जयचंद व डरपोक के लिए कांग्रेस में कोई जगह नहीं

संवाद सहयोगी जामताड़ा झारखंड प्रेदश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह के पार्टी छोड़ने के म

JagranPublish: Tue, 25 Jan 2022 07:17 PM (IST)Updated: Tue, 25 Jan 2022 07:17 PM (IST)
जयचंद व डरपोक के लिए कांग्रेस में कोई जगह नहीं

संवाद सहयोगी, जामताड़ा : झारखंड प्रेदश कांग्रेस प्रभारी आरपीएन सिंह के पार्टी छोड़ने के मामले पर जामताड़ा विधायक डा. इरफान अंसारी बेहद हमलावर अंदाज में नजर आए। इरफान ने पार्टी छोड़ते ही आरपीएन सिंह पर कई गंभीर आरोपों की झड़ी लगा दी। डा. इरफान ने आरपीएन को पार्टी का जयचंद तक कह दिया और बोले ऐसे डरपोक लोगों के लिए पार्टी में कोई जगह नहीं है। इरफान इतने पर ही नहीं रूके और पिछले चुनावों के दौरान गोड्डा लोकसभा अल्पसंख्यक सीट पर बोली लगाने तक का भी आरपीएन पर आरोप लगाया। बोले, पैसा लेकर गोड्डा की सीट को बेच डाला और पार्टी की जमानत तक जब्त करा दी। कहा कि आरपीएन दलित, आदिवासी और अल्पसंख्यक को देखना नहीं चाहते थे। झारखंड कांग्रेस को तीन साल से आरपीएन सिंह ने हाइजैक कर लिया था। झारखंड कांग्रेस को आरपीएन के जाने से आजादी मिल गई है। कांग्रेस का एक-एक जमीनी कार्यकर्ता काफी खुश है। कार्यकर्ता मिठाई बांटकर खुशी का इजहार कर रहे हैं। कांग्रेस को बर्बाद करना था आरपीएन का मिशन। कहा कि आरपीएन एक मिशन लेकर झारखंड आए थे। मकसद था कांग्रेस को बर्बाद करना और कांग्रेस को तोड़ना। कई बार उनलोगों ने आलाकमान से मिलना चाहा इनके क्रियाकलाप की बातें पहुंचानी चाही, लेकिन इनके इशारे पर ही उन्हें मिलने नहीं दिया गया। आरपीएन ने झारखंड में चाहे वह सांसद, विधायक, राज्यसभा का टिकट हो या मंत्री पद सबको बेचने का काम किया।

-- प्रभारी बनकर अरबों कमा लिया : डा. इरफान ने कहा कि आरपीएन सिंह ने उनका राजनीतिक करियर बर्बाद करने का प्रयास किया। जिसके पास पैसा था, उसे पद से सम्मानित किया आरपीएन सिंह ने और झारखंड प्रभारी बनकर अरबों रुपया कमाया। वे राजा नहीं, बल्कि अंग्रेजों की गुलामी करते थे। जामताड़ा विधायक बोले, जहां से आरपीएन सिंह चुनाव लड़ेंगे वहां जाकर वे उनके खिलाफ प्रचार करेंगे। आरपीएन भाजपा में भी चंद दिनों के मेहमान हैं। वे ज्यादा दिन वहां टिकने वाले नहीं हैं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept