Maruti WagonR, Tata Harrier समेत 4 नई कारें एक हफ्ते में होगी लॉन्च

नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। नए साल की शुरुआत से ही ऑटो कंपनियों ने अपने नए मॉडल्स के साथ अपनी कमर कस ली है। Toyota Camry Hybrid भारतीय बाजार में लॉन्च हो चुकी है और अब कंपनियां इस हफ्ते में अपनी नई कारें लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं। जैसा कि पहले बताया कंपनियां जनवरी महीने में 5 नई कारें लॉन्च करने जा रही हैं। कैमरी के अलावा अभी 4 कारें और ऐसी हैं जिनका लॉन्च होना अभी बाकी है।

इसकी शुरुआत शुक्रवार को टोयोटा की नई कैमरी से हुई है, लेकिन बाजार में Maruti Suzuki, mercedes benz, निसान और Tata Motors की नई कारें भी लॉन्च होने को तैयार है। इसके बाद BMW व दूसरी कार कंपनियां भी नए उत्पाद के साथ बाजार में बिक्री बढ़ाने की कोशिश करेंगी।

अभी बाजार में जिस वाहन का सबसे ज्यादा इंतजार हो रहा है वह Maruti WagonR का हो रहा है। इसके अलावा टाटा हैरियर भी लॉन्च होने जा रही है। तीन एसयूवी लॉन्च करने की Tata Motors की तैयारियों के तहत लॉन्च की जाने वाली अंतिम एसयूवी होगी। इसकी कीमत 12-18 लाख रुपये होगी। इसके बाद Maruti Suzuki की नई वैगन-आर को लेकर बाजार में चर्चा गर्म है। मध्यम वर्ग की सबसे पसंदीदा कारों में एक वैगर-आर का नया अवतार अगले बुधवार को लॉन्च होने वाला है।

कीमत संभवतः चार से छह लाख रुपये के बीच होगी। वैसे Maruti इस वर्ष दो नई कारें भी लॉन्च करने जा रही है। कंपनी अगले दो वर्षों में आधा दर्जन नए मॉडल उतारने को तैयार है। Maruti की प्रतिद्वंदी कंपनी हुंडई की नई मिड सेग्मेंट एसयूवी को लॉन्च करने की तैयारियां अंतिम चरण में है लेकिन जानकारों का मानना है कि यह संभवतः फरवरी या मार्च में होगा।

निसान की कॉम्पैक्ट एसयूवी किक्स की लॉन्चिंग मंगलवार को होगी। यह हुंडई की क्रेटा, Maruti की एस-क्रॉस से मुकाबला करेगी। साथ ही भारतीय बाजार में निसान की मौजूदगी मजबूत करने में मदद करेगी। इन कंपनियों की तैयारियों को देख कर साफ है कि भारतीय कार बाजार में अभी एसयूवी का ही बोलबाला रहेगा। इसके अलावा मर्सिडिज-बेंज भी अपनी वी-क्लास लग्जरी वैन को लॉन्च करने की तैयारी में है।

अगर सभी कंपनियों की तैयारियों को देखे तो अगले दो वर्षों के दौरान तकरीबन 20 नई एसयूवी लॉन्च करने की तैयारी है। अभी देश में जितनी कारें बिकती हैं उनमें एसयूवी की हिस्सेदारी 30 फीसद के करीब है।

सोसाइटी ऑफ इंडियन आटोमोबाइल मैन्यूफैक्चरर्स के आंकड़ों के मुताबिक जुलाई, 2018 के बाद से लगातार पांच महीनों तक देश मे पैसेंजर कारों की बिक्री घटी है। त्योहारी मौसम में भी कारों की बिक्री में कोई इजाफा नहीं हुआ है। पेट्रोल व डीजल की कीमतों में वृद्धि के अलावा कर्ज मिलने में आ रही दिक्कतों की वजह से बिक्री पर असर पड़ने की बात कही जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.