मधुमेह से ग्रसित रोगियों की जांच कर दवा सेवन करने की दी सलाह

अररिया। विश्व मधुमेह दिवस के अवसर पर पीएचसी सिकटी में गुरुवार को मधुमेह जांच शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें रोगियों के रक्त के नमूने की जांच कर सर्करा के स्तर का पता लगाकर आवश्यक निर्देश एवं दवा सेवन की सलाह दी गई। जांच शिविर में तैनात चिकित्सक डा. दुर्गेश कुमार एवं डा. अरविद कुमार अकेला ने बताया कि स्वस्थ मनुष्य के शरीर के खून में चीनी की मात्रा 80 से 140 तक सामान्य रहती है। इससे अधिक मात्रा जांच में पाए जाने से मनुष्य मधुमेह रोग से ग्रसित हो जाता है। सामान्यतया यह बीमारी 50 या या उससे अधिक उम्र समूह में पाई जाती है लेकिन विशेष परिस्थिति में इससे कम उम्र के लोग भी ग्रसित हो जाते हैं। इस बीमारी का सबसे बड़ा कारक तनाव होता होता है। फिर खानपान की दिनचर्या भी मायने रखती है। ज्यादा वसायुक्त भोजन भी हानिकारक होता है। शारीरिक परिश्रम एवं व्यायाम, योग इस बीमारी के नियंत्रण में मदद करता है। डाटा आपरेटर मनोज कुमार ने बताया कि शिविर में कुल 116 ओपीडी जांच में से 11 लोगों की मधुमेह जांच करने पर एक रोगी मधुमेह ग्रसित पाया गया। जिन्हें आवश्यक दवा एवं बचाव के बारे में जानकारी दी गई।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.