चीन की नाक में दम कर देगा Kalyani M4 आर्मर्ड व्हीकल! लद्दाख में किया जा सकता है तैनात

भारतीय सेना में जल्द शामिल किया जाएगा कल्याणी एम 4

रक्षा मंत्रालय जल्द ही सेना में Kalyani M4 आर्मर्ड व्हीकल को शामिल करने जा रहा है। कल्याणी एक बख्तरबंद वाहन है जिसपर गोली बारूद का असर नहीं होता है और सेना के जवान खुद को सुरक्षित रखते हुए दुश्मनों की हालत खराब कर सकते हैं।

Vineet SinghWed, 24 Feb 2021 05:53 PM (IST)

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारतीय सेना के जवानों के शौर्य के चर्चे तो दुनियाभर में है। भारतीय सेना के जवानों को और ज्यादा मजबूत करने के लिए देश की सरकार लगातार काम कर रही है और इसी क्रम में जल्द ही रक्षा मंत्रालय जल्द ही सेना में Kalyani M4 आर्मर्ड व्हीकल को शामिल करने जा रहा है। कल्याणी एक बख्तरबंद वाहन है जिसपर गोली बारूद का असर नहीं होता है और सेना के जवान खुद को सुरक्षित रखते हुए दुश्मनों की हालत खराब कर सकते हैं। आपको बता दें कि रक्षा मंत्रालय ने भारतीय सेना को Kalyani M4 की सप्लाई करने के लिए भारत फोर्ज लिमिटेड को 177.95 करोड़ रुपये का कॉन्ट्रैक्ट दिया है। ये वाहन पूरी तरह से भारत में निर्मित होगा।

रिपोर्ट्स के अनुसार इस पावरफुल व्हीकल को सबसे पहले लद्दाख में तैनात किया जा सकता है जिससे चीनी सैनिकों की गतिविधियों पर नजर रखी जा सके साथ ही उनके हमले की जवाबी कार्रवाई पूरी ताकत से की जा सके। लद्दाख का मौसम कई बार सेना के खिलाफ भी चला जाता है क्योंकि आम वाहन इस मौसम में जवाब दे जाता है लेकिन कल्याणी खराब से खराब मौसम में भी अपना काम बखूबी करता है और जवानों को भी सुरक्षित रखता है।

जानें क्या है खासियत

Kalyani M4 को आर्म्ड फोर्सेज की जरूरत को पूरा करने के लिए तैयार किया गया है। ये वाहन किसी भी परिस्थिति में काम कर सकता है और अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है। यह व्हीकल खराब रास्तों पर भी आसानी सर रफ़्तार भरने में पूरी तरह से सक्षम है। इस वाहन का इस्तेमाल ख़ास तौर से माइन और IED वाले इलाकों में किया जा सकता है। ख़ास बात तो ये है कि कल्याणी 50kg TNT और IED/रोडसाइड बम धमाकों को झेल सकता है।

इस वाहन के भारतीय सेना में शामिल होने के बाद ताकत दोगुनी हो जाएगी। मेड इन इंडिया होने की वजह से इस वाहन में उन सभी खासियतों को शामिल किया जाएगा जो हर तरह के हालातों में सेना के जवानों की मदद करेंगे। ये वाहन बेहद ही पावरफुल है और बड़ा और भारी होने के बाद भी तेज रफ़्तार से दौड़ने में सक्षम है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.