Tata Group, Air India : टाटा के पास जाने से पहले एयर इंडिया ने किया यह काम, बाजार में मच गया हड़कंप

Air India Acquisition एयर इंडिया जल्द ही आधिकारिक तौर पर टाटा समूह का हो जाएगा। टाटा समूह की झोली में जाने से पहले एयर इंडिया ने ऐसा काम किया है जिससे बाजार में हड़कंप मच गया है। मामला पीएफ ट्रस्ट से जुड़ा हुआ है....

Jitendra SinghPublish: Thu, 27 Jan 2022 08:30 AM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 08:30 AM (IST)
Tata Group, Air India : टाटा के पास जाने से पहले एयर इंडिया ने किया यह काम, बाजार में मच गया हड़कंप

जमशेदपुर, जासं। टाटा-बाउंड कैरियर में दो प्रोविडेंड फंड ट्रस्ट लगभग 4,500 से 5,000 करोड़ रुपये के बांड पोर्टफोलियो की बिक्री कर रहे हैं, जिसमें राज्यों, केंद्र और कुछ कारपोरेट्स द्वारा बेचे गए ऋण शामिल हैं, क्योंकि टाटा समूह के अधिग्रहण के बाद कॉर्पस का प्रबंधन अब कर्मचारी भविष्य (ईपीएफओ) में स्थानांतरित हो जाएगा। एयर इंडिया को पीएफ ट्रस्टों में अपनी संपत्ति की बिक्री पूरी करनी है। इसके साथ ही इसकी आय ईपीएफओ को हस्तांतरित कर दी जाएगी।

पीएफ ट्रस्ट को लेकर चल रहा विवाद

एक सरकारी अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि प्रक्रिया तेजी से आगे बढ़ रही है और ट्रांसफर जल्द हो जाना चाहिए। हालांकि इस मामले पर एयर इंडिया ने कुछ नहीं कहा है। मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि बजाज फाइनेंस, महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंस, इंडियाबुल्स एडलवाइस, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआइ), आदित्य बिड़ला फाइनेंस, यस बैंक, श्रेय और रिलायंस कैपिटल ऑफर पर अन्य बांड में से हैं। पोर्टफोलियो (मूल्य के संदर्भ में) में रखी गई लगभग तीन-चौथाई प्रतिभूतियों ने विक्रेता को नकद जारी करने के लिए बस स्थान बदल दिया है।

2025 और 2027 तक मैच्योर होंगे बांड

यह कदम स्थानीय ऋण बाजार पर भारी पड़ रहा है, खासकर ऐसे समय में जब बांड यील्ड बढ़ रही है, जो वैश्विक यील्ड स्पाइक्स को दर्शाता है। इस कैलेंडर वर्ष में बेंचमार्क बांड यील्ड में 21 बेस प्राइस की वृद्धि हुई, जिससे कीमतों में गिरावट आई। चुनिंदा बड़े निजी क्षेत्र के बैंकों के साथ स्थानीय बांड हाउस ने उन कागजातों को खरीदा है। बिक्री के लिए कुछ टॉप रेटेड पब्लिक सेक्टर की कंपनियों में पावर फाइनेंस कारपोरेशन, रूरल इलेक्ट्रिफिकेशन कॉर्प और नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआइ) शामिल हैं।

डीलरों ने कहा कि उन प्रतिभूतियों में से कुछ, जो टॉप-रेटेड नहीं हैं, ने 11.68 से 32.52 प्रतिशत तक रिजल्ट दिया। ईसीएल फाइनेंस बांड, A+ (स्टेबल) और AA- रेट किए गए, ने सेकेंड्री मार्केट में 32.52 प्रतिशत रिजल्ट दिया, हालांकि गैर-बैंकिंग फाइनेंस कंपनी ने हाल के दिनों में तनाव का कोई संकेत नहीं दिखाया है।

2015 में 11.25 प्रतिशत के हाई कूपन पर बेचे गए बांड मई 2025 में मैच्योर होने वाले हैं। एक जानकार ने कहा कि यह एक साधारण मांग-आपूर्ति समीकरण है, क्योंकि खरीदार विक्रेता से उत्पन्न एक विशेष स्थिति का लाभ उठाते हैं। इंडियाबुल्स फाइनेंशियल सर्विसेज पेपर्स, AA(स्टेबल) और AA+ रेट किया गया और 10.65 प्रतिशत का कूपन लेकर, 17.95 प्रतिशत पर हाथ बदले। 2012 में बेचे गए ये बांड या प्रतिभूतियां जून 2027 में मैच्योर होंगी।

इन राज्यों के बांड पोर्टफोलियो का हिस्सा

बाजार के सूत्रों ने कहा कि ट्रस्ट को श्रेय समूह के बांड, आईएल एंड एफएस, रिलायंस कमर्शियल फाइनेंस और रेलिगेयर फिनवेस्ट को खरीदार नहीं मिल पाए हैं। सरकारी अधिकारी ने कहा कि ईपीएफओ को पीएफ का हस्तांतरण एयर इंडिया के टाटा को हस्तांतरण के लिए कोई मिसाल नहीं है।

उन्होंने कहा कि ईपीएफओ में ट्रांसफर में किसी भी तरह की देरी से टाटा को ट्रांसफर में देरी नहीं होगी। योजना के अनुसार, एआई को पीएफ के पैसे को ईपीएफओ में ट्रांसफर करना है और पीएफ राशि की बिक्री में किसी भी कमी को भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाएगा।

सरकार ने घाटे को वित्तपोषित करने की जिम्मेदारी ली, लेकिन जब कर्मचारियों ने घाटे को पूरा करने के लिए कहा, तो इस कदम को खारिज कर दिया। बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक और राजस्थान राज्य विद्युत निगम के बांड भी पोर्टफोलियो का हिस्सा थे। इसके अलावा आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्य सरकार के बांड भी पोर्टफोलियो का हिस्सा हैं।

Edited By Jitendra Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept