मार्च तक प्रारंभ होगा जाएगा नवनिर्मित जेल, डीएम एवं एसपी ने किया निरीक्षण

मुफस्सिल थाना क्षेत्र के पास बन रहे नवनिर्मित जेल का निरीक्षण बुधवार को डीएम सौरभ जोरवाल एवं एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने किया। निर्माण कार्य का जायजा लिया। जेल के पूरा होने में कितना समय लगेगा इसकी जानकारी जेल अधीक्षक एवं निर्माण करा रहे ठेकेदार से लिया।

JagranPublish:Wed, 01 Dec 2021 09:40 PM (IST) Updated:Wed, 01 Dec 2021 09:40 PM (IST)
मार्च तक प्रारंभ होगा जाएगा नवनिर्मित जेल, डीएम एवं एसपी ने किया निरीक्षण
मार्च तक प्रारंभ होगा जाएगा नवनिर्मित जेल, डीएम एवं एसपी ने किया निरीक्षण

जागरण संवाददाता, औरंगाबाद : मुफस्सिल थाना क्षेत्र के पास बन रहे नवनिर्मित जेल का निरीक्षण बुधवार को डीएम सौरभ जोरवाल एवं एसपी कांतेश कुमार मिश्रा ने किया। निर्माण कार्य का जायजा लिया। जेल के पूरा होने में कितना समय लगेगा इसकी जानकारी जेल अधीक्षक एवं निर्माण करा रहे ठेकेदार से लिया। डीएम ने जेल का निर्माण शीघ्र पूरा कराने का निर्देश दिया। निरीक्षण के बाद डीएम ने बताया कि मार्च तक जेल का निर्माण पूरा हो जाएगा और उसके बाद उद्धाटन होगा। डीएम ने बताया कि जो कार्य अधूरा है उसे मार्च के पहले तक पूरा कर देने का निर्देश भवन निर्माण विभाग के इंजीनियर से लेकर ठेकेदार तक को दिया गया है। बताया कि जेल का निर्माण जल्द पूरा करने के लिए भवन निर्माण विभाग के सचिव से भी बात की जाएगी। 800 बंदियों को रहने की है क्षमता

नवनिर्मित जेल में 800 बंदियों को रहने की क्षमता है। नवनिर्मित जेल में बंदियों को सरकार से मिलने वाली सभी सुविधाएं मिलेगी। बाल बंदियों को रहने के लिए अलग वार्ड बनाया गया है। पुरुष एवं महिला बंदियों का बेहतर वार्ड बनाया गया है। बंदियों को इलाज के लिए अस्पताल बना है। बंदियों के लिए प्ले ग्राउंड बनाया गया है। दो सिपाही बैरक एवं जेल कर्मचारियों के लिए तीन भवन का निर्माण कराया गया है। जेल अधीक्षक एवं जेलर का आवास से लेकर कार्यालय का निर्माण कराया गया है। तीसरे फेज की नहीं मिली है अबतक स्वीकृति

करीब 19 एकड़ में बन रही नव निर्मित जेल का निर्माण करीब 26 करोड़ 43 लाख रुपये की लागत से कराई जा रही है। जेल का निर्माण तीन फेज में कराया जा रहा है। प्रथम फेज में करीब छह करोड़ की लागत से निर्माण कराया गया था। प्रथम फेज के बाद करीब 19 करोड़ 97 लाख की लागत से दूसरे फेज का कार्य कराया गया है। दूसरे फेज के तहत निर्माण कार्य पूरा नहीं हुआ तो अब करीब 26 करोड़ 43 लाख से तीसरे फेज का कार्य कराया जाना है। निरीक्षण के दौरान कार्य कराने वाले एजेंसी के कर्मी विकास कुमार ने बताया कि तीसरे फेज के निर्माण की प्रशासनिक स्वीकृति अबतक भवन निर्माण विभाग के द्वारा नहीं दी गई है जिससे कार्य पूरा नहीं किया गया है। अबतक बोरिग नहीं कराया गया है। मुख्यमंत्री कर सकते हैं उद्घाटन

नवनिर्मित जेल का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कर सकते हैं। जेल आइजी मिथिलेश कुमार मिश्रा ने बताया कि उद्घाटन के लिए मुख्यमंत्री के पास फाइल भेजी गई है। बताया कि मार्च माह में जेल का शुभारंभ कर दिया जाएगा।