों पर खासा असर दिखा। नतीजा लोगों ने दूर से ही हाय हैलो या सोशल साइट्स के जरिए एक-दूसरे को ईद की मुबारकबाद दी। मस्जिद और ईदगाह वीरान रहे। इनके आसपास लगने वाली दुकानें तथा विभिन्न स्टाल नहीं सजे। जिससे रंग बिरंगे कपड़ों में फुदकते बच्चों वह स्थान खाली रहा। कुल मिलाकर इस वर्ष भी ईद पर कोरोना की दहशत तथा लॉकडाउन की बंदिशें हावी रही। मालूम हो कि अनुमंडल तथा नगर प्रशासन ने ईद की पूर्व संध्या में ही माइकिग के माध्यम से लोगों को अपने-अपने घरों नमाज पढ़ने तथा लॉकडाउन का पालन करने की अपील की थी। इधर पर्व की अलसुबह से ही प्रशासन लॉकडाउन का सख्ती से पालन करवाने के लिए पूरी तरह मुस्तैद दिखा। एसडीओ अशोक कुमार गुप्ता, डीएसपी ओम प्रकाश, अपर एसडीओ शहजाद अहमद, नगर कार्यपालक पदाधिकारी राजेश कुमार पासवान, इंस्पेक्टर सह थानाध्यक्ष बासुकीनाथ झा, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डा. एमपी चौधरी आदि पदाधिकारियों ने लॉकडाउन के नियमों के मुताबिक ईद के शांतिपूर्ण संपन्न होने पर क्षेत्र वासियों को ईद की बधाईयां दी हैं।

चेरिया बरियारपुर : ईद-उल-फितर शुक्रवार को प्रखंड क्षेत्र में सादगी के साथ मनाया गया। सभी रोजेदारों ने मस्जिद एवं ईदगाहों से अलग अपने-अपने दरवाजे पर ईद-उल-फितर की नमाज अदा की। आपसी सौहार्द एवं भाईचारे के प्रतीक के रूप में मनाया जाने वाला उक्त त्योहार के अवसर पर लोगों ने नए कपड़े भी नहीं पहने, बल्कि पुराने कपड़ों में ही ईद की नमाज अदा कर पूरी दुनिया से कोरोना जैसी महामारी से निजात दिलाने के लिए अपने रब से दुआ की। इस संबंध में मुफ्ती सरफराज आलम, पैगाम-ए-अमन हिद फाउंडेशन के अध्यक्ष मो. शहजाद, सचिव मो. नूर समद आदि ने बताया कोरोना महामारी के बीच यह दूसरी ईद है। इसमें रोजेदारों ने सामूहिक रूप से नमाज अदा नहीं की। यहां तक कि नमाज के उपरांत आपस में गले मिलकर पुराने गिले-शिकवे को दूर करने में भी रोजेदारों ने आपसी दूरी बना कर रखी।

बलिया : बलिया एवं डंडारी में ईद का त्योहार शांति पूर्वक मनाया गया। सुबह से ही मुसलमान भाई सपरिवार नए वस्त्र पहनकर अपने घरों में ही ईद की नमाज अदा की एवं एक दूसरे से मिलकर ईद की बधाई दी। लोगों ने मोबाइल से भी एक दूसरे को बधाई दी और सेवई खिलाने का आश्वासन दिया।

गढ़पुरा : प्रखंड क्षेत्र में हर्ष और उल्लास के साथ ईद मनाई गई। इस अवसर पर बहुत कम लोगों ने मस्जिदों में ईद की नमाज अदा की। अधिकांश लोग अपने-अपने घरों में ही नमाज अदा की और अल्लाह ताला से कोरोना जैसी महामारी से लोगों को बचाने की दुआ मांगी। इस अवसर पर दीन दुखियों के बीच मुस्लिम भाइयों ने कपडे़, खाना का वितरण किया। ईद को लेकर कहीं भी सामूहिक रूप से नमाज अदा नहीं की गई। प्रखंड के मालीपुर, कोरैय, सुजानपुर, बरमोतरा, धरमपुर, गढ़पुरा, कुम्हारसों, रजौड़, कोरियामा, सोनमा, प्राणपुर, इमादपुर आदि गांवों में ईद मनाई गई। इस दौरान पुलिस प्रशासन काफी चौकस दिखा। नावकोठी : प्रखंड क्षेत्र में ईद उल फितर का त्योहार कोरोना गाइडलाइन के तहत खुशी एवं हर्षोल्लास के वातावरण में मनाई गई। बखरी एसडीओ अशोक गुप्ता द्वारा ईद की नमाज को लेकर ईदगाह, मस्जिद एवं अन्य सार्वजनिक मैदानों में सामूहिक नमाज की अदायगी पर प्रतिबंध लगाते हुए स्थानीय प्रशासन को इसे रोकने के लिए निर्देश जारी किया था। साहेबपुर कमाल : दो साल से कोरोना की भेंट चढ़ रही आपसी भाईचारे का पर्व ईद इस साल एक बार फिर कोरोना की भेट चढ़ गई। । बावजूद श्रद्धा एवं विश्वास में कमी नहीं देखी गई। प्रखंड क्षेत्र में ईद का नमाज अपने घरों में स्वजनों के साथ पढ़ी गई। खोदावंदपुर : प्रखंड क्षेत्र के नुरूल्लाहपुर, सागी, बाड़ा, तेतराही, मालपुर, सिरसी, बरियारपुर पश्चिमी, फफौत, मिर्जापुर, खोदावंदपुर सहित सभी गांव के लोगों ने परिवार के साथ अपने-अपने घरों में ईद की नमाज अदा की। क्षेत्र के ईदगाह एवं मस्जिदों में सरकारी दिशा-निर्देश के तहत नमाज अदा की गई। नमाज के बाद लोगों ने वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव, आपसी भाईचारे एवं सामाजिक सौहार्द तथा विश्व शांति के लिए सामूहिक दुआ की।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.