हुंडई मोटर 900 मिलियन डॉलर खर्च करके रिप्लेस करेगी इलेक्ट्रिक कारों की बैटरी

हुंडई मोटर बैटरी रिप्लेसमेंट में खर्च करेगी 900 मिलियन डॉलर

इस रिकॉल में कंपनी को 900 मिलियन डॉलर का खर्च आएगा। यह पहला मौक़ा है जब कंपनी इतनी बड़ी संख्या में अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के बैटरी पैक को बदलेगी और उनकी जगह पर नये बैटरी पैक को लगाया जाएगा।

Vineet SinghThu, 25 Feb 2021 08:28 AM (IST)

रॉयटर्स, सिओल। Hyundai Motor कंपनी अपने तकरीबन 82,000 इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की बैटरी को बदलने जा रही है। दरअसल इन कारों में बैटरी की वजह से आग लगने का खतरा है जिसे देखते हुए कंपनी ने ये फैसला लिया है। इस रिकॉल में कंपनी को 900 मिलियन डॉलर का खर्च आएगा। यह पहला मौक़ा है जब कंपनी इतनी बड़ी संख्या में अपने इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के बैटरी पैक को बदलेगी और उनकी जगह पर नये बैटरी पैक को लगाया जाएगा 

इस मौके पर कोरिया इंस्टीट्यूट फॉर इंडस्ट्रियल इकोनॉमिक्स एंड ट्रेड के वरिष्ठ शोधकर्ता ली हैंग-कू ने कहा, “यह हुंडई और एलजी दोनों के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं क्योंकि हम इलेक्ट्रिक वाहन युग के शुरुआती चरण में हैं। हुंडई कैसे इसे संभालती है यह न केवल दक्षिण कोरिया में बल्कि अन्य देशों के लिए भी एक मिसाल कायम करेगा। ”

आपको बता दें कि इस रिकॉल में सबसे ज्यादा ध्यान हुंडई Kona EV पर है जो हुंडई की सबसे ज्यादा बिकने वाली इलेक्ट्रिक कार है। इस कार को पिछली साल भी कंपनी ने सॉफ्टवेयर अपग्रेड करने के लिए रिकॉल किया था। दरअसल रिकॉल की गई एक Kona EV में जनवरी महीने के दौरान आग लगने की घटना सामने आई थी। हालांकि साउथ कोरियन अथॉरिटीज ने एक प्रोब लांच किया था जिससे पता लगाया जा सके पहला रिकॉल पर्याप्त था या नहीं।

LG Energy Solution जो कि LG Chem Ltd का एक डिवीजन है इसे ने कार में लगी हुई बैटरीज को मैन्यूफैक्चर किया था उसने कार की बैटरी रिप्लेस करने में जल्दी दिखाई है। 

एक बयान में कहा गया है कि हुंडई बैटरी प्रबंधन प्रणाली में तेजी से फास्ट चार्जिंग वाले तर्क के लिए एलजी के सुझावों को गलत तरीके से इस्तेमाल किया था, बैटरी सेल को जोड़ने को आग के जोखिम के प्रत्यक्ष कारण के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

साउथ कोरियन ट्रांसपोर्ट मिनिस्ट्री की तरफ से दिए गए एक बयान में कहा गया है कि चीन में एलजी एनर्जी की फैक्री में तैयार किए गए कुछ बैटरी सेल्स में खराबी पाई गई है। हुंडई ने अपनी इलेक्ट्रिक कारों में आग लगने के कारणों के बारे में कोई भी टिप्पणी नहीं की है। 

इस मौके पर हुंडई के शेयरों में 3.9 फीसद की गिरावट दर्ज की गई वहीं LG Che ने 2.8 फीसद गिरावट दर्ज की। विश्लेषकों ने कहा कि उन्हें हुंडई द्वारा बताया गया था कि लागतों को कैसे विभाजित किया जाए इस पर एक समझौते पर अगले सप्ताह काम किया जा सकता है। 

आपको बता दें कि दक्षिण कोरिया में कोना इलेक्ट्रिक में आग लगने के 11 मामले, कनाडा में 2 और फिनलैंड और ऑस्ट्रिया में कार में आग लगने का एक-एक मामला सामने आ चुका है और अब तक ऐसे 15 मामले सामने आए हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.