Toyota बंद करेगा प्रोडक्शन प्लांट, कारों की सप्लाई पर पड़ेगा असर

Toyota कुछ दिनों के लिए बंद करेगा अपना प्रोडक्शन प्लांट

सालाना मेंटेनेंस प्रोग्राम की वजह से Toyota फैक्ट्री में टेंपरेरी रूप से काम प्रभावित होगा और इससे वाहनों के प्रोडक्शन पर भी असर पड़ेगा। कंपनी कोशिश कर रही है कि इस प्रोसीजर से ग्राहक किसी तरह से प्रभावित ना हों।

Vineet SinghFri, 23 Apr 2021 10:53 AM (IST)

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। Toyota Kirloskar motor ने ऐलान किया है कि सालाना मेंटेनेंस प्रोग्राम की वजह से कंपनी के दोनों प्लांट में 26 अप्रैल से लेकर 14 मई 2021 के बीच काम बंद रहेगा। इस दौरान कंपनी के प्लांट में मौजूद मशीनरी सफेद अन्य जरूरी चीजों की मेंटेनेंस की जाएगी। इससे प्लांट में मौजूद इक्विपमेंट्स की प्रोडक्टिविटी बढ़ती है और समय-समय पर इस प्रोसीजर की आवश्यकता होती है।

आपको बता दें कि सालाना मेंटेनेंस प्रोग्राम की वजह से कंपनी की दोनों फैक्ट्री में टेंपरेरी रूप से काम प्रभावित होगा और इससे वाहनों के प्रोडक्शन पर भी असर पड़ेगा। आपको बता दें कि कंपनी कोशिश कर रही है कि इस प्रोसीजर का असर ग्राहकों पर कम से कम पड़े इसके लिए जरूरी प्रावधान किए जाएंगे। इस मेंटेनेंस प्रोग्राम की वजह से कारों के प्रोडक्शन पर असर पड़ेगा हालांकि जो रीबैज मॉडल है उन की सप्लाई पर किसी भी तरह का असर नहीं पड़ेगा। इन मॉडल्स में टोयोटा अर्बन क्रूजर, ग्लैंजा आदि की सप्लाई पर कोई असर नहीं पड़ेगा। इसके साथ ही इंपोर्टेड वाहनों के मॉडल्स पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा।

इस दौरान चुनिंदा कर्मचारियों को ही सोशल डिस्टेंसिंग और जरूरी गाइडलाइंस को फॉलो करते हुए प्लांट के अंदर काम करने दिया जाएगा। कोविड-19 के बढ़ते प्रकोप को ध्यान में रखते हुए कंपनी अपने कर्मचारियों की सुरक्षा का पूरा ध्यान दे रही है और जरूरी प्रिकॉशन भी लेने को कह रही है।

आपको बता दें कि टोयोटा का प्रोडक्शन यूनिट बिड़ाड़ी में स्थित है है जो बेंगलुरु के पास है। यह प्रोडक्शन प्लांट 432 एकड़ में फैला हुआ है और इसकी क्षमता 1 लाख यूनिट की है। वही बात करें दूसरे प्लांट की तो यह 210000 यूनिट की क्षमता से लैस है।

यह मेंटेनेंस प्रोग्राम कंपनी के प्लांट के लिए बेहद जरूरी है जिससे प्लांट में मौजूद मशीनरी और अन्य इक्विपमेंट्स का ख़ास रख-रखाव किया जाता है और इससे मशीनरी की उम्र बढ़ती है और ये अच्छी तरह से काम करते हैं और प्लांट बिना रुकावट के सालों तक काम करता है।  

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.