रेलवे की फूली जोनल ट्रेनिंग स्कूल के खाने में घपला मछली घटी तो डीआरएम को ट्वीट

रेलवे में ट्रेनिंग को दिक्कत हुई तो सीधे डीआरएम को ट्वीट कर दिया। सर यहां प्रतिदिन खाना घट रहा है। थोड़ा जांच करें कौन हमारा पैसा खा रहा है। ऐसी बातें ट्वीट कर इस पर कार्रवाई करने की बात कही।

Atul SinghPublish: Mon, 25 Oct 2021 02:59 PM (IST)Updated: Mon, 25 Oct 2021 06:21 PM (IST)
रेलवे की फूली जोनल ट्रेनिंग स्कूल के खाने में घपला मछली घटी तो डीआरएम को ट्वीट

जागरण संवाददाता, धनबाद : डीआरएम साहब...। ट्रेनी का रोज खाना घट जा रहा है। कल मछली कम पड़ गया। मैनेजमेंट में जो लोग हैं, ट्रेनी के लिए कम खाना अलाॅट कर रहे हैं। जरा जांच करें महोदय। कौन चोरी कर रहा है ट्रेनी का पैसा....। वाकया रेलवे के भूली जोनल ट्रेनिंग स्कूल का है। ट्विटर पर मामला शेयर होते ही धनबाद से बंगाल तक खलबली मच गई है।

धनबाद के भूली में रेलवे का जोनल ट्रेनिंग स्कूल की स्थापना 1965 में हुई थी। धनबाद पूर्व मध्य रेल के दायरे में है। 2001 तक पूर्व रेलवे के अधीन रहने के बाद एक अक्टूबर 2002 को धनबाद रेल मंडल पूर्व रेलवे ने अलग होकर पूर्व मध्य रेल में शामिल हो गया। पर भूली का जोनल ट्रेनिंग स्कूल आज भी पूर्व रेलवे के नियंत्रण में है जहां कई जोन और रेल मंडल के कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जाता है। प्रशिक्षु कर्मचारियों के लिए ठहरने के साथ-साथ खान-पान की भी सुविधा है। इसके लिए ट्रेनिंग स्कूल में मेस चलता है। मेस में प्रशिक्षु को मिलने वाली खान-पान सुविधा पर सवाल उठ गया है। ट्विटर पर राजीव सिंह नाम के शख्स ने शिकायत की है। उन्होंने बताया है कि पांच वर्षों से मेस की देखरेख कर रहे थे। संबंधित अधिकारी पीके मिश्रा के दिशा-निर्देश पर उनका काम चल रहा था। अब उन्हें प्रबंधन से सांठ-गांठ कर हटा दिया गया है। हालांकि शिकायतकर्ता खुद मेस से जुड़े रहे हैं। लिहाजा, पूरे मामले की जांच के बाद ही यह साफ होगा कि वाकई खान-पान में गड़बड़ी हो रही है या नहीं। मामला ट्विटर पर शेयर होने के बाद आसनसोल के डीआरएम ने संज्ञान लिया है। जवाब में उन्होंने लिखा है कि मामले की सूचना संबंधित अधिकारी को दे दी गई है। जोनल ट्रेनिंग स्कूल पूर्व रेलवे के अधीन होने की वजह से वहीं से अधिकारी इसकी जांच करेंगे। गड़बड़ी मिलने पर कार्रवाई भी तय होगी।

Edited By Atul Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept