This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

Air India sale : नए खरीदार को मिलेंगे 1500 पायलट, 2000 इंजीनियर और दुनिया भर के एयरपोर्ट पर स्लॉट

Air India sale एयर इंडिया के लिए टाटा समूह व स्पाइसजेट ने वित्तीय बोली लगाई है। एयर इंडिया किसकी झोली में आएगी यह तो वक्त के गर्भ में छिपा है लेकिन जो भी इसका मालिक होगा उसे काफी फायदा होने वाला है।

Jitendra SinghMon, 20 Sep 2021 06:00 AM (IST)
Air India sale : नए खरीदार को मिलेंगे 1500 पायलट, 2000 इंजीनियर और दुनिया भर के एयरपोर्ट पर स्लॉट

जमशेदपुर, जासं। केंद्र सरकार के स्वामित्व वाली एयरलाइन एयर इंडिया आखिरकार सरकार के हाथों से बाहर निकलने का सबसे अच्छा मौका देती है। 15 सितंबर की शाम को दीपम के सचिव तुहिन पांडे ने ट्वीट किया, "लेन-देन सलाहकार द्वारा प्राप्त एयर इंडिया के विनिवेश के लिए वित्तीय बोलियां। अब प्रक्रिया अंतिम चरण में चली गई है।"

ट्वीट के तुरंत बाद टाटा संस ने पुष्टि की कि उसने महाराजा के लिए बोली लगाई थी। सूत्रों ने यह भी संकेत दिया कि स्पाइसजेट के प्रमोटर अजय सिंह ने भी बोली लगाई थी। महाराजा को बेचने के दो असफल प्रयासों के बाद सरकार ने बोली लगाने वालों के लिए शर्तों को और अधिक अनुकूल बना दिया है।

सरकार अपनी इक्विटी शेयर पूंजी का 100 प्रतिशत सरकार के स्वामित्व वाली एयरलाइन में बेच रही है, जिसमें एआई एक्सप्रेस लिमिटेड में एयर इंडिया की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी और एयर इंडिया एसएटीएस एयरपोर्ट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड में 50 प्रतिशत हिस्सेदारी शामिल है।

दिसंबर 2020 में शुरू हुई थी बोली की प्रक्रिया

एयर इंडिया की विनिवेश प्रक्रिया दिसंबर 2020 में संभावित बोलीदाताओं से एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट बुलाए जाने के साथ शुरू हुई थी। तब से सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठा रही है कि यह विनिवेश प्रक्रिया दिसंबर 2020 में संभावित बोलीदाताओं से एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट बुलाए जाने के साथ शुरू हो। तब से सरकार यह सुनिश्चित करने के लिए कदम उठा रही है कि यह विनिवेश प्रक्रिया सफल हो।

पिछले साल अक्टूबर में सरकार ने एयर इंडिया के कर्ज के स्तर को पूर्व निर्धारित नहीं करने का फैसला किया और यह निर्धारित करने के लिए इसे बाजार पर छोड़ दिया, क्योंकि ये कोविड महामारी के कारण अनिश्चितता से भरे समय थे। बाजार द्वारा निर्धारित मूल्य के अलावा जो दो बोलीदाताओं ने उद्धृत किया है, उन्हें उस मूल्य का 15 प्रतिशत नकद देना होगा।

सीबीडीटी ने 30 प्रतिशत तक छूट की बात कही

इस महीने की शुरुआत में केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने कहा था कि एक राज्य द्वारा संचालित कंपनी का खरीदार पूर्ववर्ती राज्य के स्वामित्व वाली कंपनी के नुकसान को आगे बढ़ा सकता है और सालाना 30 प्रतिशत तक कर छूट का दावा कर सकता है।

खरीदारों को प्रोत्साहित करने के लिए एक और कदम में इस बार नए मालिक को केवल सामान्य कार्यशील पूंजी ऋण सहित विमान से संबंधित सभी ऋण लेने की जरूरत है। इसके विपरीत अतिरिक्त कार्यशील पूंजी से संबंधित ऋण और सरकार द्वारा गारंटीकृत कुछ ऋण को कुछ साल पहले स्थापित एक स्पेशल पर्पस व्हीकल (एसपीवी) में स्थानांतरित कर दिया गया है।

नए मालिक को मिलेगी विशेषज्ञ पायलट व इंजीनियरों की जमात

फरवरी में नागरिक उड्डयन मंत्री ने राज्यसभा में बताया था कि एसपीवी को 22,064 करोड़ रुपये की राशि के हस्तांतरण के बाद 2019-20 (अप्रैल-मार्च) के अंतिम आंकड़ों के अनुसार राष्ट्रीय वाहक एयर इंडिया का कुल कर्ज 38,366.39 करोड़ रुपये था। एयर इंडिया इस बार एक आकर्षक खरीद होगी, क्योंकि नए मालिक को लगभग 1,500 उच्च प्रशिक्षित पायलट मिलेंगे, जो एयरबस 320 विमान उड़ाने में सक्षम हैं। \

नए मालिक को ऐसे पायलट भी मिलेंगे जो बड़े बोइंग 777 और 787 विमान उड़ा सकते हैं, जो वर्तमान में भारत और अमेरिका, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया, यूके, जर्मनी और यूरोप के अन्य हिस्सों के बीच नॉन-स्टॉप उड़ानें कर रहे हैं। नए मालिक को बेड़े की देखभाल के लिए 2,000 से अधिक प्रशिक्षित इंजीनियर भी मिलेंगे, जो इस साल मई में 173 विमान थे, जिनमें 13 बोइंग 777-300 विस्तारित रेंज, तीन बोइंग 777-200 लॉन्ग रेंज, 27 बोइंग 787-800 और 27 शामिल थे। एयरबस 321-नया इंजन से युक्त विकल्प विमान।

न्यूयॉर्क, शिकागो सहित कई एयरपोर्ट पर स्लॉट

एयर इंडिया के नए मालिक के लिए एक और प्लस स्लॉट होगा जो एयरलाइन के पास दुनिया भर के हवाई अड्डों में है, जिसमें न्यूयॉर्क, शिकागो, लंदन, नरीता (जापान में) और सियोल शामिल हैं। मुंबई में ही, एयरलाइन के पास 18-सुबह प्रस्थान स्लॉट हैं। एक स्लॉट को नियमित उड़ानों के संचालन के लिए एक हवाई अड्डे पर एक एयरलाइन को उपलब्ध कराए गए आगमन या प्रस्थान के निर्धारित समय के रूप में परिभाषित किया गया है। इस प्रकार नए मालिक को एक एयरलाइन मिलेगी, जो 1932 में शुरू हुई थी, जो अन्य वैश्विक एयरलाइनों के लिए बेंचमार्क सेट करती है और कई विदेशी देशों में मार्केटिंग करती है, जहां एयरलाइन संचालित होती है। इस स्थिति को देखते हुए महाराजा का विनिवेश करते समय यह एयर इंडिया और सरकार दोनों के लिए तीसरी बार भाग्यशाली होने की संभावना है।

वाजपेयी सरकार ने 20 वर्ष पहले बेचने का किया था प्रयास

वाजपेयी सरकार ने 2001 में भी एयर इंडिया को बेचने का प्रयास किया था। इसके बाद मुख्य रूप से केवल अंतरराष्ट्रीय उड़ानों का संचालन किया। टाटा और सिंगापुर एयरलाइंस ने एक कंपनी का गठन किया, लेकिन कंपनी धीमी गति से आगे बढ़ने वाली चीजों के साथ बाहर निकल गई। शुरुआत में हिंदुजा समूह भी उस समय मैदान में था। 11 सितंबर 2001 को संयुक्त राज्य अमेरिका में हुए आतंकवादी हमलों सहित विभिन्न कारणों से पूरी प्रक्रिया को रोक दिया गया था।

मोदी सरकार ने 2017 में किया प्रयास

मोदी सरकार ने 2017 में एयर इंडिया को बेचने का असफल प्रयास किया, लेकिन तब तक इसका विलय हो चुका था। तब किसी ने बोली नहीं लगाई थी, क्योंकि एयर इंडिया की केवल 76 प्रतिशत हिस्सेदारी के मालिक होने के विचार ने बाजार को लगभग ठंडा कर दिया था।

इस बार अगर टाटा एयर इंडिया के लिए सफलतापूर्वक बोली जीत लेती है, तो यह समूह के लिए एक अच्छी जीत होगी। मूल एयर इंडिया की स्थापना जेआरडी टाटा द्वारा की गई थी, जिसने केएलएम, एयर फ्रांस और इंपीरियल एयरवेज जैसे जाने-माने अंतरराष्ट्रीय वाहक भारत-यूके मार्ग पर प्रमुख खिलाड़ी होने पर एयर इंडिया को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लांच किया था। 1948 में एक बिल्कुल नए लॉकहीड नक्षत्र L-749 ने एयर इंडिया इंटरनेशनल के रंगों में उड़ान भरते हुए अपनी पहली मुंबई-जेनेवा-लंदन उड़ान भरी थी।

Edited By: Jitendra Singh

जमशेदपुर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!