जिले को बनाया जाएगा एनीमिया मुक्त, अभियान शुरू

खूंटी जिला को एनिमिया मुक्त बनाया जाएगा।

JagranPublish: Fri, 01 Jul 2022 06:53 PM (IST)Updated: Fri, 01 Jul 2022 06:53 PM (IST)
जिले को बनाया जाएगा एनीमिया मुक्त, अभियान शुरू

जिले को बनाया जाएगा एनीमिया मुक्त, अभियान शुरू

जासं, खूंटी: जिला को एनीमिया मुक्त बनाने के अभियान की शुरुआत शुक्रवार को हुई। कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय कालामाटी में आयोजित कार्यक्रम में सिविल सर्जन डा. अजीत खलखो ने द्वीप जलाकर एवं विद्यालय की छात्राओं को आईएफए की गोली खिलाकर इस अभियान का शुभारंभ किया। मौके पर सिविल सर्जन डॉक्टर खलखो ने कहा कि देश की महिलाओं और बच्चों में खतरनाक हद तक बढ़ चुकी रक्ताल्पता (एनिमिया) की स्थिति को सुधारने के लिए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय मिशन मोड पर एनीमिया मुफ्त भारत अभियान की शुरुआत की है। जिसमें उम्र के अनुसार आयरन की गोली एवं सिरप पिलाई जानी है, खूंटी को एनीमिया मुक्त बनाने के लिए एक अभियान के तहत यहां के विद्यालय जाने एवं नहीं जाने वाले छात्र छात्राओं के साथ छह माह से ऊपर आयु के तमाम बच्चों को आयरन की गोली एवं सीरप दिया जाना है। उन्होंने कहा कि कक्षा छह से कक्षा 12 तक के कुल 36729 छात्र छात्राओं को विद्यालय में नीली गोली खिलाई जाएगी। वहीं कक्षा एक से पांच तक के कुल 45509 छात्र छात्राओं को विद्यालय में गुलाबी गोली खिलाई जाएगी। जबकि 10 वर्ष से 19 वर्ष तक के कुल 3479 वैसे बच्चे जो विद्यालय नहीं जाते हैं, उन्हें आंगनबाड़ी में नीली गोली खिलाई जाएगी। जबकि पांच वर्ष से नौ वर्ष तक के कुल 9472 बच्चे जो विद्यालय नहीं जाते हैं, उन्हें आंगनबाड़ी में गुलाबी गोली खिलाई जाएगी। इसके साथ ही छह माह से लेकर पांच वर्ष तक के कुल 59659 बच्चों को आंगनबाड़ी में आईएफए का सीरप पिलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए खूंटी जिले के सभी 1035 विद्यालय के एक - एक शिक्षक, 860 सहिया, 836 आंगनबाड़ी सेविका व सहायिका, तथा 211 एएनएम को अभियान में लगाया गया है। उन्होंने कहा कि खूंटी जिले को हर हाल में एनीमिया मुक्त बनाया जाएगा, ताकि एक स्वस्थ जिले के रूप में खूंटी की पहचान हो। कार्यक्रम का संचालन जिला कार्यक्रम समन्वयक डॉक्टर उदयन शर्मा ने किया। मौके पर डॉक्टर आलोक कुमार, डॉक्टर पिंटू नाडिया हासिम, एसटीटी चंदन सिन्हा, एंजेला तिग्गा, नूतन तिग्गा, अनिमा लाल, राजीव गंझू, सहित विद्यालय की वार्डन, शिक्षिकाएं शिक्षकेतर कर्मचारी आदि मौजूद थे।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept