इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए रोजाना करें जायफल का सेवन

PubMed Central में छपी एक शोध में यह बताया गया है कि जायफल रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में सक्षम है। यह अग्न्याशय को सेहतमंद कार्य करने के लिए उत्साहित करता है। यह शोध चूहों पर किया गया था।

Umanath SinghPublish: Thu, 13 May 2021 09:57 PM (IST)Updated: Thu, 13 May 2021 09:57 PM (IST)
इम्यून सिस्टम मजबूत करने के लिए रोजाना करें जायफल का सेवन

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। आयुर्वेद में जायफल को औषधि माना जाता है। अंग्रेजी में जायफल को Nutmeg कहा जाता है। इसकी गिनती गरम मसाले में की जाती है। दादी-नानी तेल में जायफल मिलाकर बच्चों की मालिश करती हैं। ऐसा माना जाता है कि इससे हड्डियां मजबूत होती हैं। इसमें एंटी बैक्टीरियल के गुण पाए जाते हैं, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में सहायक सिद्ध होते हैं। साथ ही जायफल में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इससे बढ़ते वजन को कंट्रोल करने में सहायता मिलती है। फाइबर के सेवन से पेट देर तक भरा रहता है। साथ ही क्रेविंग यानी बार-बार खाने की आदत से भी निजात मिलता है डॉक्टर्स भी बदलते मौसम में संक्रमण से बचाव के लिए जायफल का सेवन करने की सलाह देते हैं। इसके सेवन करने से शरीर में प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती है। इसके लिए कोरोना काल में भी जायफल का सेवन किया जा सकता है। आइए, इसके बारे में सबकुछ जानते हैं-

कैसे करें सेवन

इसके लिए एक कप दूध में एक चम्मच शहद और 2 चुटकी जायफल पाउडर को अच्छी तरह से मिलाकर सेवन करें। इसके सेवन से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है। साथ ही अनिद्रा से निजात मिलता है। इसके लिए रोजाना रात में सोने से पहले जायफल दूध का सेवन करें। जायफल के सेवन से पाचन तंत्र मजबूत होता है। साथ ही पाचन में सुधार होता है। इसके सेवन से कब्ज, गैस और बदहजमी की परेशानी दूर होती है।

शुगर कंट्रोल करने में सहायक

PubMed Central में छपी एक शोध में यह बताया गया है कि जायफल रक्त शर्करा स्तर को नियंत्रित करने में सक्षम है। यह अग्नाशय को सेहतमंद कार्य करने के लिए उत्साहित करता है। यह शोध चूहों पर किया गया था। इस शोध में चूहों को जायफल पाउडर का हाई डोज दिया गया था। इससे खुलासा हुआ है कि जायफल शुगर के लिए दवा की तरह काम करता है।

डिस्क्लेमर: स्टोरी के टिप्स और सुझाव सामान्य जानकारी के लिए हैं। इन्हें किसी डॉक्टर या मेडिकल प्रोफेशनल की सलाह के तौर पर नहीं लें। बीमारी या संक्रमण के लक्षणों की स्थिति में डॉक्टर की सलाह जरूर लें।

 

Edited By Umanath Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept