भाई से कर्ज लेने बैंक आई, ठगों ने चेंज के बहाने ठग लिए रुपये

आवास बनाने के लिए पैसा लेने आए था दपंती मदद को लगाई गुहार ठग ग्रामीणों को बना रहे हैं शिक

JagranPublish: Wed, 01 Dec 2021 08:47 PM (IST)Updated: Wed, 01 Dec 2021 08:47 PM (IST)
भाई से कर्ज लेने बैंक आई, ठगों ने चेंज के बहाने ठग लिए रुपये

आवास बनाने के लिए पैसा लेने आए था दपंती , मदद को लगाई गुहार

ठग ग्रामीणों को बना रहे हैं शिकार, पुलिस ने शुरू की मामले की जांच

संवाद सूत्र चौपारण (हजारीबाग): इन दिनों बडे़ पैमाने पर साधारण कम पढे़ लिखे लोगों को ठगी का शिकार बनाया जा रहा है। एसबीआइ के चौपारण शाखा से जुडा है जहां बैंक परिसर से मंगलवार को बाईस हजार की ठगी की गई। लोंहड़ी का तिलक भुइयां अपनी पत्नी के साथ बैंक से राशि निकालने आया था। दरअसल उसे अपना घर बनाना था। ऐसे में उसकी पत्नी ने अपने भाई रामू भुइयां संझा से कर्ज के तौर पर पैसे की मांग की थी। तीनों मंगलवार को 2:30 बजे के बाद बैंक परिसर पहुंचे। जहां से 33000 रुपये की निकासी की। पैसे निकालने के बाद बैंक में बैठकर ही सभी गिनती करने लगे। उनके पास ही बैठे एक व्यक्ति ने उनसे 2000 के नोट के बदले 500 रुपये नोट देने की बात कही। पैसे की अदला-बदली के दौरान उसने बड़ी चालाकी से 33000 का नोट ले लिया और उसके एवज में महज 11000 दिए। मामले का खुलासा तब हुआ जब तीनों सीमेंट दुकान में पहुंचे। वहां जब पैसा गिनना शुरू किया तो महज 11000 रुपये ही निकले । तब उन्हें ठगे जाने का एहसास हुआ। शाम होने के कारण इसके अगले दिन बुधवार को तीनों बैंक परिसर पहुंचे तथा प्रबंधक विजय बहादुर सिन्हा से शिकायत की। इसके बाद मामला थाना पहुंचा। समाजसेवी डॉ अनुज कुमार ने इन्हें मदद कर पूरे मामले को पुलिस के समक्ष रखा। बैंक के सीसीटीवी फुटेज से पहचान का प्रयास जारी था। इधर भुक्तभोगी परिवार का बुरा हाल था। महिला बार बार कह रही थी कि अब घर कैसे बनेगा। जानकारी हो कि इस तरह के कई मामला हाल के दिनों में देखने को मिल रहा है। जहां बैंक परिसर से ही या तो पैसों की ठगी कर ली जाती है अथवा बैंक के बाहर रखे मोटरसाइकिल की चोरी हो जाती है। बैंक के एटीएम के पास से भी ठगी के मामले सामने आए हैं।

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept