top menutop menutop menu

Coronavirus से लड़ने के लिए सांस लेने में मदद करेगी Mercedes F1 द्वारा बनाई गई डिवाइस

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। Mercedes हाई परफॉर्मेंस पॉवरट्राइन्स ने 'प्रोजेक्टर पिटलेन' के तौर पर Coronavirus के खिलाफ लड़ाई में अब मदद करने का काम कर रहे हैं। Mercedes High Performance Powertrains ने Formula 1 में 8 कंस्ट्रक्टरों की चैंपियनशिप और 10 ड्राइवरों की चैंपियनशिप जीतने वाले इंजन बनाए हैं।

Mercedes HPP में इंजीनियर्स, यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (UCL) के इंजीनियरों और यूसीएल अस्पताल के चिकित्सकों द्वारा मिलकर बनाए गए सांस लेने की सहायता वाले यंत्र को Coronavirus के खिलाफ जंग में इस्तेमाल करने के लिए यूके की नेशनल हेल्थ सर्विस द्वारा मंजूरी दी गई है। इस सांस लेने वाले यंत्र, 'कंटीन्यूअस पॉजिटिव एयरवे प्रेशर' (CPAP) जो कि कोरोनावायरस रोगियों को गंभीर फेफड़ों के इंफेक्शन के चलते सांस लेने और 'इनवेसिव मैकेनिकल वेंटिलेशन' का उपयोग करने से बचने में मदद करता है। सांस लेने वाला डिवाइस जो शरीर में त्वचा या मुंह के जरिए ट्यूब को जोड़ता है।

वर्तमान स्थिति की बात की जाए तो यूके के अस्पतालों में पूरी तरह से CPAP डिवाइस उपलब्ध नहीं हैं, जो Coronavirus रोगियों को इससे जूझने में मदद करते हैं। इंजीनियर्स और चिकित्सकों ने 18 मार्च से UCL के इंजीनियरिंग हब में इटेलियन और चीन के हॉस्पिटल्स में इस्तेमाल किए जाने वाले CPAP डिवाइस को रिवर्स-इंजीनियर करने के लिए बड़े पैमाने पर प्रोडक्शन किया। यूके रेगुलेटरी बोर्ड ने इसको इस्तेमाल के लिए सिफारिश की है। UCL के अनुसार, "मीटिंग के बाद पहली डिवाइस के प्रोडक्शन में 100 घंटे से भी कम समय लगा।" UCL में टेस्टिंग शुरू हो गई है और जल्द ही इसे रोल-आउट किया जाएगा।

Mercedes HPP के मैनेजिंग डायरेक्टर Andy Cowell ने कहा कि "Formula 1 कम्युनिटी ने मदद की जरूरत होने पर बहुत जल्दी प्रतिक्रिया दिखाई, जो कई अलग-अलग प्रोजेक्ट में इस समय राष्ट्रीय जरूरतों को ध्यान में रखते हुए 'प्रोजेक्ट पिटलेन' के तहत एक साथ काम कर रहे हैं। "हम CPAP प्रोजेक्ट को हाई स्टैंडर्ड तक ले जाने के लिए और बहुत तेजी से काम कर रहे हैं। इसके लिए UCL की सर्विस और अन्य संसाधनों को एक साथ लगाया है।" UCL के मैकेनिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के प्रोफेसर Tim Baker ने पार्टनरशिप की सराहना करते हुए उन्होंने कहा कि ''फिलहाल की जरूरतों को देखते हुए हम काफी खुश हैं कि हम एक ऐसी स्थिति में काम करने में सक्षम थे जिसमें कुछ दिनों तक लग सकते थे।'' 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.