केनाल में मिला अज्ञात पुरूष का शव, पुलिस जांच में जुटी

गुरुवार को ग्रामीणों को घाघराकोचा गांव के समीप केनाल में कचरे के ढेर में एक शव फंसे होने की सूचना मिली। ग्रामीणों ने तत्काल इस मामले की जानकारी मुसाबनी थाना को दी।

JagranPublish: Fri, 22 Oct 2021 06:30 AM (IST)Updated: Fri, 22 Oct 2021 06:30 AM (IST)
केनाल में मिला अज्ञात पुरूष का शव, पुलिस जांच में जुटी

संसू, मुसाबनी : गुरुवार को ग्रामीणों को घाघराकोचा गांव के समीप केनाल में कचरे के ढेर में एक शव फंसे होने की सूचना मिली। ग्रामीणों ने तत्काल इस मामले की जानकारी मुसाबनी थाना को दी। सूचना मिलने पर डीएसपी चंद्रशेखर आजाद, इंस्पेक्टर केके पंडा, थाना प्रभारी राजा दिलावर, एसआइ अरविद सिंह व मृत्युंजय पांडे पुलिस बल के साथ घटनास्थल पर पहुंचे। केनाल में कचरे के ढेर में एक पुरुष का सड़ा-गला शव फंसा हुआ था। पुलिस ने स्थानीय लोगों के सहयोग से शव को केनाल से निकलवाया। आसपास के लोगों से पूछताछ की गई, परंतु शव की शिनाख्त नहीं हो पाई। थाना प्रभारी ने बताया कि संभवत: गालूडीह बराज का गेट खोले जाने के बाद पानी के तेज बहाव से शव बहकर घाघराकोचा के समीप केनाल के पास आकर झाड़ियों में फंस गया होगा। कहा, इस मामले की जांच की जा रही है। परंतु अब तक मृतक की पहचान नहीं हो पाई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए एमजीएम अस्पताल जमशेदपुर भेज दिया गया है। पोस्टमार्टम के बाद ही मृत्यु का कारण, मृतक की उम्र आदि की जानकारी मिल पाएगी। झाड़फूंक के चक्कर में ब्रेन ट्यूमर के मरीज की मौत : जादूगोड़ा थाना क्षेत्र के दुरकु गांव के रवि गोप गंभीर बीमारी से ग्रसित होने पर परिजनों ने ओझा-गुनी से झाड़फूंक करा रहा था। गुरुवार को गालूडीह स्थित निरामय हेल्थकेयर में इलाज के दौरान रवि गोप की मौत हो गई। रवि की गंभीर स्थिति को देखते हुए पोटका के विधायक संजीव सरदार के प्रयास से उसे बेहतर इलाज के लिए रिम्स भेजा जा रहा था, पर ले जाने से कुछ ही समय पहले रवि की मौत निरामय हेल्थकेयर में ही हो गया। चिकित्सक डॉ सपन महतो ने बताया कि रवि का सिर दर्द होने पर दो दिन पहले निरामय हेलथ सेंटर लाया गया था। दवा से ठीक नही होने पर मरीज का सिटी स्कैन कराया गया, जिसमें ब्रेन ट्यूमर निकला, मरीज को विधायक संजीव सरदार के प्रयास से रिम्स भेजा जा रहा था, पर उसकी मौत हो गई। इस संबंध मृतक रवि के पिता रथु गोप ने बताया कि बेटा का सिर दर्द काफी दिनों हो रहा था, हमलोग समझे कि किसी भूत-प्रेत का साया जकड़ लिया होगा, इस लिए काफी झाड़-फूक कराए पर सिर दर्द काफी बढ़ गया। पहले अगर इलाज कराते, तो शायद बेटा की जान बच सकती है।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम