This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

अवैध दुकानों में छापेमारी विवाद में हुई शराब सप्लायर भोला सिंह की हत्या, दो गिरफ्तार

फुसबंगला में जिस अवैध शराब दुकान में भोला को गोली मारी गई थी उसके संचालक नारायण मेहता को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

mritunjayMon, 11 Mar 2019 09:30 AM (IST)
अवैध दुकानों में छापेमारी विवाद में हुई शराब सप्लायर भोला सिंह की हत्या, दो गिरफ्तार

झरिया, जेएनएन। फुसबंगला पुलिया के समीप अवैध शराब दुकान में सरकारी शराब दुकान के सेल्समैन डुमरी दो नंबर निवासी भोला सिंह की हत्या की गुत्थी लगभग सुलझ गई है। मामले में झरिया पुलिस ने ताबड़तोड़ छापामारी कर 12 घंटे के अंदर ही हत्या के आरोपित भागा 16 नंबर निवासी अमित सिंह व उसके साथी शालीमार निवासी संदीप यादव को लोदना तिलाइबनी से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त पिस्टल व दो जिंदा कारतूस भी बरामद कर लिया है।

फुसबंगला में जिस अवैध शराब दुकान में भोला को गोली मारी गई थी, उसके संचालक नारायण मेहता को पुलिस हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है। नारायण के आसपास के अवैध शराब दुकानदार रामचंद्र, संटू समेत आधा दर्जन लोगों को भी हिरासत में लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। प्रारंभिक छानबीन में पता चला कि अमित व उसके सहयोगी अवैध शराब दुकानों में पुलिस व उत्पाद विभाग की छापेमारी को लेकर भोला से नाराज थे। उन्हें लगता था कि भोला ही अवैध शराब दुकानों में छापेमारी कराता है। इसी को लेकर अमित की भोला से खुन्नस थी। सिंदरी के डीएसपी पीके केसरी व झरिया थाना प्रभारी रंधीर कुमार ने भोला की हत्या के आरोपित अमित व संदीप की गिरफ्तारी को लेकर शनिवार को रात भर छापामारी की। पुलिस को सूचना मिली कि दोनों भागा चार नंबर में एक परिचित के यहां छिपे हैं लेकिन छापामारी की भनक पाकर अमित व संदीप दोनों वहां निकल गए। लेकिन पुलिस ने दोनों को लोदना तिलाइबनी के समीप गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में दोनों ने कई बातों का खुलासा किया है। 

हत्या के बाद भाग निकला था अमित : रविवार को पुलिस नारायण को अपने साथ लेकर उसके अवैध शराब दुकान छानबीन को पहुंची। छानबीन में पुलिस को कारतूस का खोखा मिला। नारायण ने बताया कि भोला दुकान आया था। तभी अमित भी पहुंच गया। दुकान के गेट के समीप ही दोनों खड़ा थे। दो से तीन मिनट में ही बकझक के बाद अमित ने भोला को गोली मार दी। गोली चलने की आवाज सुनकर दुकान में भगदड़ मच गई। अमित हाथ में पिस्टल लहराते वहां से भाग गया। 

तीन दिनों से पिस्टल लहरा रहा था अमित : अमित अवैध शराब बेचने, जुआ अड्डा का संचालन समेत कई अवैध धंधे में शामिल है। स्थानीय लोगों ने बताया कि अमित पिछले दो दिनों से भागा-फुसबंगला में पिस्टल लेकर चल रहा था। दो दिन पूर्व ही भागा के राजा नामक युवक को भी पिस्टल सटा दिया था। लोगों के जुटने के बाद अमित वहां से भाग निकला था। कई लोगों के साथ उसने मारपीट भी की थी। अमित लोगों से कहता था कि उसके पास पैसा नहीं है। उसको पैसा दो नही तो ठीक नहीं होगा। कुछ माह पहले वह निजी आउटसोॢसंग में काम करता था। अपनी आदत के कारण वहां से भी निकाला गया। 

केंदुआ में रिश्तेदार के यहां छिपाई थी पिस्टल : भोला को गोली मारने के बाद अमित अपने साथी संदीप के साथ पिस्टल को छुपाने के लिए शनिवार की रात ही केंदुआ गंसाडीह में संदीप की बहन के ससुराल पहुंचा। पिस्टल को एक थैला में बांध कर रख देने की बात कही। इसके बाद दोनों वहां से अहले सुबह निकल गए। जब पुलिस पिस्टल बरामदगी के लिए गंसाडीह पहुंची तो घर के लोगों पे कुछ बताने से मना कर दिया। तब पुलिस एक महिला को अपने साथ लेकर थाना आई। करीब आधा घंटे के बाद ही एक अन्य महिला ने झरिया थाना पहुंचकर पिस्टल होने की जानकारी दी। पुलिस दोबारा गंसाडीह गई और पिस्टल को बरामद किया। 

भोला सिंह की हत्या के मामले का पुलिस अनुसंधान कर रही है। जल्द ही सारे मामले का खुलासा होगा। दोषियों को कड़ी सजा मिलेगी।

- पीके केसरी, सिंदरी, डीएसपी 

धनबाद में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!