रिम्स में इंटरनेट फेल, सैकड़ों मरीजों की बढ़ी भीड़, कोरोना संक्रम‍ित चार मरीजों की मौत

Jharkhand Health News रिम्स में इंटरनेट सेवा बंद होने की वजह से सुबह से ही अभी तक किसी भी मरीज का इलाज नही हो पाया है। रिम्स में इलाज के दौरान कल ही चार कोरोना संक्रमित की मौत हो गई। आज भिड़ बढ़ी हुई है।

Sanjay KumarPublish: Sat, 29 Jan 2022 12:20 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 12:28 PM (IST)
रिम्स में इंटरनेट फेल, सैकड़ों मरीजों की बढ़ी भीड़, कोरोना संक्रम‍ित चार मरीजों की मौत

रांची, जागरण संवाददाता। Jharkhand Health News : झारखंड की राजधानी रांची में स्थित रिम्स अस्पताल में सुबह 7 बजे से ही इंटरनेट सिस्टम पूरी तरह से फेल है। इंटरनेट फेल होने की वजह से रिम्स में सैकड़ो मरीज परेशान हो रहे हैं। साथ ही रिम्स ओपीडी में दिखाने और पर्ची कटाने को लेकर मरीजों और उनके परिजनों की लंबी कतार लगी हुई है। चिंता कि बात ये है कि कोरोना काल में सुविधाओं को बढ़ाने के बजाय मौजूदा सुविधा को भी रिम्स संभाल नही पा रहा है।

इसका नतीजा ये होने लगा है कि नेट फेल होने से रिम्स में लगातार भिड़ बढ़ते जा रही है। वहीं, बढ़ते भिड़ से कोरोना संक्रमण का खतरा भी बढ़ गया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार इंटरनेट सेवा बंद होने की वजह से रिम्स में सुबह से ही, अभी तक किसी भी मरीज का इलाज नही हो पाया है।

रिम्स में चार कोरोना पीड़ितों की मौत, 170 नए संक्रमित मिलें

झारखंड में भले ही कोरोना संक्रमण की रफ्तार कम हुई है, लेकिन संक्रमितों के मरने का सिलसिला जारी है। शुक्रवार को भी रिम्स में इलाजरत चार कोरोना संक्रमित की मौत हो गई। इधर, 24 घंटे में 170 नए कोरोना संक्रमित जिले से मिलें। जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या सर्वाधिक 852 रही। रिम्स में हुई मौतों में रांची से दो मृतक थे।

मृतकों में रांची के कांटाटोली निवासी 85 वर्षीय वृद्ध व्यक्ति, गुमला के बसीया के रहने वाले 60 वर्षीय पुरुष शामिल हैं। जिनका इलाज रिम्स के न्यू ट्रामा सेंटर में चल रहा था। वहीं कोडरमा के 73 वर्षीय पुरुष और रांची के ही 73 वर्षीय एक और पुरुष की मौत रिम्स के सेंट्रल इमरजेंसी में इलाज के दौरान हुई।

38 कोरोना संक्रमितों का चल रहा है इलाज

बता दें कि रिम्स में 38 कोरोना संक्रमितों का इलाज चल रहा है। न्यू ट्रामा सेंटर के दूसरे तल्ले पर 04 संक्रमित मरीज भर्ती हैं जबकि डेंगू वार्ड में 07, मेडिसिन डी2 में 14, सर्जरी डी2 में 10, पीडियाट्रिक टू में 01 और पीडियाट्रिक सर्जरी में 02 बच्चे इलाजरत हैं।

Edited By Sanjay Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept