Red cross Eye Camp : पांच वर्ष की श्रावंती मुंडा की दोनों आंख में मोतियाबिंद, एक का हुआ आपरेशन

Red cross Eye Camp रेडक्रास का नेत्र चिकित्सा शिविर बागबेड़ा स्थित राम मनोहर लोहिया नेत्रालय में आयोजित हुआ। इसमें खास बात यह रही कि बुजुर्गों के बीच पांच वर्ष की श्रावंती मुंडा का आपरेशन हुआ। श्रावंती की दोनों आंख में मोतियाबिंद है।

Rakesh RanjanPublish: Mon, 15 Mar 2021 03:49 PM (IST)Updated: Mon, 15 Mar 2021 03:49 PM (IST)
Red cross Eye Camp : पांच वर्ष की श्रावंती मुंडा की दोनों आंख में मोतियाबिंद, एक का हुआ आपरेशन

जमशेदपुर, जासं। रेडक्रास का नेत्र चिकित्सा शिविर बागबेड़ा स्थित राम मनोहर लोहिया नेत्रालय में हर बार की तरह रविवार को भी हुआ, लेकिन इसमें खास बात यह रही कि बुजुर्गों के बीच पांच वर्ष की श्रावंती मुंडा का आपरेशन हुआ। श्रावंती की दोनों आंख में मोतियाबिंद है, जिसमें से एक आंख का आपरेशन रविवार को कर दिया गया। दूसरी आंख का आपरेशन दो सप्ताह बाद होगा।

श्रावंती के मोतियाबिंद होने की जानकारी तब मिली थी, जब जिला के सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की नुकड़ टीम ग्रामीण जागरुकता अभियान के दौरान गुड़ाबांधा गई थी। वहीं टीम को सबर परिवार की इस बच्ची के अंधेपन की समस्या का पता चला। जिले में अंधापन निवारण की नोडल पदाधिकारी व प्रशिक्षु उपसमाहर्ता स्मिता नागेशिया से समन्वय स्थापित करते हुए रेडक्रास के नेत्र शिविर में छह मार्च को बच्ची की आंखों की जांच कराई गई। छोटी बच्ची होने के कारण निश्चेतक के साथ आपरेशन करने के लिए 14 मार्च की तिथि निर्धारित की गई। इस कार्य में नुक्कड़ टीम के संयोजक रामलाल मार्डी का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

इन चिकित्सकों ने किया आपरेशन

श्रावंती का आपरेशन नेत्र चिकित्सक डॉ. बीपी सिंह की देखरेख में हुआ, जिसमें नेत्र चिकित्सक डॉ. पूनम सिंह, टाटा मोटर्स के निश्चेतक (एनेस्थेटिस्ट) डॉ. अशोक जाडोन व पूरी टीम के साथ डॉ. भारती शर्मा, डॉ. विवेक केडिया, रेडक्रॉस के मानद सचिव विजय कुमार सिंह, परीक्ष्यमान उपसमाहर्ता स्मिता नागेशिया ने चिकित्सीय टीम का हौसला बढाया। आपरेशन के दौरान स्मिता नागेशिया भी उपस्थित रहीं। इस दौरान समाजसेवी चंद्रमोहन सिंह, राकेश मिश्र, उमेश राम, पवन मिश्रा, दीपक शर्मा व रेडक्रास के कार्यकर्ता भी उपस्थित थे। सोमवार को शिविर में आपरेशन कराने वाले सभी नेत्र रोगियों की आंखों की पट्टी खोलकर अंतिम जांच की जाएगी तथा आवश्यक दवा व चश्मा प्रदान कर विदा किया जाएगा।

Edited By Rakesh Ranjan

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept