This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

झरिया रेल लाइन के ऊपर खड़ी हो रही नई इमारत

जागरण संवाददाता धनबाद लगता है अब घर बनाने के लिए जमीन खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। रेलवे की खाली जमीन पर जहां चाहें इमारत खड़ी कर सकते हैं। ताजा मामला बंद झरिया रेलवे लाइन का है जिस पर टेलीफोन एक्सचेंस रोड किनारे नई इमारत खड़ी हो रही है। लोग बेफिक्र रेलवे लाइन के ऊपर अपने सपनों का आशियाना तैयार कर रहे हैं। जमीन में धंसी रेल पटरी पर बने रहे मकान का वीडियो वायरल हो रहा है।

JagranWed, 25 Aug 2021 05:40 AM (IST)
झरिया रेल लाइन के ऊपर खड़ी हो रही नई इमारत

जागरण संवाददाता, धनबाद : लगता है अब घर बनाने के लिए जमीन खरीदने की जरूरत नहीं पड़ेगी। रेलवे की खाली जमीन पर जहां चाहें इमारत खड़ी कर सकते हैं। ताजा मामला बंद झरिया रेलवे लाइन का है जिस पर टेलीफोन एक्सचेंस रोड किनारे नई इमारत खड़ी हो रही है। लोग बेफिक्र रेलवे लाइन के ऊपर अपने सपनों का आशियाना तैयार कर रहे हैं। जमीन में धंसी रेल पटरी पर बने रहे मकान का वीडियो वायरल हो रहा है। यहां तक कि डीआरएम को ट्वीट कर मामले की शिकायत की गई है। उन्हें वीडियो भी शेयर किया गया है। पर अफसरों के पास झांकने तक की फुर्सत नहीं है।

----

183 परिवारों को मिला था हाई कोर्ट से स्टे, अब 2000 से ज्यादा झोपड़ियां और खटाल

झरिया रेलवे लाइन वर्ष 2002 में बंद हुई थी। ट्रेनों के पहिए थमते ही जमीन पर कब्जा शुरू हो गया। तकरीबन डेढ़ दशक बाद वर्ष 2017 में रेलवे ने इस खाली जमीन पर पार्क बनाने की योजना बनाई ताकि अतिक्रमण पर नकेल कसा जा सके। इसके लिए नगर निगम से सारी प्रक्रियाएं भी पूरी ली गईं। उस जमीन पर बसे लोगों को रेलवे ने नोटिस भी भेजा। उनके नहीं हटने पर रेलवे ने जिला प्रशासन से मदद मांगी। प्रशासनिक कवायद शुरू होते ही वहां रहने वाले लोगों ने हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। हाई कोर्ट में अपना पक्ष रखकर बताया कि उस स्थान पर 183 परिवार वर्ष 1944 से रह रहे हैं। निगम को टैक्स और बिजली बिल भी चुकाते हैं। रेलवे ने जमीन उसकी होने का दावा तो किया पर हाई कोर्ट में इससे जुड़े दस्तावेज पेश नहीं कर सकी। लिहाजा, हाई कोर्ट ने वहां बसे लोगों को हटाने पर स्टे लगा दिया। न्यायालय ने 183 परिवारों के लिए स्टे आर्डर दिया था। इसका लाभ दूसरे लोगों ने भी उठाया। अब झरिया रेल लाइन पर दो हजार से ज्यादा झोपड़ियां और खटाल हैं। यहां तक कि रेललाइन के ऊपर भी मकान बन गए हैं। नये मकान भी तैयार हो रहे हैं। रेल लाइन किनारे बनी ऊंची इमारतों तक पहुंचने की सड़क भी पटरी के ऊपर से गुजरी है।

Edited By Jagran

धनबाद में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!