चाईबासा में शांति व्यवस्था के लिए पुलिस ने निकाला फ्लैग मार्च, पुलिस पर हमले का मास्टरमाइंड आनंद चातर के रिश्तेदारों से भी पुलिस कर रही पूछताछ

चाईबासा शहर में रविवार को हुए दिन भर हुए हंगामे तथा कोल्हान अलग देश मामले में हो रही नियुक्ति को लेकर पुलिस पर हमले के बाद सोमवार को शहर का माहौल शांत रहा। पुलिस पदाधिकारी शहर में लगातार गश्त करते रहे तथा जवानों ने फ्लैग मार्च भी किया।

Jitendra SinghPublish: Mon, 24 Jan 2022 03:30 PM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 03:30 PM (IST)
चाईबासा में शांति व्यवस्था के लिए पुलिस ने निकाला फ्लैग मार्च, पुलिस पर हमले का मास्टरमाइंड आनंद चातर के रिश्तेदारों से भी पुलिस कर रही पूछताछ

चाईबासा, जासं। कोल्हान अलग देश की मांग को लेकर रक्षा दल में नव युवकों की फर्जी भर्ती मामले में चार लोगों के गिरफ्तारी के बाद रविवार दिनभर चले हंगामे, थाना के घेराव , पथराव, पुलिस पर हमला के बाद सोमवार सुबह से ही पुलिस प्रशासन पूरी तरह सर्तक रही। चाईबासा शहर के हर प्रवेश द्वार पर सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी है । रविवार की घटना को लेकर सोमवार सुबह ही सदर अनुमंडल पदाधिकारी शशिद्र बड़ाईक मुफस्सिल थाना में पदाधिकारियों से बैठक कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसके बाद शहर के हर प्रवेश द्वार सरायकेला मोड़, बाईपास मोड़ , तांबा चौक, कॉलेज मोड समेत अन्य जगह पर पुलिस के जवान तैनात कर दिए गए। साथ ही शहर का माहौल खराब ना हो उसको लेकर पुलिस पदाधिकारियों ने शहर में फ्लैग मार्च भी किया। कोल्हान गवर्नमेंट इस्टेट में प्रमुख रूप से मझगांव थाना निवासी आनंद चातार का नाम सामने आने के बाद उसकी खोजबीन में पुलिस जगह-जगह छापामारी कर रही है । साथ ही उनके रिश्तेदारों को भी पुलिस पूछताछ के लिए उठा रही है। इसी में पुलिस प्रशासन ने इस मामले को लेकर कुमारडुंगी से परिवार के कुछ सदस्यों को भी पूछताछ के लिए उठाया है। हालांकि इसकी पुष्टि पुलिस प्रशासन की ओर से नहीं की जा रही है। रविवार के मकाबले सोमवार को शहर व आसपास पूरी तरह शांति का माहौल बना रहा, लेकिन दिन भर लोग इसी मामले को लेकर चर्चा करते रहे।

कौन है कोल्हान अलग देश के भर्ती करने वाला आनंद चातर

आनंद चातर मझगांव थाना क्षेत्र के सोनापोसी पंचायत के बेताझुरी गांव का निवासी है। ग्रेजुएशन तक पढ़ाई करने वाले आनंद कोल्हान अलग देश की मांग करने वाले रामो बिरूवा के सहयोगी के रूप में काम करता था। रामो बिरूवा की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसे भी गिरफ्तार कर जेल भेज द‍िया था। लगभग 5-6 महीने पूर्व ही वह जमानत पर जेल से बाहर आया है। उसके बाद वह कोल्हान गवर्नमेंट इस्टेट नाम से प्रचार प्रसार करते हुए युवक-युवतियों की बहाली करने लगा। आनंद चातर अपने नाम से बने लेटर पैड को नियुक्ति पत्र के रूप में युवकों को 40 साल के लिए बहाल करता था, जिससे कोल्हान की रक्षा किया जा सके। मझगांव पूर्वी भाग से जिला परिषद सदस्य सोमनाथ चातर आनंद का रिश्तेदार है। रामो बिरुवा की मौत के बाद आनंद चातर अपने आपको कोल्हान गवर्नमेंट इस्टेट का खेवटदार नंबर वन कहता है।

Edited By Jitendra Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम