जानिए, नेपाल में आए भूकंप ने इस कारोबारी को कैसे बना दिया समाजसेवी

Businessman Navjot Alang Story गणतंत्र दिवस के साथ आज शहर के युवा व्यवसायी नवजोत अलंग अपनी जन्मदिन भी मना रहे है। कुछ इस अंदाज में परिवार संग बर्थडे मनाएंगे। नवजोत अलंग का जन्म 26 जनवरी 1982 को रांची के निवारणपुर में हुआ है।

Sanjay KumarPublish: Wed, 26 Jan 2022 11:00 AM (IST)Updated: Wed, 26 Jan 2022 11:00 AM (IST)
जानिए, नेपाल में आए भूकंप ने इस कारोबारी को कैसे बना दिया समाजसेवी

रांची, जागरण संवाददाता। Businessman Navjot Alang Story : झारखंड के राजधानी रांची के एक प्रतिष्ठित युवा व्यवसायी की समाजसेवा में सक्रियता से अलग पहचान बन गई है। दरअसल, आज से 10 वर्ष पूर्व नेपाल में आए भूकंप की वजह से हुए नुकसान एवं लोगों के दयनीय अवस्था ने उन्हें व्यवसाय के साथ समाजसेवा की भी प्रेरणा दी। उसके बाद से युवा व्यवसायी एवं झारखंड चैंबर आफ कामर्स के कार्यकारिणी सदस्य नवजोत अलंग कार्यभार के क्षेत्र में तो सफलता प्राप्त कर ही रहे हैं।

समाज सेवा में भी सक्रिय भूमिका निभाते आ रहे हैं। आज उन्हीं नवजोत अलंग की जन्मदिन है। आज वे अपनी 40वीं जन्मतिथि बना रहे हैं। गणतंत्र दिवस के दिन ही जन्मतिथि होने के कारण यह दिन उनके परिवार में दोहरी खुशियां लेकर आता है। नवजोत बताते हैं कि गणतंत्र दिवस के दिन बचपन से ही फ्लैग होस्टिंग करते आए हैं। लिहाजा इस बार भी वे फ्लैग होस्टिंग जरूर करेंगे और अपने परिवार के साथ बर्थडे भी सेलिब्रेट करेंगे।  

रांची के निवारणपुर में हुआ था उनका जन्म

नवजोत अलंग का जन्म 26 जनवरी, 1982 को रांची के निवारणपुर में हुआ है। पिता दिवंगत जसमिंदर सिंह और माता अमरपाल कौर के उचित मार्गदर्शन एवं संस्कारों की छत्रछाया में उनका और उनकी बड़ी बहन हरमीत कौर का बचपन बीता।

नवजोत ने वर्ष 1998 में मैट्रिक की परीक्षा व वर्ष 2000 में 12वीं की परीक्षा शहर के पीपी कंपाउंड स्थित गुरुनानक स्कूल से पास किया। उसके बाद वर्ष 2003 में डोरंडा कालेज से इतिहास में स्नातक की डिग्री ली। इसके साथ ही उसी वर्ष एनआइआइटी से साफ्टवेयर में डिप्लोमा भी किया।

रांची के पहले ट्रांसपोर्टर परिवार से ताल्लुक रखते हैं नवजोत 

नवजोत बताते हैं कि उनका फैमिली बिजनस ट्रांसपोर्ट का है और वे रांची के पहले ट्रांसपोर्टर परिवार से ताल्लुक रखते हैं।

वर्ष 1958 में उनके दादाजी एवं पिताजी ने यहां सिंह गुड्स कैरियर के नाम से ट्रांसपोर्ट व्यवसाय की शुरुआत की थी, जो आज सफलतापूर्वक चल रहा है।

वर्ष 2006 में आए कंस्ट्रक्शन व्यवसाय के क्षेत्र में, बैंक्वेट एवं रेस्टोरेंट व्यवसाय में भी मिल रही सफलता

नवजोत ने बताया कि वर्ष 2006 में अपने दो दोस्तों के साथ वे कंस्ट्रक्शन बिजनेस के क्षेत्र में आए और सिंह कंस्ट्रक्शंस के नाम से अपना नया व्यवसाय शुरू किया। वहीं, कारोबार में सफलता की सीढ़ियां चढ़ते हुए वर्ष 2017 में शहर के एक अन्य प्रतिष्ठित व्यवसायी कुणाल अजमानी के साथ उन्होंने दा मेफेयर के नाम से

बैंक्वेट हाल की शुरुआत की, जो बैंक्वेट हाल व्यवसाय में एक जाना माना नाम बन गया है।

इसकी सफलता से प्रेरित होकर पिछले महीने ही उन्होंने इसी स्थान पर कोको चिली के नाम से एक रेस्टोरेंट की भी शुरुआत की है। नवजोत ने बताया कि गणतंत्र दिवस के अवसर पर 26 जनवरी को रेस्टोरेंट में आने वाले ग्राहकों को आर्डर पर 26 प्रतिशत की विशेष छूट दी जाएगी।

सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर है सहभागिता

जैसा कि हम ऊपर ही बता चुके हैं कि आज से लगभग 10 साल पूर्व नेपाल में आए जबरदस्त भूकंप से हुए जानमाल के नुकसान ने इनके मन मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव डाला था और तब इनका हृदय भूकंप पीड़ितों की सहायता के लिए द्रवित हो उठा। उसके बाद वे अपने एक दोस्त के साथ मिलकर भूकंप पीड़ितों की सहायता के लिए निकल पड़े और लगभग 10 लाख की सहायता सामग्री एकत्र कर नेपाल हाउस के माध्यम से भूकंप पीड़ितों तक पहुंचाया। दोनों के इस निस्वार्थ सहायता की उस वक्त काफी चर्चा हुई थी।

वहीं, तीन साल पूर्व बिहार में आई बाढ़ और केरल में आई प्राकृतिक आपदा में लोगों की सहायता के लिए भी नवजोत और उनके मित्र जी-जान से जुट गए और आपदा पीड़ितों तक बड़ी मात्रा में सहायता सामग्री पहुंचाई । इस कार्य के लिए राज्य के मुख्य सचिव ने भी नवजोत और उनकी टीम की सराहना करते हुए प्रशंसा पत्र भी प्रदान किया। वहीं, कोरोना काल में भी हजारों जरूरतमंदों के बीच भोजन सहित अन्य सामग्रियों का वितरण किया। आज भी नवजोत जहां जरूरत पड़ती है, वह लोगों की मदद के लिए अवश्य पहुंचते हैं। दूसरे शब्दों में युवा व्यवसायी नवजोत अलंग की सामजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर सहभागिता रहती है।

शहर के विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थाओं से भी हैं जुड़े

व्यवसाय एवं सामाजिक कार्यों के अलावा नवजोत शहर के विभिन्न प्रतिष्ठित संस्थाओं से भी जुड़े हैं। विगत पांच वर्षों से झारखंड चैंबर आफ कामर्स के कार्यकारिणी सदस्य हैं। वहीं, झारखंड सिख फेडरेशन के महासचिव के अलावा रांची डिस्ट्रिक्ट चेस एसोसिएशन के जिला सचिव पद का दायित्व भी सफलतापूर्वक निभा रहे हैं।

इसके अलावा वे पिछले दो वर्षों से डीआरयूसीसी के सदस्य भी हैं। यही नहीं, नवजोत विगत नौ सालों तक गुरु नानक हास्पिटल के कार्यकारिणी सदस्य भी रह चुके हैं।

राष्ट्रीय पर्वों के साथ है सुखद संयोग भी

राष्ट्रीय पर्वों के साथ नवजोत अलंग का एक सुखद संयोग भी है। एक ओर जहां 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के दिन ही उनकी जन्मतिथि है। वहीं, दूसरी ओर दो अक्टूबर, गांधी जयंती के दिन उनका विवाह गगनदीप अलंग के साथ हुआ था।

नवजोत कहते हैं कि वैसे तो राष्ट्रीय पर्वों का अपने आप में बड़ा महत्व है। लेकिन व्यक्तिगत तौर पर इन दो तिथियों से जुड़ने के कारण यह दिन उनके और उनके परिवार के लिए दोहरा महत्व रखता है।

क्रिकेट एवं लजीज व्यंजनों का है शौक 

नवजोत को क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है। वे ए और बी डिवीजन में भी खेल चुके हैं। इसके अलावा वे लजीज व्यंजनों के खाने के भी बड़े शौकीन हैं।

Edited By Sanjay Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम