प्रेमी-युगल की हत्या का 70 दिनों बाद भी बनी हुई है मिस्ट्री, हत्यारे को नहीं ढूंढ़ सकी पुलिस, ऐसे चार मामले

Jharkhand Crime News झारखंड के राजधानी रांची में हत्या चोरी के आधा दर्जन से ज्यादा ऐसे पुराने मामले हैं। जिसका उद्भेदन आज तक पुलिस से नहीं हो सका है। भुक्तभोगी परिवार को आज भी अपराधियों के नहीं पकड़े जाने का टीस है।

Sanjay KumarPublish: Mon, 24 Jan 2022 09:35 AM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 09:36 AM (IST)
प्रेमी-युगल की हत्या का 70 दिनों बाद भी बनी हुई है मिस्ट्री, हत्यारे को नहीं ढूंढ़ सकी पुलिस, ऐसे चार मामले

रांची, जागरण संवाददाता। Jharkhand Crime News : राजधानी रांची में हत्या, चोरी के आधा दर्जन से ज्यादा ऐसे पुराने मामले हैं। जिसका उद्भेदन आज तक नहीं हो सका है। पुलिस अनुसंधान फाइलों तक सिमट कर रह गया है। पुलिस को इन मामलों में कोई खास दिलचस्पी नहीं दिख रही है। वहीं, भुक्तभोगी परिवार को आज भी अपराधियों के नहीं पकड़े जाने का टीस है।

  • चार प्रमुख मामले जिसके खुलासे का इंतजार कर रही राजधानीवास

1.राजधानी से सटे तुपुदाना इलाके में 13 नवंबर को प्रेमी

युगल की बेरहमी से हत्या कर दी गई थी। हाइवे से सटे मैदान से दोनों युवक-युवती का शव बरामद होने के बाद सनसनी फैल गई थी। एफएसल टीम के साथ डॉग स्क्वाड को छानबीन के लिए बुलाया गया। घटना को बीते 70 दिन से ज्यादा हो गया। आज भी दोहरा हत्याकांड मिस्ट्री ही बनी हुई है। पुलिस की जांच एक कदम भी नहीं बढ़ सकी है। मृतकों में शांतिनगर निवासी विवेक और कुंबा टोली की रहने वाली पूजा के परिजनों को आज तक नहीं जान पाये हैं कि हत्या किसने की और इसके पीछे वजह क्या है।

2. 42 माह पूर्व शिक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी गई, अपराधी पुलिस गिरफ्त से दूर

राजधानी के अतिव्यस्त लालपुर चौक से महज सौ कदम की दूरी पर गुरुनाक स्कूल के शिक्षक शिवप्रसाद की स्कूटी सवार अपराधियों ने गोली मार कर हत्या कर दी। घटना सात जुलाई 2018 की है। घटना को घटे 42 माह से ज्यादा बीत गए। इस दौरान इनाम की राशि बढ़ाकर 50 हजार से एक लाख रुपये कर दी गई। तीन बार एसआइटी की टीम बनी। नतीजा निकला शून्य। मृतक के स्वजन आज भी हत्यारे की गिरफ्तारी के लिए थाने से लेकर आला अधिकारियों के चक्कर लगाने को मजबूर हैं। जबकि पुलिस कोई जवाब देने की स्थिति में नहीं है। बस इतना ही भरोसा दिया जा रहा है कि केस की छानबीन की जा रही है।

3.10 माह बाद भी दीपक के कातिल को नहीं ढूंढ़ पाई पुलिस

सात मार्च की सुबह उस समय तुपुदाना इलाके में सनसनी फैल गई जब रिंगरोड के किनारे एक युवक का शव बरामद हुआ। शव की पहचान निर्मल निवासी दीपक साहू पिता सेवक साहू के रूप में हुई। शव बरामद होने के तीन दिन पहले दीपक तुपुदाना चौक जाने की बात कहकर घर से निकला था। घर के दीपक का लौटने का बाट जोह रहे स्वजनों को पुलिस शव सौंपी। इस घटना को घटे 10 माह से ज्यादा हो गए। अपराधी कौन है पता नहीं हत्या के कारणों से भी मृतक के स्वजन अंजान हैं। पांच बहनों में इकलौते भाई को खो चुके बहन और माता-पिता आज भी इंसाफ की आस लगाये बैठे हैं।

4.पांच माह पूर्व दुकान से हुई थी लाखों की चोरी, सीसीटीवी में कैद होने के बाद भी चोर नहीं धराया

25 अगस्त 2021 की रात चोरों ने जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के सेक्टर टू स्थित रिशु मोबाइल दुकान से 35 लाख रुपये से ज्यादा के मोबाइल और अन्य इलेक्ट्रोनिक्स उपकरण उड़ा ले गए। दुकान के बाहर लगे सीसीटीवी कैमरे में छह नकाबपोश चोरों का चेहरा कैद हो गया लेकिन इतनी बड़ी चोरी का आज भी खुलासा नहीं हो पाया है। चोर छत काटकर अंदर घुसा था। इसके बाद दुकान से सारे महंगे मोबाइल समेट ले गया। यह चोरी इलाके की सबसे बड़ी चोरी थी। पुलिस कुछ दिन तो हरकत दिखायी इसके बाद सुस्त पड़ गई।

Edited By Sanjay Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम