Renault Duster Turbo Review: अपने सेगमेंट में सबसे पॉवरफुल एसयूवी डस्टर टर्बो क्या सभी तरह के ग्राहकों को आएगी पसंद या कुछ चुनिंदा को करेगी सूट?

डस्टर के टर्बो पेट्रोल टॉप एंड वैरिएंट की तस्वीर (फोटो साभार: जागरण)

रेनो की नई डस्टर टर्बो पेट्रोल के साथ हम निकले लंबे सफर पर। अपने इस लेख में आपको बताने जा रहे हैं कि क्या यह एसयूवी सभी तरह के ग्राहकों को सूट करेगी या कुछ चुनिंदा ग्राहक ही इसको समझ पाएंगे।

Publish Date:Wed, 02 Dec 2020 08:37 AM (IST) Author: Bhavana

नई दिल्ली, भावना चौधरी। Duster Turbo Petrol Review: एसयूवी गाड़ियों को पसंद करने वाला वर्ग आज भी भारत में काफी बड़ा है। देखा जाए तो एक से बढ़कर एक एसयूवी मार्केट में मौजूद है। आज हम अपने इस रिव्यू में रेनो की एक ऐसी ही एसयूवी के बारे में लिखने जा रहे हैं, जिसे कंपनी ने ज्यादा पॉवर के साथ मार्केट में उतार बाकी गाड़ियों को दरकिनार कर दिया है। Duster को 2012 में लॉन्च किया गया था और तब से अब तक यह कार मार्केट में लोगों के बीच अपनी एक अहम जगह बनाने में कामयाब रही है। आइए आपको बताते हैं कि 2020 डस्टर कैसे ना सिर्फ अपनी सेगमेंट की सबसे पॉवरफुल कार है, बल्कि सबसे पुराने मॉडल्स में से भी एक है ।

टर्बो टैग के साथ सड़कों पर काफी अलग: रेनो ने अगस्त में भारतीय बाजार में 1.3-लीटर टर्बो पेट्रोल डस्टर को लॉन्च किया था और हमें इसकी हाल ही में टर्बो इंजन से लैस टॉप एंड वैरिएंट को चलाने का मौका मिला। इस कार को रोड़ पर चलाया तो पाया कि यह पुरानी डस्टर से काफी अलग है इसे उबड-खाबड रास्तो पर काफी आराम से आत्मविश्वास के साथ चलाया जा सकता है। साथ ही इसके डिजाइन में दिए गए रेड कलर के कॉस्मेटिक अपडेट इसके बाहरी डिजाइन को निखारते हैं। डस्टर में 17 इंच के डायमंट कट-एलॉय व्हील और छत की रेल पर एक प्रमुख डस्टर बैज इसके एक्टीरियर के लुक को अनोखा बनाता है। इसमें पीछे की तरफ भी एक 'टर्बो' टैग दिया गया है।

सादा इंटीरियर और ड्राइवर का कंफर्ट: कार में 2019 के मॉडल की तुलना में अन्य कोई बदलाव देखने को नहीं मिलता है, बाकी पूरी कार 2019 में पेश किए गए फेसलिफ्ट डस्टर के लगभग समान ही है। जाहीर है, कि इसके 2020 वर्जन में कोई खास बदलाव ना करते हुए कंपनी ने पूरा फोकस इसकी पॉवर पर किया है। तो इसे हेड टर्नर लुक से लैस कार कहने के बजाय एक दमदार एसयूवी कहना ज्यादा जमेगा। बाहरी डिजाइन के सामन ही डस्टर के भीतर भी रेनो का एक सादा इंटीरियर है, हालांकि इसमें ऑटो एसी, रियर कैमरा, ड्राइवर आर्मरेस्ट और इंजन स्टार्ट/स्टॉप स्विच जैसे फीचर्स जरूर दिए गए हैं। कार को हमनें एक बार में करीब 100किलोमीटर के आसपास चलाया तो पाया कि ड्राइविंग सीट भी काफी कंफर्टेबल हैं, यानी आप इसे लंबे सफर पर ले जानें के लिए चुन सकते हैं।

ट्रैफिक में पॉवर: अब बात करें इसकी सबसे खास चीज पॉवर की तो बता दें, कि कंपनी द्वारा इस कार में 152 bhp की अधिकतम पावर बताई जाती है। जिसके चलते यह सबसे फास्ट कॉम्पैक्ट एसयूवी बनने का खिताब हासिल करती है। इसके चलते इसे ट्रैफिक के बीच चलाना उतना ही कठिन है। इसकी पावर को हाईवे के हिसाब से आप बेहतरीन पा सकते हैं, लेकिन कार को खरीदनें के शुरुआती दौर में यह आपको परेशान जरूर कर सकती है। निजी तौर पर मुझे इसके पिकअप को हैंडल करने में कुछ मिनटों का समय लगा। यहाँ डस्टर को नियमित रूप से इस्तेमाल करने वाले और नई कार के रूप में डस्टर लेने वालों को सोचने की जरूरत है।

डस्टर के टर्बो पेट्रोल मॉडल पर सीवीटी ट्रांसमिशन का विकल्प दिया गया है। जो ड्राइविंग को ज्यादा कफंर्ट देता है।

अंत में कुल मिलाकर देखा जाए तो डस्टर की राइड क्वालिटी और मजबूत बॉडी एक अहम प्रमुख बिंदु हैं। जिसके चलते ग्राहक रेनो की डस्टर को एक विकल्प के रूप में चुन सकते हैं। जो वैरिएंट हमनें चलाया उसकी कीमत 13.00 लाख रुपये (एक्स-शोरूम नोएडा) तय की गई है।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.