बारिश के मौसम में कार के केबिन से आती है बुरी स्मेल तो ऐसे कर सकते हैं इसे हमेशा के लिए दूर

बारिश के मौसम में कार चालकों को जो सबसे बड़ी दिक्कत होती है वो केबिन से आने वाली दुर्गन्ध से है। दरअसल नमी की वजह से कार के केबिन में से स्मेल आना बेहद आम है हालांकि कई बार कुछ लोगों की कार से ज्यादा स्मेल आती है।

Vineet SinghSat, 12 Jun 2021 08:14 PM (IST)
बारिश के मौसम में कार के केबिन से बुरी स्मेल को ऐसे करें दूर

नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारत में मानसून की दस्तक हो चुकी है और ऐसे में आए दिन बारिश होती रहेगी। बारिश के मौसम में कार चालकों को जो सबसे बड़ी दिक्कत होती है वो केबिन से आने वाली दुर्गन्ध से है। दरअसल नमी की वजह से कार के केबिन में से स्मेल आना बेहद आम है हालांकि कई बार कुछ लोगों की कार से ज्यादा स्मेल आती है। अगर आप भी कार के केबिन से आने वाली इस स्मेल से परेशान हैं तो आज हम आपको इससे निपटने के तरीके के बारे में बताने जा रहे हैं। तो चलिए जानते हैं कैसे कार से आने वाली इस दुर्गन्ध को दूर किया जा सकता है।

ड्राइविंग से पहले खोल दें कार के दरवाजे

अगर आपकी कार में भी बुरी स्मेल आ रही है तो ड्राइविंग से आधे घंटे पहले कार के सभी दरवाजे खोल कर इसे छोड़ दें। इससे कार के अन्दर फ्रेश हवा जाएगी और स्मेल नहीं रहेगी और आप लंबे समय तक ड्राइविंग के दौरान फ्रेश फील कर पाएंगे।

कार स्प्रे

अगर आपको ड्राइविंग के बाद 8 घंटे के लिए कार को पार्क करना है तो इसमें कार केबिन स्प्रे जरूर करें और फिर इसे लॉक कर दें। इसके बाद जब आपको ड्राइविंग करनी हो तब कुछ देर के लिए इसके दरवाज़े खुले रहने दें।

केबिन ड्राइक्लीनिंग

आपको केबिन से दुर्गन्ध दूर करने के लिए हफ्ते में दो बार कम से कम कार की ड्राई क्लीनिंग करनी चाहिए, इससे कार में बैक्टीरिया नहीं रहते हैं और दुर्गन्ध भी नहीं आती है।

खाने पीने का सामान ना रखें

कार के केबिन में कभी भी भी खाने पीने की चीज़ें ना रखें इससे दुर्गन्ध बढ़ जाती है। ऐसे में हमेशा ड्राइविंग के बात बचे हुए खाने पीने की चीज़ें केबिन के बाहर निकाल लेनी चाहिए।  

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.