22 जनवरी को लेट पहुंचेगी राजधानी... मुंबई से रांची जाने वाली ट्रेन भी लेट; कोहरे ने बदला ट्रेनों का टाइम टेबल

घने कोहरे ट्रेनों के पहिए बुरी तरह लड़खड़ा गए हैं। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी इतनी कम हो गई है कि ट्रेनें बैलगाड़ी से भी धीमी रफ्तार से सरक रही हैं। कोहरे में फंसी ट्रेने अपने गंतव्य को घंटों लेट से पहुंच रही हैं।

Atul SinghPublish: Fri, 21 Jan 2022 05:52 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 05:52 PM (IST)
22 जनवरी को लेट पहुंचेगी राजधानी... मुंबई से रांची जाने वाली ट्रेन भी लेट; कोहरे ने बदला ट्रेनों का टाइम टेबल

जागरण संवाददाता, धनबाद : घने कोहरे ट्रेनों के पहिए बुरी तरह लड़खड़ा गए हैं। कोहरे की वजह से विजिबिलिटी इतनी कम हो गई है कि ट्रेनें बैलगाड़ी से भी धीमी रफ्तार से सरक रही हैं। कोहरे में फंसी ट्रेने अपने गंतव्य को घंटों लेट से पहुंच रही हैं। इस वजह से वहां से खुलने के समय में फेरबदल किए जा रहे हैं। सियालदह से नई दिल्ली जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस 21 जनवरी को घंटों लेट से नई दिल्ली पहुंची। इसलिए 21 जनवरी की शाम नई दिल्ली से सियालदह जाने वाली 12314 नई दिल्ली सियालदह राजधानी 2 घंटे लेट से खुलेगी। रेलवे ने शाम 4:30 पर खुलने वाली ट्रेन के शाम 6:30 पर रवाना होने की सूचना जारी की है। इसी तरह रांची से (मुंबई) लोकमान्य तिलक स्टेशन तक जाने वाली साप्ताहिक ट्रेन 10 घंटे लेट से लोकमान्य तिलक पहुंची है। इस वजह से लोकमान्य तिलक से खुलने वाली ट्रेन को रेलवे ने रीशेड्यूल कर दिया है। 21 जनवरी को शाम 4:40 पर खुलने वाली ट्रेन अब देर रात 11:35 पर खुलेगी। लोकमान्य तिलक से लेट खुलने की वजह से शनिवार को गोमो और बोकारो होकर चलने वाली 18610 एलटीटी-रांची एक्सप्रेस लेट से पहुंचेगी।

आज भी राजधानी, दुरंतो और मुंबई मेल समेत ज्यादातर ट्रेनें लेट आई

समूचे उत्तर भारत में घने कोहरे की वजह से 21 जनवरी को धनबाद आने वाली ज्यादातर ट्रेनें लेट से आईं। इनमें नई दिल्ली हावड़ा राजधानी, नई दिल्ली सियालदह राजधानी, मुंबई मेल, दुरंतो समेत दूसरी महत्वपूर्ण ट्रेनें शामिल हैं। नई दिल्ली सियालदह राजधानी 3 घंटे 6 मिनट लेट, दिल्ली हावड़ा राजधानी 2 घंटे लेट, देहरादून एक्सप्रेस 1 घंटे 10 मिनट लेट, कालका से हावड़ा जाने वाली नेताजी एक्सप्रेस लगभग 3 घंटे लेट, बीकानेर सियालदह दुरंतो एक्सप्रेस लगभग 3 घंटे लेट और मुंबई से हावड़ा जाने वाली मुंबई मेल एक घंटे लेट से आई।

Edited By Atul Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept