WheelsEMI ने सेकेंड हैंड टू-व्‍हीलर के मार्केटप्‍लेस और सर्विस क्षेत्र में किया प्रवेश, 2023 तक 10 लाख ग्राहक जोड़ने का लक्ष्य

इसके अलावा कंपनी का मकसद इलेक्ट्रिक टू-व्‍हीलर्स का सबसे बड़ा फाइनेंसर बनना है। इसके साथ कंपनी का विश्वास है कि 2030 तक सभी देश की सड़कों पर दौड़ने वाले नए टू-व्‍हीलर्स में से 30 फीसदी इलेक्ट्रिक व्हीकल्‍स होंगे।

BhavanaTue, 21 Sep 2021 04:06 PM (IST)
बाइक बाजार ने स्थापना के बाद से 1.8 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं को कंपनी से जोड़ा है।

नई दिल्ली। भारत की प्रमुख टू-व्‍हीलर फाइनेंसिंग कंपनी, WheelsEMI pvt. Ltd. ने यूज्‍ड टू-व्‍हीलर मार्केटप्‍लेस और सर्विस के क्षेत्र में उभरते अवभरों का लाभ उठाने के लिए अपने प्रवेश की घोषणा की है। कंपनी ने एक एकीकृत ब्रांड 'बाइक बाजार' के तहत अपनी यात्रा के अगले चरण के हिस्से के रूप में 2023 तक 100 से अधिक फ्रेंचाइजी खोलने और एक मिलियन ग्राहकों को जोड़ने की योजना बनाई है।

टियर 2 और टियर 3 शहरों तक पहुंचाने का लक्ष्य

कंपनी ने कहा कि भारत में पूर्व स्वामित्व वाला दोपहिया बाजार काफी हद तक असंगठित है और इसमें काफी संभावनाएं हैं। वहीं बाइक बाजार का फोकस भारत के टियर 2 और टियर 3 शहरों तक पहुंचना और इस्तेमाल किए गए टू-व्हीलर खरीदने के अनुभव को व्यवहारिक बनाना है। जानकारी के लिए बता दें, बाइक बाजार ब्रांड ने भारत की पहली और सबसे बड़ी टू-व्‍हीलर लाइफ साइकिल मैनेजमेंट कंपनी बनने के विजन को अपना पूर्ण समर्थन दिया है।

करीब 4 साल पहले शुरू हुई थी Bike Bazar कंपनी

बाइक बाजार दोपहिया वाहनों को फाइनेंस करने के अलावा सेकेंड हैंड टू-व्‍हीलर्स के लिए एक पारदर्शी बाजार बनेगा। इसी के साथ कंपनी संपूर्ण ओनरशिप-राइडरशिप साइकिल के तहत बेहतरीन कीमतें भी प्रदान करेगी। बाइक बाजार को करीब साढ़े चार साल पहले शुरू किया गया था। इसके बाद कंपनी की प्रतिष्ठा और उपभोक्ताओं के आधार में लगातार मजबूती आती गई। वहीं अब यह कंपनी ग्रामीण क्षेत्रों में चलने वाले वाहनों, प्रि-ओनड और इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए फाइनेंस उपलब्ध करा रही है।

1.8 लाख ग्राहक जुड़े कंपनी के साथ

बाइक बाजार ने स्थापना के बाद से 1.8 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं को कंपनी से जोड़ा है। कंपनी भारत में 1000 फ्रेंचाइजी के माध्यम से 1.5 बिलियन से ज्यादा की संपत्ति का प्रबंधन करती है। ग्रामीण इलाकों में चलने वाले दोपहिया वाहनों के लिए नए डायरेक्ट कलेक्शन मॉडल और बैंकों तथा ओईएम के बीच रणनीतिक साझेदारी के साथ बाइक बाजार का उद्देश्य 2024 के वित्तीय वर्ष तक 1 मिलियन से ज्यादा ग्राहकों को कंपनी से जोड़ना और इस अवधि में 4000 फ्रेंचाइजी के नेटवर्क को विकसित करना है।

इलेक्ट्रिक टू-व्‍हीलर्स का सबसे बड़ा फाइनेंसर

इसके अलावा कंपनी का मकसद इलेक्ट्रिक टू-व्‍हीलर्स का सबसे बड़ा फाइनेंसर बनना है। कंपनी का विश्वास है कि 2030 तक सभी देश की सड़कों पर दौड़ने वाले नए टू व्‍हीलर्स में से 30 फीसदी इलेक्ट्रिक व्हीकल्‍स होंगे। बाइक बाजार के सहसंस्थापक श्री के. श्रीनिवास ने कहा, “हम एकीकृत ब्रैंड बाइक बाजार के तहत अपने सफर के अगले चरण की ओर काफी उम्मीद से देख रहे हैं। यह बिजनेस के लिए एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है। इस कदम ने भारत की सबसे बड़ी लाइफसाइकल मैनेजमेंट कंपनी बनने के लिए हमारे भविष्य के विजन का प्रतिनिधित्व किया है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.