Jharkhand News: देशभक्ति की भावना के लिए एनसीसी हो अनिवार्य, राज्यपाल रमेश बैस ने उत्कृष्ट झांकी को दिया पुरस्कार

Jharkhand News राज्यपाल रमेश बैस ने कहा है कि युवाओं में देशभक्ति का जज्बा पैदा करने के लिए एनसीसी को अनिवार्य कर देना चाहिए। सोमवार को उन्होंने झारखंड के बीस कैडेटस को सम्मानित किया जो गणतंत्र दिवस परेड का हिस्सा बने थे।

M EkhlaquePublish: Mon, 28 Feb 2022 09:26 PM (IST)Updated: Mon, 28 Feb 2022 09:29 PM (IST)
Jharkhand News: देशभक्ति की भावना के लिए एनसीसी हो अनिवार्य, राज्यपाल रमेश बैस ने उत्कृष्ट झांकी को दिया पुरस्कार

रांची, राज्य ब्यूरो। राज्यपाल रमेश बैस ने कहा है कि युवाओं में देशभक्ति की भावना जागृत करने के लिए एनसीसी को अनिवार्य कर देना चाहिए। उनके अनुसार, इस संदर्भ में कुछ लोगों ने उनसे मिलकर अपने विचार भी रखे थे। निश्चित रूप से एनसीसी से सेवा भाव की भावना जागृत होती है तथा हमारे बच्चों में अनुशासन की भावना प्रबल होती है। राज्यपाल सोमवार को राजभवन में 73वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर नई दिल्ली में आयोजित परेड कार्यक्रम में भाग लेनेवाले एनसीसी कैडेट्स को संबोधित कर रहे थे।

झारखंड के 20 कैडेट्स ने रोशन किया झारखंड का नाम

राज्यपाल ने इस अवसर पर कहा कि राज्य के लिए गौरव व प्रसन्नता का विषय है कि इस साल के गणतंत्र दिवस के परेड में झारखंड से 20 कैडेट्स ने भाग लेकर अपना एवं अपने प्रदेश का नाम रोशन किया। उन्होंने बताया कि वे भी एनसीसी के कैडेट रहे हैं तथा उनका परिवार सेना से जुड़ा हुआ है। उन्होंने कैडेट्स से अपनी मातृभाषा व राष्ट्रभाषा का सदा सम्मान व प्रेम करने हेतु आह्वान किया। राज्यपाल ने कहा कि हमारे यहां कुछ ऐसी प्रवृत्तियां भी हैं कि ट्रैफिक सिग्नल तोड़ने, रेलवे क्रासिंग में फाटक बंद होने पर झुककर पार होने पर बहादुरी समझते हैं, जो कि गलत है। ऐसा करने पर अभिभावकों को समझाना चाहिए। कैडेट्स द्वारा भी एनसीसी से जुड़ने के बाद जीवनशैली में आये परिवर्तन के संदर्भ में अपने अनुभव प्रस्तुत किए गए।

रांची में उत्कृष्ट झांकी, परेड बैंड डिस्पले के लिए पुरस्कार

राज्यपाल ने इस अवसर पर गणतंत्र दिवस समारोह के अवसर पर रांची के मोरहाबादी में आयोजित झांकी, परेड एवं बैंड में उत्कृष्ट प्रदर्शन करनेवाले को सम्मानित किया। झांकी में वन एवं पर्यावरण विभाग को प्रथम, सूचना एवं जन-संपर्क विभाग को द्वितीय तथा ग्रामीण विकास विभाग को तृतीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया। वहीं, परेड में सेना को प्रथम, सीआइएसएफ को द्वितीय तथा जैप-1 को तृतीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया। बैंड में सेना बैंड को प्रथम, जैप-1 को द्वितीय, जैप-10 को तृतीय पुरस्कार से पुरस्कृत किया गया।

Edited By M Ekhlaque

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept