झारखंड में उत्साह के साथ टीका लगवा रहे बच्चे, बूस्टर डोज में पिछड़ा कोडरमा

Koderma News देश में कोराेना की तीसरी लहर आ चुकी है। राज्य के साथ कोडरमा जिले में भी लगातार नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं दिसंबर में केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि 3 जनवरी से 15 वर्ष से अधिक उम्र के किशोर-किशोरियों को कोरोना

Madhukar KumarPublish: Mon, 17 Jan 2022 03:48 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 03:48 PM (IST)
झारखंड में उत्साह के साथ टीका लगवा रहे बच्चे, बूस्टर डोज में पिछड़ा कोडरमा

कोडरमा, जागरण संवाददाता। कोडरमा जिले में टीकाकरण की गति तेज करने के लिए स्वास्थ्य विभाग प्रयासरत है। 15 वर्ष से अधिक उम्र के किशोर-किशोरियों में टीका लगवाने को लेकर उत्साह देखने को मिल रहा है। वहीं बूस्टर डोज लगवाने में अपेक्षित सफलता नहीं मिल रही है। रोज टीका लगवाने में किशोर-किशोरियों की संख्या करीब 15 सौ तक पहुंच रही है, जबकि बूस्टर डोज लगवाने वालों की संख्या किसी भी दिन सौ का आंकड़ा पार नहीं कर पाई।

टीका लगवाने को लेकर लोगों में उत्साह

देश में कोराेना की तीसरी लहर आ चुकी है। राज्य के साथ कोडरमा जिले में भी लगातार नए मामले सामने आ रहे हैं। वहीं दिसंबर में केंद्र सरकार ने घोषणा की थी कि 3 जनवरी से 15 वर्ष से अधिक उम्र के किशोर-किशोरियों को कोरोना का वैक्सीन लगाया जाएगा। वहीं 10 जनवरी से हेल्थ व फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्गों को टीके का बूस्टर डोज लगाया जाएगा। जिले में किशोर-किशोरियों को टीका लगाने के लिए टीका महोत्सव मनाया जा रहा है। स्कूलों में शिविर लगाए जा रहे हैं। टीका लगवाने को लेकर किशोर वर्ग भी बेहद उत्साहित है। वहीं बूस्टर डोज लेने के लिए हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्ग आगे नहीं आ रहे हैं। पहले चरण में जिले में 14 हजार हेल्थ व फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्गों को टीका लगाने का लक्ष्य है। कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए इसकी सख्त जरूरत समझी जा रही है। इसके बावजूद बूस्टर डोज के प्रति उदासीनता स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों के लिए भी समझ से परे है।

केवल 48 फीसद लोगों ने लिया दूसरा डोज

कोरोना से जंग में टीकाकरण बड़ा हथियार साबित हो रहा है। ज़िले के 84.21 प्रतिशत लोग प्रथम डोज व 48.44 प्रतिशत लोग दूसरा डोज ले चुके हैं। पिछले एक माह में 1454 लोग संक्रमित हुए हैं और एक व्यक्ति की मौत हुई है। वहीं संक्रमण से जल्द स्वस्थ होने वालों की संख्या काफी अच्छी है। कोविड सेंटर में 10 संक्रमित मरीज इलाजरत हैं, इनमें दो आक्सीजन सपोर्ट पर हैं। दोनों ने वैक्सीन का पहला डोज लिया है। बता दें कि 16 जनवरी 2021 को स्वदेशी टीकाकरण की शुरुआत हुई थी।

26 प्रतिशत किशोर-किशोरियों को लगा टीका

कोरोना संक्रमण के खतरे को रोकने के लिए बीते 3 जनवरी से 15 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के किशोर-किशोरियों के लिए टीकाकरण की शुरुआत हुई। कोडरमा सदर अस्पताल, विभिन्न सीएचसी केंद्रों व स्कूलों में शिविर लगाकर जिले के 26 प्रतिशत यानी 14,459 किशोर-किशोरियों को टीका दिया जा चुका है।किशोर-किशोरियों को प्रखंड में लगा टीकाकोडरमा : 6791जयनगर : 4689मरकच्चो : 1735सतगावां : 1244

बूस्टर डोज को लेकर नहीं दिख रहा उत्साह

जिले में 10 जनवरी से हेल्थ वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और बुजुर्गों को बूस्टर डोज दिया जा रहा है। इसको लेकर अब तक लोगों में अधिक उत्साह देखने को नहीं मिल रहा है। पिछले आठ दिनों में केवल दो दिन ही बूस्टर डोज लेने वालों का आंकड़ा सौ को पार कर पाया। अब तक 260 हेल्थवर्कर्स, 258 फ्रंटलाइन वर्कर्स और 18 बुजुर्गों ने बूस्टर डोज लिया है।

मात्र दो दिन में सौ से अधिक लोगों को लगा बूस्टर डोज

10 जनवरी- 96, 11 जनवरी- 89, 12 जनवरी- 132, 13 जनवरी- 56, 14 जनवरी-15, 15 जनवरी- 162

जिले में कोरोना टीका को लेकर 15 से अधिक उम्र के किशोर-किशोरियों में उत्साह है। इसके लिए स्कूलों में भी शिविर लगाए जा रहे हैं। हालांकि, बूस्टर डोज लेने आने वालों की संख्या अभी कम है। बूस्टर डोज लेने के लिए बुजुर्ग सदर अस्पताल व सीएचसी पर नहीं आ रहे हैं। इसकी वजह अधिक ठंड होना भी हो सकता है। कोरोना का दूसरा डोज लिए नौ माह पूरे होने की व्यवस्था के कारण भी कई लोग अभी सेंटरों पर नहीं पहुंच रहे हैं। जल्द ही बूस्टर डोज लेने वालों की संख्या में इजाफा होगा।डॉ. अभय भूषण प्रसाद, वैक्सिनेशन नोडल पदाधिकारी, कोडरमा

Edited By Madhukar Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept