पुलिस संस्मरण दिवस पर जैप 1 में शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

पुलिस संस्मरण दिवस पर शहीद पुलिसकर्मियों को जैप 1 के परेड मैदान में श्रद्धांजलि दी गई

JagranPublish: Fri, 22 Oct 2021 06:00 AM (IST)Updated: Fri, 22 Oct 2021 06:00 AM (IST)
पुलिस संस्मरण दिवस पर जैप 1 में शहीदों को दी गई श्रद्धांजलि

जासं, रांची : पुलिस संस्मरण दिवस पर शहीद पुलिसकर्मियों को जैप 1 के परेड मैदान में श्रद्धांजलि दी गई। इस अवसर पर हुए बलिदानियों को याद किया गया। डीजीपी नीरज सिन्हा ने शहीदों के स्मारक पर पुष्प अर्पित किया। डीजीपी द्वारा शहीद सम्मान समारोह के मौके पर बलिदान देने वाले पुलिस पदाधिकारियों और जवानों को श्रद्धांजलि दी गई। डीजीपी ने कहा कि राज्य गठन से अब तक कई अधिकारी और जवान आंतरिक सुरक्षा में अपनी जान गंवा चुके हैं। कहा कि हम उन शहीद पुलिस पदाधिकारियों और जवानों को याद कर रहे हैं,जिन्होंने समाज में शांति व विधि-व्यवस्था बनाये रखने के लिए अपना बलिदान दिया है।

एक वर्ष में पूरे देश में 377 पुलिसकर्मियों ने दिया बलिदान

जैप 1 कमांडेंट अनीश गुप्ता ने कहा कि पिछले एक वर्ष में पूरे देश में 377 पुलिसकर्मियों ने अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए अपने प्राणों की आहूति दी है। जो शहीद हुए हैं उनमें आंध्र प्रदेश के 11, अरुणाचल प्रदेश के 3, असम के 7, बिहार 6, छत्तीसगढ़ 32, हिमाचल प्रदेश 4, झारखंड 4, कर्नाटक 16, केरल 2, मध्यप्रदेश 15, मणिपुर 3, मेघालय 1, ओडिसा 4, पंजाब 2, राजस्थान 2, तमिलनाडु 2, यूपी 4, उत्तराखंड 3, पश्चिम बंगाल 17, चंडीगढ़ 2, अंडमान निकोबार 2, दिल्ली 6, जम्मूकश्मीर 17, लद्दाख 1, असम राइफल्स 3, बीएसएफ 47, सीआइएसएफ 8, सीआरपीएफ 82, आइटीबीपी 54, एनएसजी 8, एसएसबी 5, आरपीएफ 8 व अन्य शामिल हैं। राज्य के पुलिसकर्मियों हवलदार देवेंद्र कुमार पंडित, किरण सुरीन, भारद्वाज साह और दुलेश्वर दास ने अपनी शहादत दी।

---

हथियारों की लगी प्रदर्शनी

इस अवसर पर हथियारों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। एके 47, साढ़े 7 केजी का बुलेटप्रूफ जैकेट, स्निपर, लाइट मशीनगन एलएमजी, कार्बन मशीन गन, 15 केजी का बम डिस्पोजल जैकेट आदि लगाई गई है। बलिदानियों की याद में जैप 1,2,आइआरबी के जवानों ने रक्त दान किया। जैप वन की महिला पुलिसकर्मी कुंती गुरुंग, सृजना सुब्बा, शोभा क्षेत्री, रेखा तमांग ने रक्तदान किया। डीआइजी पंकज कंबोज, एडीजी अभियान संजय आनंद लाटकर, जैप 2 कमांडेंट इंद्रजीत महंथा, जैप 1 कमांडेंट अनीश गुप्ता ने भी रक्तदान किया।

12 अप्रैल 2016 को सरेंडर कर चुके छोटा विकास ने भी रक्त दान किया। सरेंडर करने के पीछे की वजह पूछने पर उसने बताया कि झारखंड पुलिस द्वारा दी गई सलाह व आत्मसमर्पण पॉलिसी के बारे में जाना। इसके बाद मैंने मुख्य धारा में आने का फैसला लिया। पहले भी समाज के लिए काम करता था। अब भी समाज के हित के लिए ही काम करूंगा। बता दें कि छोटा विकास पर 25 लाख रुपये का इनाम थे। वहीं 10 लाख इनामी नक्सली धनेश्वर यादव ने 2016 में आत्म समर्पण किया था। उसने कहा कि पुलिस के विश्वास दिलाने पर मैंने जंगल को त्याग दिया। जब से मुख्यधारा से जुड़ा हूं तब से अच्छा लग रहा है। 21 अक्टूबर 1959 को लद्दाख के हॉट स्प्रींग में चीनी सेना के आक्रमण में सीआरपीएफ अधिकारी करम सिंह अपने 20 साथियों के साथ शहीद हो गए थे। तब से 21 अक्टूबर को पुलिस संस्मरण दिवस मनाया जाता है। जैप परिसर में आजादी के अमृत महोत्सव पर 75 यूनिट रक्तदान किया गया। 70-75 जवानों ने रक्तदान किया।

--

शहीद पुलिसकर्मियों के स्वजनों के साथ है रांची पुलिस

जासं, रांची: पुलिस लाइन सभागार में गुरुवार को पुलिस संस्मरण दिवस मना। मौके पर एसएसपी सुरेंद्र कुमार झा ने शहीद पुलिसकर्मियों को याद करते हुए श्रद्धांजलि दी। शहीद पुलिसकर्मियों को पुष्प अर्पण करते हुए एसएसपी ने कहा कि रांची पुलिस हमेशा उनके साथ है और कभी भी किसी प्रकार की कोई परेशानी होने पर वे तुरंत रांची पुलिस से संपर्क करें। एसएसपी ने कहा कि देश और राज्य के लिए अपने प्राण की आहुति देने वाले वीर पुलिसकर्मियों की शहादत को हमेशा याद किया जाएगा। इस दौरान एसएसपी के अलावा ग्रामीण एसपी नौशाद आलम, कोतवाली एएसपी मुकेश लुनायत और पुलिस लाइन के सार्जेंट मेजर समेत अन्य पुलिसकर्मी मौके पर मौजूद थे। एसएसपी ने शहीदों के परिजनों को शॉल और बुके देकर सम्मानित किया।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept