चैैंबर की यह मांग महत्वपूर्ण है : महानगरों की तर्ज पर झारखंड के एक शहर से दूसरे के बीच चलाएं लोकल ट्रेन

झारखंड से यात्री सुविधाओं में बढोत्तरी लंबित रेल परियोजनाओं का कार्य पूर्ण करने सहित अन्य समस्याओं के लिए झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज द्वारा रेल मंत्रालय को पत्र लिखा गया है। साथ ही एक शहर से दूसरे तक लोकल ट्रेनों की कनेक्टिविटी बढ़ाने की मांग की गई है।

Sanjay Kumar SinhaPublish: Mon, 08 Mar 2021 07:59 PM (IST)Updated: Mon, 08 Mar 2021 07:59 PM (IST)
चैैंबर की यह मांग महत्वपूर्ण है : महानगरों की तर्ज पर झारखंड के एक शहर से दूसरे के बीच चलाएं लोकल ट्रेन

रांची(जासं): झारखंड से यात्री सुविधाओं में बढोत्तरी, लंबित रेल परियोजनाओं का कार्य पूर्ण करने सहित अन्य समस्याओं के लिए फेडरेशन आफ झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज द्वारा रेल मंत्रालय को पत्र लिखा गया है। पत्र में कहा गया है कि गिरिडीह में रैक प्वाईंट की स्थापना जरूरी है जिसमें आयरन-ओर, कोयला, सीमेंट इत्यादि मंगाया जा सके क्योंकि गिरिडीह के उद्योगों में प्रत्येक दिन दो रैक आयरन-ओर और दो रैक कोयले की खपत है। यदि यहां रैक सेवा बहाल होती है तो यहां उद्योंगों को काफी सुविधा होगी। 

चैंबर अध्यक्ष प्रवीण जैन छाबडा ने कहा कि पासरनाथ, धनबाद व झाझा से गिरिडीह रेल लाइन काफी समीप है ङ्क्षकतु इस परियोजना पर अब तक कार्य आरंभ नहीं हो सका है। इन सभी रेल लाइनों में फंड एलॉट कराकर कार्य को अविलंब चालू कराया जाना आवश्यक है। 

चैंबर महासचिव राहुल मारू ने कहा कि वर्तमान में निवेशकों के बीच झारखंड के प्रति आकर्षण बढा है, ऐसे में अन्य महानगरों की तर्ज पर झारखंड के सभी प्रमुख शहरों के बीच लोकल ट्रेनों को परिचालित करना आवश्यक है। उन्होंने यह भी सुझाया कि बंद पड़ी  झरिया रेल लाइन पर जोडाफाटक तक सडक निर्माण किया जाय। सडक के दोनों किनारे ट्रैक बनाने से धनसार, जोडाफाटक, पाथडीह, केंदुआ, करकेंद व अन्य आसपास के लोगों को रेलवे स्टेशन पहुंचने में सहूलियत होगी। 

ओवरब्रिज का कराया जाए निर्माण 

चैंबर द्वारा यह भी कहा गया कि साहेबगंज पूर्वी एवं पश्चिमी रेलवे क्राङ्क्षसग पर ओवरब्रिज का निर्माण जो रेल मंत्रालय द्वारा अनुशंसित है, का निर्माण कार्य शीघ्र कराया जाय। यह फाटक प्राय: बंद रहता है जिस कारण शहर जाम व आवागमन में लोगों को कठिनाई होती है।

ये हैैं मांगें 

  • छत्तीसगढ व ओडिसा में जोनल कार्यालय होने से वहां रेलवे परियोजनाओं का विकास हुआ है। ऐसे में आवश्यक है कि रांची, धनबाद व चक्रधरपुर को मिलाकर प्रदेश में एक नया जोनल कार्यालय खोला जाए। 
  • रांची से प्रमुख शहरों के लिए कुछ ट्रेनों को परिचालित करने का भी आग्रह किया गया। मुख्य रूप से तपस्विनी एक्सप्रेस, रांची-दिल्ली गरीब रथ, स्वर्णजयंती एक्सप्रेस, हटिया-पूणे एक्सप्रेस, रांची-भुवनेश्वर, रांची-सूरत, रांची-जयपुर तथा रांची से नई दिल्ली के लिए पूर्व में परिचालित अन्य ट्रेनों को आरंभ करने की मांग की गई। 
  • टोरी लाइन से राजधानी का परिचालन कराया जाय, इससे यात्रा के समय में बचत होती है।

 

Edited By Sanjay kumar Sinha

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept