जरमुंडी सीओ और थानेदार देते भू-माफिया को संरक्षण, पढ़ें- Dumka Commissioner की जांच रिपोर्ट

आयुक्त ने आदेश में कहा है कि इससे स्पष्ट है कि बिंदिया देवी पति स्वर्गीय पवन पंडा की पैतृक भूमि को अवैध रूप में हड़पने में अनिरूद्ध सिंह को अंचल अधिकारी एवं थाना प्रभारी का संरक्षण मिला हुआ है। अंचलाधिकारी ने महज एक पत्र थाना प्रभारी को भेज औपचारिकता निभाई।

MritunjayPublish: Wed, 01 Dec 2021 08:16 AM (IST)Updated: Wed, 01 Dec 2021 08:16 AM (IST)
जरमुंडी सीओ और थानेदार देते भू-माफिया को संरक्षण, पढ़ें- Dumka Commissioner की जांच रिपोर्ट

जागरण संवाददाता, दुमका। झारखंड की उपराजधानी दुमका में अधिकारी जमीन कारोबारियों के इशारे पर काम कर रहे हैं। आम आदमी की समस्याओं के प्रति उनकी रूचि नहीं रहती है। जमीन माफिया के लिए हर काम करने को तैयार होते हैं। यह बात जरमुंडी अंचल के सीओ और थानेदार पर तो साबित भी हो चुकी है। जरमुंडी थाना क्षेत्र में अवैध रूप से भूमि हड़पने वाले माफिया को अंचलाधिकारी और थानेदार का संरक्षण प्राप्त है। जांच में यह बात सच साबित होने पर आयुक्त चंद्र मोहन कश्यप ने कड़ी कार्रवाई करने का आदेश दिया है। आयुक्त ने अपने आदेश में जरमुंडी के अंचलाधिकारी राजकुमार प्रसाद और थानेदार नवल किशोर सिंह के विरुद्ध उपायुक्त और पुलिस अधीक्षक को पत्र भेजा है। इसमें अंचलाधिकारी के विरुद्ध तत्काल आरोप पत्र गठित कर विभागीय कार्रवाई करने और थानेदार को तत्काल प्रभाव से वहां से हटाने का आदेश दिया है।

दरअसल, 25 नवंबर को आयुक्त ने जरमुंडी अंचल कार्यालय का निरीक्षण किया था। इसी दौरान बासुकीनाथ क्षेत्र की बिंदिया देवी ने आयुक्त से अपने जमाबंदी नंबर- 65, दाग संख्या- 592 को भू माफिया की मिलीभगत से हड़पने की नीयत से रात के अंधेरे में निर्माण कार्य कराने संबंधी शिकायत र्की थी। आयुक्त ने जांच कराई तो पता चला कि भूमि पर विमल राउत के अधिकार की पुष्टि नहीं होती है। फिर भी विमल के पक्ष से रंगदार बेलगुमा निवासी अनिरुद्ध सिंह उक्त जमीन पर अवैध रूप से निर्माण कार्य करा रहा है। पूछताछ में अंचल अधिकारी व प्रभारी अंचल निरीक्षक ने बताया कि थाना को सूचना देने के बावजूद अनिरूद्ध सिंह रात में अवैध रूप से चहारदीवारी का निर्माण करा रहा है। सीओ ने भूमि पर यथास्थिति बनाए रखने के लिए 14 अगस्त को थाना प्रभारी को निर्देश दिया था, लेकिन उनके द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई।

आयुक्त ने अपने आदेश में कहा है कि इससे स्पष्ट है कि बिंदिया देवी, पति स्वर्गीय पवन पंडा की पैतृक भूमि को अवैध रूप में हड़पने में अनिरूद्ध सिंह को अंचल अधिकारी एवं थाना प्रभारी का संरक्षण मिला हुआ है। अंचलाधिकारी ने महज एक पत्र थाना प्रभारी को प्रतिवेदित कर औपचारिकता निभाई। आयुक्त ने जांच में अंचलाधिकारी और थानेदार की मिलीभगत सामने आने के बाद थानेदार को तत्काल प्रभाव से हटाने और अंचलाधिकारी के विरुद्ध आरोप पत्र गठित कर विभागीय कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

अभी तक थानेदार पर कार्रवाई करने के लिए आयुक्त के स्तर से कोई पत्र नहीं मिला है। अगर मिला तो आदेश का पालन कर समुचित कार्रवाई की जाएगी।

-अंबर लकड़ा, पुलिस अधीक्षक, दुमका

Edited By Mritunjay

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept