तेज बारिश से नदियों के जलस्तर में वृद्धि, निचले इलाके में फैला पानी

संसू, सिकटी (अररिया): नेपाल सहित भारतीय सीमावर्ती क्षेत्र में गुरुवार को हुई तेज बारिश के कारण एक बा

JagranThu, 01 Jul 2021 10:01 PM (IST)
तेज बारिश से नदियों के जलस्तर में वृद्धि, निचले इलाके में फैला पानी

संसू, सिकटी (अररिया): नेपाल सहित भारतीय सीमावर्ती क्षेत्र में गुरुवार को हुई तेज बारिश के कारण एक बार फिर नदियों के जल स्तर में वृद्धि हो गई है। नूना नदी में करीब तीन फीट पानी बढ़ जाने से सालगोड़ी होकर बह रही धारा से निचले इलाके में फिर पानी फैल गया है, जिससे सालगोड़ी, कचना, अंसारी टोला एवं औलाबाड़ी के बाहरी भाग में बाढ़ जैसे हालात बन गए हैं। बकरा नदी का जलस्तर बढ़ गया है, लेकिन गहराई होने के कारण अभी पानी नदी के अंदर ही चल रहा है। शाम को बढ़े जल स्तर से सालगोड़ी के तीनो टोले, कचना, मंगलवारी महादलित टोला, अंसारी टोले, औलाबाड़ी में बाढ़ जैसे हालात पैदा हो गए हैं। कचना वार्ड चार में पूर्व मुखिया इसहाक के आंगन में एक बार फिर पानी घुस गया है। इनके अलावा टोले के अन्य लोगों के आंगन में भी पानी प्रवेश कर गया है। सालगोड़ी से कचना जाने वाली सड़क के उपर पानी बह रहा है। कचना से मंगलवारी महादलित टोला जाने वाली सड़क में कटिग पर बने चचरी पुल डूब गया है। टोले में सड़क के पूरब बसे आबादी में पानी का दवाब है। अंसारी टोले के चारों ओर पानी का है। जलस्तर और बढ़ने से घर आंगन में घुस जाएगा। कचना से अंसारी टोला जाने वाली सड़क जलमग्न है। दिन भर लगातार बारिश होने एवं हवा चलने के कारण नूना की धारा में आवागमन के लिए नाव परिचालन में भी कठिनाई हुई। इसी धारा का पानी औलाबाड़ी को भी प्रभावित कर रहा है। प्रमुख प्रतिनिधि खुर्शीद आलम ने बताया कि पानी के मामूली वृद्धि से ये हाल है, तो बाढ़ के समय क्या होगा। नूना की नई धारा से सालगोड़ी के तीनो टोले, कचना, अंसारी टोला, मंगलबारी महादलित टोला इस बार के बाढ़ में जलमग्न हो जाएगा। तब लोगों को दूसरे स्थान पर भेजने की व्यवस्था करनी होगी, जिसकी कोई तैयारी प्रशासनिक रूप से नहीं हो रही है। नेपाल से आने वाले पानी सैदाबाद तक नदी में सिमटी रहती है। उसके आगे दहगामा आते ही नई धारा होकर आबादी मे फैल जाती है, जिससे अभी से त्रासदी शुरू हो गई है।

------------

परमान नदी के जलस्तर में वृद्धि

संसू, रेणुग्राम (अररिया): नेपाल के पहाड़ी क्षेत्र सहित सीमावर्ती भागों में हुई बारिश से फिर नदियों के जलस्तर में बढ़ोतरी हुई है। गुरुवार को परमान, गगराहा सहित अन्य नदियों के जलस्तर में वृद्धि देखी गई है। मंगलवार व बुधवार को जलस्तर में गिरावट देखी गई थी। नदी का जलस्तर अभी खतरे के निशान से काफी नीचे है, लेकिन नदी के घटते बढ़ते जलस्तर से संभावित बाढ़ का भय सताने लगा है। वहीं, खवासपुर, गुरम्ही, घोड़ाघाट सहित अन्य जगहों पर नदी का कटाव भी जारी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.