जागरण की खबर का संज्ञान लेकर पारा एथलिट अजय को मदद के लिए उपायुक्त की पहल

जिले के बाघमारा इलाके के मलकेरा के रहने वाले राष्ट्रीय पैरा एथलीट अजय पासवान की मदद के लिए उपायुक्त संदीप सिंह ने पहल शुरू कर दी है। पासवान को मदद के लिए उपायुक्त ने जिला खेल पदाधिकारी को पत्र लिख कर हरसंभव नियमानुसार मदद करने का निर्देश दिया है।

Atul SinghPublish: Thu, 27 Jan 2022 05:15 PM (IST)Updated: Thu, 27 Jan 2022 05:15 PM (IST)
जागरण की खबर का संज्ञान लेकर पारा एथलिट अजय को मदद के लिए उपायुक्त की पहल

जागरण संवाददाता, धनबाद: जिले के बाघमारा इलाके के मलकेरा के रहने वाले राष्ट्रीय पैरा एथलीट अजय पासवान की मदद के लिए उपायुक्त संदीप सिंह ने पहल शुरू कर दी है। पासवान को मदद के लिए उपायुक्त ने जिला खेल पदाधिकारी को पत्र लिख कर हरसंभव नियमानुसार मदद करने का निर्देश दिया है।

गौरतलब है कि इस प्रतिभाशाली पारा एथलिट अजय पासवान की आर्थिक दुश्वारियों को लेकर दैनिक जागरण ने प्रमुखता से खबरों का समय समय पर प्रकाशन किया है। अभी पिछले सप्ताह ही एक बार फिर से अजय की नियोजन को लेकर उपायुक्त से लगाई गई गुहार को दैनिक जागरण से प्रकाशित किया था। जिसका संज्ञान उपायुक्त ने लेते हुए जिला खेल पदाधिकारी को उसे आर्थिक मदद देने का निर्देश जारी किया है।

इसकी जानकारी देते हुए उपायुक्त ने कहा कि पासवान का आवेदन उनके कार्यालय को मिला था। वह किसी कारण से कार्यालय से बाहर थे। लेकिन इस बारे में उनको जानकारी दैनिक जागरण में प्रकाशित खबरों के माध्यम से ही मिली। तब उन्होंने इस बारे में जिला खेल पदाधिकारी को तलब किया और उनको पासवान को नियमानुसार हर संभव मदद करने का निर्देश दिया है।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पैरा एथलीट अजय पासवान 24 मेडल अब तक जीत चुका है। कई बार वह पैसे के अभाव में खेलने के लिए विदेश भी नहीं जा सका। अभी उसकी आर्थिक स्थिति इतनी चरमरा गई है कि वह टीबी की बीमारी से जूझ रहे अपने पिता का इलाज नहीं करा पा रहा। इसके अलावा वह खुद दिव्यांग होने के कारण कोई काम करने में असर्मथ है। जिस कारण वह नियोजन के लिए लगातार जिला समाहरणालय का चक्कर काट रहा है.

बीते शुक्रवार को ही दिव्यांग खिलाड़ी जिला समाहरणालय धनबाद उपायुक्त से मिलने पहुंचा था। उस समय दैनिक जागरण से बात कतरे हुए उसने कहा था कि परिस्थितियां ऐसी हो गई हैं कि उसके सामने आत्महत्या के अलावा और कोई उपाय नहीं बच गया है। यदि किसी भी तरह की मदद नहीं मिली तो चह पूरे परिवार के साथ आत्महत्या कर लेगा।

Edited By Atul Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम